You are here:

ट्रम्प को मिली राहत, शरणार्थियों पर रोक लगाने की सुप्रीम कोर्ट ने दी मंजूरी

वॉशिंगटन.अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट ने शरणार्थियों पर व्यापक प्रतिबंध लगाने की अनुमति दे दी है। यह प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प के लिए राहत की खबर है। उन्होंने प्रेसिडेंट बनने के बाद ऐसे प्रतिबंध लगाने के कई निर्णय लिए थे।
फेडरल कोर्ट ने पिछले दिनों ट्रम्प के आदेश पर रोक लगा दी थी। इतना ही नहीं, फेडरल कोर्ट ने 24,000 अतिरिक्त शरणार्थियों को अमेरिका आने की अनुमति भी दे दी थी। पर ट्रम्प प्रशासन ने इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी।
ट्रम्प ने तब कहा था, ‘हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि हम उन खतरों को अपने देश में न आने दें, जिनसे हमारे सैनिक विदेशों में लड़ रहे हैं। हम सिर्फ उन्हीं को अपने देश में आने देना चाहते हैं, जो हमारे देश को सहयोग देंगे और हमारी जनता से गहरा प्रेम करेंगे।’
शासकीय आदेश में यह भी कहा गया कि 9/11 के बाद अमेरिका ने देश की सुरक्षा के लिए जो कदम उठाए, वे आतंकियों का देश में प्रवेश रोकने में कारगर नहीं रहे हैं।

   

नॉर्थ कोरिया के मिसाइल टेस्ट को लेकर UN में अमेरिका-जापान ने बुलाई बैठक

न्यूयॉर्क.नॉर्थ कोरिया के एक बार फिर जापान के ऊपर से बैलिस्टिक मिसाइल दागी है। इस लेकर शुक्रवार दोपहर 3 बजे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने बैठक बुलाई है। यह बैठक अमेरिका और जापान के अनुरोध पर हो रही है।
साउथ कोरिया और जापान के अधिकारियों ने बताया कि नॉर्थ कोरिया ने शुक्रवार को प्रशांत महासागर में जापान के नॉर्थ होक्काइदो आइलैंड तक मार करने वाले मिसाइल का टेस्ट किया।
बता दें, 15 सदस्यीय सुरक्षा परिषद ने बीते सोमवार को नॉर्थ कोरिया द्वारा तीन सितंबर को किए गए न्यूक्लियर टेस्ट के कारण सर्वसम्मति से कपड़ा एक्सपोर्ट और कच्चे तेल के इम्पोर्ट पर प्रतिबंध लगा दिया था। यूएन द्वारा 2006 के बाद से उ. कोरिया पर लगाया गया ये नौवां प्रतिबंध प्रस्ताव था।

   

इराक में बम विस्फोट में 60 से ज्यादा की मौत, सैकड़ों घायल

इंटरनेशनल डेस्क.इराक के नसिरियाह शहर में गुरुवार दोपहर को एक रेस्तरां के पास हुए विस्फोट में 60 से ज्यादा लोगों की मौत और सैकड़ों के घायल होने की खबर है। प्रेस टीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी जसीम अल-खलीदी ने कहा कि कुछ लोगों के गंभीर रूप से घायल होने की वजह से मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है। इराक के गृह मंत्रालय के प्रक्ता साद मान ने कहा कि इसके कुछ देर बाद इसी इलाके में एक कार बम ने एक सुरक्षा जांच चौकी को भी निशाना बनाया। इन घातक हमलों की किसी ने तत्काल जिम्मेदारी नहीं ली है। इराक के संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन (यूएनएएमआई) के अनुसार, अगस्त महीने में आतंकवादी हमलों व दूसरी हिंसा में कुल 125 इराकी नागरिकों ने अपनी जान गंवाई है और 188 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं।

   

Nkorea ने जापान के ऊपर से फिर दागी मिसाइल, आबे बोले- ये बर्दाश्त नहीं

सिओल. नॉर्थ कोरिया ने एक बार फिर जापान के ऊपर से बैलिस्टिक मिसाइल दागी है। बीते 18 दिन में दूसरी बार है जब नॉर्थ कोरिया ने जापान पर मिसाइल दागी। 3 सितंबर को ही उसने 6th न्यूक्लियर टेस्ट (हाइड्रोजन बम) किया था। नॉर्थ कोरिया के जापान पर लगातार मिसाइल दागने से क्षेत्र में तनाव और बढ़ सकता है। जापान के डिफेंस मिनिस्टर ने पीएम शिंजो आबे से इमरजेंसी मीटिंग की। हाइड्रोजन बम टेस्ट के बाद यूएन ने नॉर्थ कोरिया पर और कड़े बैन लगाए थे। जापान के पीएम शिंजो आबे ने कहा कि नॉर्थ कोरिया की उकसावे की कार्रवाई को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। 3700 किमी दूर गई मिसाइल...

- न्यूज एजेंसी के मुताबिक साउथ कोरिया की डिफेंस मिनिस्ट्री ने बताया कि नॉर्थ की मिसाइल ने संभवत: 3700 किमी की दूरी तय की और वह 770 किमी की ऊंचाई तक गई।
- अमेरिकी पैसिफिक कमांड ने कन्फर्म किया कि नॉर्थ की ये मिसाइल, इंटरमीडिएट रेंज बैलिस्टिक मिसाइल (IRBM) थी। लेकिन इससे अमेरिका या फिर प्रशांत महासागर में यूएस टेरिटरी गुआम को कोई खतरा नहीं है। हालांकि इससे क्षेत्र में तनाव बढ़ सकता है।
- इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रैटजिक स्टडीज के जोसेफ डेंप्सी ने कहा कि नॉर्थ की इस मिसाइल ने अब तक की सबसे ज्यादा दूरी तय की।
- जैसे ही मिसाइल जापान के ऊपर से निकली, होक्काइदो आइलैंड के दक्षिणी हिस्से केप एरिमो में लाउडस्पीकर पर अनाउंस किया गया- मिसाइल लॉन्च हुआ है।
Q&A में जानें, नॉर्थ कोरिया का मिसाइल लॉन्च
1# क्या हो सकती है नॉर्थ कोरिया के मिसाइल दागने की वजह?
- 3 सितंबर को नॉर्थ कोरिया ने 6th न्यूक्लियर टेस्ट किया था। इसके बाद यूएन सिक्युरिटी काउंसिल ने नॉर्थ पर 8 नए बैन लगा दिए थे।
- नॉर्थ का ताजा मिसाइल टेस्ट बैन की नाराजगी भी हो सकती है।
- नॉर्थ के मिसाइल दागने के चलते यूएन सिक्युरिटी काउंसिल ने शुक्रवार को इमरजेंसी मीटिंग भी बुलाई है।
2# इससे पहले नॉर्थ कोरिया ने कब दागी थी मिसाइल?
- 29 अगस्त को नॉर्थ कोरिया ने जापान के ऊपर से ह्वासोंग-12 मिसाइल दागी थी। ये भी इंटरमीडिएट रेंज बैलिस्टिक मिसाइल (IRBM) थी।
3# क्या साबित करना चाहता है नॉर्थ कोरिया?
- सिओल की यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ कोरियन स्टडीज के यांग मू-जिन ने बताया, "किम जोंग-उन ये मैसेज देना चाहता है कि उस पर किसी बैन या सेंक्शंस का असर नहीं है और वह खाली धमकियां ही नहीं दे रहा।"
4# जापान ने क्या कहा?
- जापान के पीएम शिंजो आबे ने कहा कि नॉर्थ कोरिया के उकसावे की कार्रवाई के कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। हम किम जोंग-उन को इसका जवाब देंगे।
- जापान सरकार के चीफ स्पोक्सपर्सन योशीहिदे सुगा ने कहा कि नॉर्थ कोरिया को कड़े शब्दों में इसका जवाब दिया जाएगा।
5# क्या बोले US एक्सपर्ट?
- सेंटर फॉर नेशनल इंटरेस्ट डायरेक्टर ऑफ डिफेंस स्टडीज हैरी जे कजियानिस के मुताबिक, "नॉर्थ कोरिया ने एक बार फिर इंटरनेशनल कम्युनिटी को धता बताते हुए मिसाइल दागी और वह फिर से जापान के ऊपर से निकली। मिसाइल लॉन्च या नॉर्थ की ऐसी हरकतों से हमें जरा भी आश्चर्य नहीं हुआ।"
- "सेंक्शंस और इंटरनेशनल प्रेशर के बावजूद नॉर्थ कोरिया अपना न्यूक्लियर प्रोग्राम चला रहा है। वह शिद्दत से नए तरह की मिसाइलें और एटमी हथियार बनाने में जुटा है। आने वाले वक्त में हमें उसके और टेस्ट देखने के लिए तैयार रहना चाहिए।"
- व्हाइट हाउस ने कहा है कि डोनाल्ड ट्रम्प मिसाइल लॉन्च पर ब्रीफिंग करेंगे।
6# अब तक क्या कर चुका है नॉर्थ कोरिया?
- नॉर्थ कोरिया 6 न्यूक्लियर टेस्ट कर चुका है।
- इस साल अप्रैल में किम जोंग-उन ने समुद्र में लाइव फायरिंग कराई थी। इसे नॉर्थ कोरिया की अब तक की सबसे बड़ी मिलिट्री एक्सरसाइज कहा गया था।
- अप्रैल में ही नॉर्थ कोरिया डे के मौके पर उन ने परेड में हथियारों की ताकत का प्रदर्शन किया था।
- इस साल फरवरी से अब तक नॉर्थ कोरिया मीडियम रेंज की कई मिसाइलों का टेस्ट कर चुका है। इनमें से ज्यादातर मिसाइलें जापान की तरफ ही दागी गईं।
- किम जोंग-उन कई बार कह चुका है कि अमेरिका ने अगर जंग की तो इसका जवाब एटमी हमले से दिया जाएगा।
7# अमेरिका ने क्या किया?
- अमेरिका ने कोरियाई पेनिनसुला में जंगी जहाज कार्ल विन्सन भेजा था। साथ ही नॉर्थ कोरिया को काउंटर करने के लिए साउथ कोरिया में THAAD मिसाइलों की तैनाती की थी।
- हाल ही में अमेरिका और साउथ कोरिया ने साथ में मिलिट्री एक्सरसाइज भी की थी। नॉर्थ कोरिया ने इसे जंग का खतरा करार दिया था।
नॉर्थ कोरिया के 6 न्यूक्लियर टेस्ट
- नॉर्थ कोरिया 2006, 2009, 2013 और 2016 में न्यूक्लियर बम की टेस्टिंग कर चुका है।
- 9 अक्टूबर, 2006- पहली बार जमीन के अंदर किया न्यूक्लियर टेस्ट। यूएस से एटमी वॉर का बताया था खतरा।
- 25 मई, 2009- दूसरी बार किया एटमी टेस्ट।
- 13 जून, 2009- नॉर्थ कोरिया ने कहा कि वो यूरेनियम एनरिचमेंट करेगा। इसे न्यूक्लियर वेपन्स और प्लूटोनियम बेस्ड रिएक्टर बनाने की संभावना माना गया।
- 11 मई, 2010- न्यूक्लियर फ्यूजन रिएक्टर बनाने का दावा किया। आशंका जताई गई कि नॉर्थ ज्यादा पावरफुल बम बनाएगा।
- 13 फरवरी, 2013- तीसरी बार न्यूक्लियर टेस्ट किया।
- 10 दिसंबर, 2015- तानाशाह उन का दावा- हासिल की हाइड्रोजन बम टेस्ट की कैपिबिलिटी।
- 6 जनवरी, 2016- हाइड्रोजन बम का टेस्ट किया।
- सितंबर, 2016- पांचवां एटमी टेस्ट किया।
- 3 सितंबर, 2017- छठा एटमी टेस्ट किया। ये हाइड्रोजन बम था।

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1781046

Site Designed by Manmohit Grover