You are here:

प्‍यूर्टो रिको की स्‍टेफनी डेल वैले बनीं मिस वर्ल्‍ड 2016

ऑक्‍जॉन हिल: प्‍यूर्टो रिको की सुंदरी स्‍टेफनी डेल वैले ने रविवार को मिस वर्ल्‍ड 2016 का ताज अपने नाम कर लिया. उन्‍होंने डोमिनिक रिपब्लिक और इंडोनेशिया की प्रतियोगियों को हराकर यह खिताब जीता.
भूरी आंखों वाली 19 वर्षीय स्‍टेफनी डेल वैले स्‍पैनिश, अंग्रेजी और फ्रेंच भाषाएं बोलती हैं और मनोरंजन के क्षेत्र में करियर बनाने की चाहत रखती हैं.
स्‍टेफनी को मिस वर्ल्‍ड 2015 स्‍पेन की मिरिया लालागुना ने ताज पहनाया. स्‍टेफनी ने कहा कि अपने कैरेबियाई देश का प्रतिनिधित्‍व करना सम्‍मान और बहुत बड़ी जिम्‍मेदारी की बात है.
मिस डॉमिनिकन रिपब्लिक यारिट्जा मिगुएलीना पहली रनरअप रहीं जबकि रेयेस रमिरेज़ दूसरे और मिस इंडोनेशिया नताशा मैनुएला तीसरे नंबर पर रहीं.
केन्‍या और फिलिपींस की प्रतियोगी भी शीर्ष 5 प्रतियोगियों में शामिल रहीं.

 

   

फेसबुक पर फर्जी और नफरत फैलाने वाली पोस्ट के लिए 5 लाख यूरो का जुर्माना लगाएगा जर्मनी

लंदन: जर्मनी ने एक नया कानून पारित किया है, जिससे वह दुनिया के अग्रणी सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर हर फर्जी पोस्ट के लिए पांच लाख यूरो का जुर्माना लगाएगा. फेसबुक पर यह जुर्माना पोस्ट प्रसारित होने के 24 घंटे के अंदर न हटाए जाने की स्थिति में लगाया जाएगा. गौरतलब है कि फेसबुक ने एक दिन पहले ही घोषणा की है कि वह फर्जी खबरों और अफवाहों पर लगाम लगाने के लिए प्रभावी कदम उठा रहा है.
आयरलैंड के समाचार-पत्र 'आइरिश टाइम्स' के वेब संस्करण पर रविवार को प्रसारित रिपोर्ट में कहा गया है, "कई वर्षो से अमेरिकी सोशल नेटवर्किंग कंपनी से फर्जी खबरों और नफरत फैलाने वाली पोस्टों के खिलाफ तेजी से काम करने के लिए कहा जा रहा था, लेकिन बर्लिन ने अब स्पष्ट कर दिया है कि वह अब अत्म-नियंत्रण के भरोसे बैठा नहीं रहेगा."
जर्मनी की सत्तारूढ़ सोशल डेमोक्रेट्स (एसपीडी) पार्टी के नेता थॉमस ऑपरमैन के हवाले से समाचार पत्र ने लिखा है, "फेसबुक ने शिकायत मिलने पर उचित कार्यवाही करने के मौके का उपयोग नहीं किया."
उन्होंने कहा कि फेसबुक, एसपीडी और सत्तारूढ़ दल की गठबंधन सहयोगी पार्टियों के बीच संपर्क बिठाने की लंबी और अथक कोशिशों में असफल होने के बाद चांसलर एजेंला मर्केल की क्रिस्टियन डेमोक्रेटिक यूनियन (सीडीयू) ने नए वर्ष पर नया कानून पारित किए जाने पर सहमति दे दी. इस कानून के तहत सभी इंटरनेट कंपनियों को जर्मनी में एक अनुबंध पर हस्ताक्षर करना होगा, जिसके तहत उन्हें फर्जी खबरों और नफरत फैलाने वाले अफवाहों के खिलाफ कार्यवाही करनी होगी.

   

‘आम’ की दावत उड़ाने होटल पहुंचा हाथी का परिवार, रहने के लिए कमरा बुक

जाम्बिया, हाथी के साथ इंसानों की दोस्ती के किस्से तो आपने बहुत सुने होंगे, लेकिन अफ्रीका के एक होटल में मेहमाननवाजी का लुत्फ उठाने हाथियों का एक परिवार हर साल आता है। इस साल भी तीन हाथियों का एक परिवार जाम्बिया के म्फूवे लॉज में पहुंच चुका है।
चिंघाड़कर स्टाफ को बुलाया :
जाम्बिया सफारी के पास एक जंगल में बीचोबीच बने इस लॉज के रिसेप्शन पर अचानक एक हाथी पहुंचा। साथ में पत्नी और बच्चे भी था। रिसेप्शन पर चिंघाड़कर लॉज के स्टाफ को बुलाया और अपने रहने के लिए कमरा बुक कराया। जगह ऐसी जिसमें तीन सदस्य रह सकें।
जनाब कुछ दिन छुट्टियां मनाने पहुंचे। लॉज कर्मियों ने भी इनके स्वागत में कोई कमी नहीं की, सालों पुराने मेहमान जो हैं। इनके रहने का बंदोबस्त किया गया।

   

रूस पर भड़के ओबामा, कहा- US Election के दौरान साइबर हमले के पीछे पुतिन

वाशिंगटन, एजेंसी . निवर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने आरोप लगाया है कि रूस ने अपने राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के इशारों पर अमेरिकी चुनाव के दौरान डेमोक्रेटिक पार्टी और हिलेरी क्लिंटन अभियान के सर्वर और ईमेल प्रणालियां हैक कीं जिससे नर्वाचित डोनाल्ड ट्रंप को मदद मिली थी।
ओबामा ने व्हाइट हाउस में एक संवाददाता सम्मेलन में पुतिन की संलिप्तता की ओर इशारा करते हुए कहा, मैं कह सकता हूं कि जो खुफिया रिपोर्ट मैंने देखी है उनसे उनके इस आकलन में मेरा बहुत विश्वास हुआ है कि रूसियों ने साइबर हमले किए हैं। रूस में व्लादिमीर पुतिन के बगैर कुछ नहीं हो सकता।
उन्होंने कहा, उन्होंने डेमोक्रेटिक पार्टी के उन ई-मेल को हैक किया जिनमे कुछ आम बातें थी, उनमे से कुछ बुरा व असहज भी था क्योंकि मुझे संदेह है कि अगर हम में से किसी का ई-मेल हैक हुआ है तो उसमें कुछ अवैध या विवादस्पद न होने के बावजूद हम नहीं चाहेंगे कि वह अचानक समाचारपत्रों की सुर्खियां बनें या इसका प्रसारण हो।
चिंतित ओबामा ने अमेरिकी चुनाव को प्रभावित करने के कथित प्रयासों को ले कर रूस की तीखी आलोचना की और कहा कि रूस में किसी चीज का उत्पादन नहीं होता और उनमें नवोन्मेष की कमी है। ओबामा ने कहा, हमें इस बात पर विचार करने की जरूरत है कि यहां हमारी राजनीतिक संस्कृति को क्या हो रहा है। रूस हमें बदल या उल्लेखनीय रूप से कमजोर नहीं कर सकता है। वह एक छोटा देश है। वह एक कमजोर देश है। उनकी अर्थव्यवस्था तेल, गैस और हथियारों के अलावा ऐसा कुछ उत्पादन नहीं करती जिसे कोई खरीदना चाहे। वह नवोन्मेष नहीं करते।

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1799780

Site Designed by Manmohit Grover