You are here:

PAK के क्वेटा में आर्मी को निशाना बनाकर ब्लास्ट; 8 जवान समेत 17 की मौत

कराची. पाकिस्तान के क्वेटा में शनिवार को सिक्युरिटी फोर्स की एक गाड़ी को निशाना बनाकर ब्लास्ट किया गया, जिसमें सेना के 8 जवानों समेत 17 लोगों की मौत हो गई। 30 से ज्यादा घायल हो गए। इनमें 10 जवान शामिल हैं। जियो टीवी के मुताबिक, शनिवार देर रात यह विस्फोट पिशिन बस स्टॉप के पास हुआ जो कड़ी सिक्युरिटी वाला इलाका है। मीडिया रिपोर्ट्स ने बलूचिस्तान के गृह मंत्री मीर सरफराज बुगती के हवाले से बताया कि ब्लास्ट फ्रंटियर कोर के एक ट्रक को निशाना बना कर किया गया। 14 अगस्त को पाकिस्तान का इंडिपेंडेंस-डे...
- इंटर-सर्विस पब्लिक रिलेशन (ISPR) के डीजी मेजर जनरल आसिफ गफूर ने एक ट्वीट किया, "यह हमला इंडिपेंडेंस डे फेस्टिवल में खलल डालने के इरादे से किया गया है। हमारा इरादा किसी चुनौती के आगे घुटने नहीं टेकेगा।"
- बता दें कि सोमवार (14 अगस्त) को पाकिस्तान का स्वतंत्रता दिवस है। हमले के बाद आर्मी ने पूरे इलाके को घेर लिया है और हमलावरों की तलाश शुरू कर दी है।
धमाके से लगी आग में जलीं कई गाड़ियां
- धमाका इतना जोरदार था कि आसपास के इलाकों में काफी दूर तक आवाज सुनी गई। इससे लगी आग की चपेट में कई गाड़ियां आ गईं।
- क्वेटा के ईदी ट्रस्ट के एक ऑफिशियल ने बताया कि मौके पर करीब 15 बॉडी निकाली गई हैं। उन्होंने कहा कि मौत का आंकड़ा ज्यादा हो सकता है।
फिदायीन हमला या बम ब्लास्ट?
- बलूचिस्तान के गृह मंत्री मीर सरफराज बुगती के मुताबिक, बम डिस्पोजल स्क्वाड पता लगा रहा है कि यह फिदायीन हमला था कि या बम ब्लास्ट। अभी किसी आतंकी गुट ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।
- उन्होने बताया कि करीब 30 घायलों को इलाज के लिए सरकारी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है। इनमें से 6-7 लोगों की हालात गंभीर है। उन्होंने 10 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है। हालांकि, लोकल टीवी चैनल की रिपोर्ट में 17 लोगों की मौत की बात कही जा रही है।
हॉस्पिटल में हुए ब्लास्ट में मारे गए थे 75 लोग
- क्वेटा के सिविल हॉस्पिटल में ही पिछले साल एक हॉस्पिटल में ब्लास्ट हुआ था, जिसमें 75 लोगों की मौत हो गई थी।
- क्वेटा की शाह नूरानी दरगाह पर पिछले साल नवंबर में हुए धमाके में 30 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। 100 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे।
- बलूचिस्तान के मस्तंग में 10 मार्च को हुए ब्लास्ट में 25 लोगों की मौत हो गई थी। इसमें पाकिस्तान संसद के डिप्टी चेयरमैन मौलाना अब्दुल गफूर हैदरी बाल-बाल बचे थे।
बलूचिस्तान में 15 साल में 1400 हमले
- बलूचिस्तान में पिछले 10-15 साल में आतंकी हमले बढ़े हैं। पिछले 15 साल में शिया और हजारा कम्युनिटी को टारगेट करके 1400 से ज्यादा हमले हो चुके हैं।
- बलूचिस्तान में 13 साल में करीब 38 सुसाइड अटैक हुए हैं, जिनमें लगभग 500 लोग मारे गए हैं।
- क्वेटा शहर में 2016 में 36 आतंकी हमले हुए हैं। इनमें 119 लोगों की मौत हुई है।
PAK से आजादी चाहता है बलूचिस्तान
- बलूचिस्तान एरिया के हिसाब से पाकिस्तान का सबसे बड़ा (3,47,190 स्क्वेयर किलोमीटर) प्रांत है। इसका बॉर्डर ईरान और अफगानिस्तान से लगा है।
- यहां अलगाववादी पाक आर्मी की तैनाती का विरोध करते हैं। बलूचिस्तान के लोग पाकिस्तान से आजादी की मांग करते रहे हैं।
- इसके अलावा यहां के अलगाववादी लंबे अरसे से पाकिस्तान सरकार के खिलाफ प्रोटेस्ट कर रहे हैं वे गैस के खजाने से भरे इस इलाके में अपने शेयर की डिमांड कर रहे हैं।

   

ट्रम्प की धमकी के बाद तानाशाह भड़के, अमेरिका पर हमले की दी चेतावनी

इंटरनेशनल डेस्क.अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा देश पर किसी प्रकार के हमले का "मुंहतोड़ जवाब" देने की चेतावनी के चंद घंटे के बाद नॉर्थ कोरिया ने कहा कि वह प्रशासनिक रूप से अमेरिका के अधीन प्रशांत महासागर के पश्चिमी भाग में स्थित ग्वाम द्वीप पर मिसाइल हमले की योजना पर विचार कर रहा है।ग्वाम में है अमेरिकी सैन्य अड्डा...
- उत्तर कोरिया ने कहा कि यह ग्वाम पर हमले के लिए एक योजना की सावधानीपूर्वक जांच कर रहा है।
- कोरियाई पीपुल्स आर्मी के एक प्रवक्ता ने केकेएनए समाचार एजेंसी द्वारा जारी किए गए एक बयान में कहा कि किम जोंग उन के निर्णय लेने के बाद किसी भी समय योजना को लागू कर दिया जाएगा।
- ग्वाम की आबादी लगभग 163,000 लोगों की है और वहां एक अमेरिकी सैन्य अड्डा भी है, जिसमें एक पनडुब्बी स्क्वाड्रन, एक हवाईअड्डा और एक कोस्ट गार्ड समूह शामिल है।
- अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच तनाव में तेजी से बढ़ोतरी से वित्तीय बाजारों को पर भी प्रतिकूल असर पड़ा है।
- अमेरिकी अधिकारियों और विश्लेषकों ने चेतावनी दी है कि देश उत्तर कोरिया के साथ बयानबाजी के झगड़ों में शामिल न हों।
इतनी गोली मारेंगे कि दुनिया ने देखी नहीं होगी : ट्रम्प
- डोनाल्ड ट्रम्प ने तीखे शब्दों में कहा था कि नॉर्थ कोरिया अमेरिका को धमकियां देना बंद करे। अगर उसने ऐसा नहीं किया तो उसे जलाकर खाक कर देंगे।
- न्यूज एजेंसी के मुताबिक न्यू जर्सी में छुट्टियां मना रहे ट्रम्प ने कहा, "नॉर्थ कोरिया के लिए ज्यादा धमकियां देना अच्छा नहीं रहेगा।
- उस पर इतनी गोलीबारी करेंगे कि दुनिया ने ये कभी देखी नहीं होगी। किम जोंग उन जिस तरह की बात कर रहा है, उसे सामान्य बात नहीं कहा जा सकता।" ट्रम्प ने ये बातें नॉर्थ कोरिया की न्यूक्लियर कैपेबिलिटी पर कहीं थीं।

   

बीफ पर बैन पक्षपात है: अंसारी; BJP बोली- हिंदू, मुस्लिमों के सच्चे दोस्त

नई दिल्ली. उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी का टेन्योर आज खत्म हो रहा है। शुक्रवार को वेंकैया नायडू उपराष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे। इससे पहले बुधवार को अंसारी ने कहा कि हिंदुत्व भारत की पहचान रहा है, न कि किसी का बीफ खाना। बीफ पर बैन लगाने वाले बयानों से नजरअंदाज और पक्षपात करने की बात ही सामने आती है। अंसारी के बयान पर बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि मुस्लिमों के रहने के लिए भारत से बेहतर कोई मुल्क नहीं है और न ही हिंदुओं से बेहतर उनका दोस्त। किसी राजनीतिक शख्स या दल के बारे में बात नहीं करूंगा...
- न्यूज एजेंसी की खबर के मुताबिक अंसारी ने राज्यसभा टीवी को दिए एक इंटरव्यू में कहा, "मैं किसी राजनीतिक शख्स या दल के बारे में बात नहीं करूंगा, लेकिन जब भी कोई ऐसा कमेंट होता है, तो मैं कहूंगा कि वह शख्स नासमझ है या उसका पक्षपातपूर्ण रवैया है या फिर वह देश के उस खाके में फिट नहीं होता, जिस पर भारत को हमेशा गर्व होता है। सही मायने में तो हमारा समाज सबको समाहित करने वाला है।"
- अंसारी से पूछा गया था कि एक मुसलमान के रूप में वह ऐसे बयानों पर कैसा महसूस करते हैं? अंसारी का ये इंटरव्यू गुरुवार को टेलीकास्ट होगा।
- अंसारी ने ये भी कहा, "टॉलरेंस यह एक अच्छी खूबी है लेकिन यह काफी नहीं है। लिहाजा आपको टॉलरेंस से आगे बढ़ते हुए स्वीकार करने की राह पर बढ़ना होगा।"
- "हम टॉलरेंस के बारे में बात क्यों करते हैं? क्योंकि आप किसी उस बात को सहन करने की जरूरत महसूस करते हैं, जो शायद आपके हिसाब से नहीं है।"
और क्या बोले अंसारी?
- राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के बारे में अंसारी ने कहा, "कोविंद के राष्ट्रपति बनने से पहले से ही मैं उन्हें जानता था। ये मेरे लिए फायदेमंद रहा। उनके गवर्नर बनने के दौरान मैं कई बार बिहार गया। उनसे अच्छी बातचीत हुई।"
- "हर शख्स की अपनी एक राजनीतिक सोच होती है। लेकिन चीजें आपको नया अनुभव देती हैं।"
- "ये सच है कि संवैधानिक पद पर बैठने के बाद कुछ बाधाएं होती हैं। लेकिन उन्हें समझदारी से हल किया जा सकता है।।"

   

डोकलाम में 53 भारतीय सैनिक मौजूद: चीन; भारत बोला- हम जंग नहीं चाहते

बीजिंग/नई दिल्ली. चीन ने कहा है कि डोकलाम में अभी भी 53 भारतीय सैनिक और एक बुल्डोजर मौजूद हैं। भारत को अपनी सेनाएं और इक्विपमेंट वहां से हटाना चाहिए। इस बीच भारत ने कहा है कि डोकलाम में उसकी आर्मी 'नो वॉर-नो पीस' मोड में है। हम जंग नहीं, स्टेटस-को (यथास्थिति) चाहते हैं। बता दें कि 16 जून से सिक्किम सेक्टर के डोकलाम पर भारत-चीन विवाद चल रहा है। चीन उसी शर्त पर बात करना चाहता है, जब भारतीय सेनाएं पीछे जाएं। वहीं भारत, दोनों देशों की सेनाओं के वापस लौटने पर ही बातचीत चाहता है। चीन की सॉवेरीनटी बाधित हो रही है...
- न्यूज एजेंसी की खबर के मुताबिक चीन के सरकारी मीडिया 'ग्लोबल टाइम्स' ने भारत से अपनी सेनाएं पीछे हटाने को कहा है। ये भी कहा है कि ऐसा न करने से चीन की सॉवेरीनटी (संप्रभुता) बाधित हो रही है।
- ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, 7 अगस्त तक डोकलाम में 53 भारतीय सैनिक और एक बुल्डोजर मौजूद थे। इससे पहले चीन की फॉरेन मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन गेंग शुआंग ने कहा था कि 2 अगस्त तक डोकलाम में 48 भारतीय सैनिक और एक बुल्डोजर मौजूद था।
- शुआंग ने ये भी कहा था कि भारतीय सीमा में बड़ी तादाद में सैनिक बने हुए हैं।
- भारतीय अफसरों की मानें तो पिछले 6 हफ्ते से 350 भारतीय जवान डोकलाम में बने हुए हैं।
भारत बोला- स्टेटस-को जारी है
- ऑफिशियल सोर्सेज ने कहा है कि डोकलाम में स्टेटस-को (यथास्थिति) जारी है, आर्मी अभी 'नो वॉर-नो पीस' मोड में है। इंडियन ट्रूप्स और वेपंस की वहां कोई खास आवाजाही नहीं है और आगे अगर गतिविधियां बढ़ेंगी तो वो शांति के लिए ही होगी। इलाके में सुखना बेस से 33 कॉर्प्स को भेजने से संबंधित रिपोर्ट्स पर सोर्सेज ने कहा कि इंडिया-भूटान-चीन ट्राइजंक्शन में आर्मी पर्सनल्स की संख्या में कोई बढ़ोतरी नहीं की गई है। मिलिट्री की भाषा में नो वॉर-नो पीस मोड का मतलब दुश्मनों का आमने-सामने होना या उनमें टकराव की स्थिति होता है।
30 दिनों में चीन की 8वीं धमकी
- 9 अगस्त को चीन ने भारत को फिर धमकी दी है। चीन के सरकारी अखबार चाइना डेली ने बुधवार को अपने एक आर्टिकल में कहा- इससे पहले की बहुत देर हो जाए भारत को डोकलाम से अपनी फौज हटा लेनी चाहिए।
- चीन की नई धमकी साफ तौर पर जंग की तरफ इशारा है। 30 दिनों में चीन की तरफ से अलग-अलग जरियों से आई ये 8वीं धमकी है।
- बुधवार को चाइना डेली ने अपने एडिटोरियल में कहा- वक्त गुजरता जा रहा है। अगर अब भी भारत ने डोकलाम से अपने सैनिक नहीं हटाए तो इसके बाद वो बस खुद को ही कसूरवार ठहरा पाएगा।
- आर्टिकल में आगे कहा गया, दोनों फौजों में संघर्ष का काउंटडाउन शुरू हो चुका है। और वक्त गुजरता जा रहा है, पता नहीं नतीजा क्या होगा। दोनों देशों के बीच, विवाद सातवें हफ्ते में पहुंच चुका है। अब इस मसले के शांति से निपटने की उम्मीदें खत्म हो रही है।
- अखबार के मुताबिक, भारत चीन की वॉर्निंग को नजरअंदाज करता जा रहा है। वो हर शख्स जिसके पास आंखें और कान हों, वो चीन का मैसेज समझ सकता है। लेकिन, अब तक भारत इसे समझ नहीं सका और अपने सैनिकों को उसने वापस नहीं बुलाया है।
2 हफ्ते में भारतीय सेना को खदेड़ देंगे, छोटे ऑपरेशन की तैयारी
- इससे पहले, ग्लोबल टाइम्स में 5 अगस्त को पब्लिश एक आर्टिकल में चीनी एक्सपर्ट हू झियॉन्ग ने कहा था, "चीन डोकलाम में लंबे वक्त तक गतिरोध बने रहने की इजाजत नहीं दे सकता, इसलिए वहां से भारतीय सैनिकों को हटाने के लिए 2 हफ्तों के भीतर छोटे पैमाने पर मिलिट्री ऑपरेशन किया जा सकता है।" झियॉन्ग ने यह भी कहा था कि चीन अपना मिलिट्री ऑपरेशन शुरू करने से पहले भारत की फॉरेन मिनिस्ट्री को इन्फॉर्म भी करेगा।
- ग्लोबल टाइम्स ने यह भी कहा था, "मोदी हमारे लिए हार्ड लाइन स्टैंड अपनाकर अपनी अवाम की किस्मत के साथ जुआ खेल रहे हैं और भारत को जंग की ओर धकेल रहे हैं। मोदी को पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की जबरदस्त ताकत का अंदाजा होना चाहिए, जो डोकलाम में भारतीय सेनाओं को कुचलने में का माद्दा रखती है।"
क्या है डोकलाम विवाद?
- ये विवाद 16 जून को तब शुरू हुआ था, जब इंडियन ट्रूप्स ने डोकलाम एरिया में चीन के सैनिकों को सड़क बनाने से रोक दिया था। हालांकि चीन का कहना है कि वह अपने इलाके में सड़क बना रहा है।
- इस एरिया का भारत में नाम डोका ला है जबकि भूटान में इसे डोकलाम कहा जाता है। चीन दावा करता है कि ये उसके डोंगलांग रीजन का हिस्सा है। भारत-चीन का जम्मू-कश्मीर से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक 3488 km लंबा बॉर्डर है। इसका 220 km हिस्सा सिक्किम में आता है।
भारत की क्या है चिंता?
- नई दिल्ली ने चीन से कहा है कि चीन के सड़क बनाने से इलाके की मौजूदा स्थिति में अहम बदलाव आएगा, भारत की सिक्युरिटी के लिए ये गंभीर चिंता का विषय है। रोड लिंक से चीन को भारत पर एक बड़ी मिलिट्री एडवान्टेज हासिल होगी। इससे नॉर्थइस्टर्न स्टेट्स को भारत से जोड़ने वाला कॉरिडोर चीन की जद में आ जाएगा।

   

दुजाना की मौत का बदला लेंगे: ट्रेन में मिला लेटर; कम तीव्रता का बम भी बरामद

लखनऊ. यूपी के अमेठी के पास अकबरगंज रेलवे स्टेशन पर अकालतख्त एक्सप्रेस के एसी कोच के टॉयलेट में बुधवार रात एक विस्फोटक बरामद हुआ। इसके साथ ही एक लेटर भी मिला, जिसमें लिखा था- "दुजाना की शहादत का बदला अब हिंदुस्तान को चुकाना पड़ेगा।" यह खबर फैलने के बाद अफरातफरी का माहाैल बन गया। एसपी जीआरपी सौमित्रा यादव ने कहा, "कम तीव्रता का डिवाइस पाया गया था, जिसे निष्क्रिय (deactivate) करने के बाद ट्रेन को रवाना कर दिया गया।" रात 1 बजे की घटना, सुबह 4 बजे पहुंचा स्क्वॉड...
- जानकारी के मुताबिक, कोलकाता से अमृतसर जाने वाली ट्रेन के एसी-3 टायर कोच के टॉयलेट में बुधवार आधी रात करीब 1.15 बजे संदिग्ध विस्फोटक होने की जानकारी मिली। ये बात जैसे ही ट्रेन में ट्रैवल कर रहे पैसेंजर्स को पता चली, उनके बीच डर का माहौल छा गया।
- घटना की जानकारी मिलने के बाद अमेठी पुलिस तो मौके पर पहुंची, लेकिन बम ड‍िस्पोजल स्क्वॉड को पहुंचने में सुबह के 4 बज गए।
- लखनऊ डिवीजन के आरपीएफ कमांडेंट सत्य प्रकाश ने बताया, ''अकबरगंज स्टेशन पर अकालतख्त एक्सप्रेस के बी3 कोच के टॉयलेट में बम जैसी चीज मिली थी।'' बता दें कि अकबरगंज स्टेशन नाॅर्दर्न रेलवे के लखनऊ डिवीजन में आता है।
एक अगस्त को एनकाउंटर में मारा गया था दुजाना
- कश्मीर के पुलवामा में इसी साल एक अगस्त को हुए एनकाउंटर में सिक्युरिटी फोर्सेस ने लश्कर-ए-तैयबा के टॉप कमांडर अबु दुजाना को मार गिराया था। जम्मू-कश्मीर के आईजी मुनीर खान ने कहा था, "दुजाना कश्मीर में अय्याशी कर रहा था। वह लड़कियों की सुरक्षा के लिए खतरा बन गया था।"
- दुजाना ए कैटेगरी का आतंकी था। उस पर 10 लाख का इनाम था। 2013 में आतंकी अबु कासिम की मौत के बाद लश्कर ने दुजाना को कमांडर बनाया था। उसने कश्मीर में कई हमलों को अंजाम दिया था। उसके मारे जाने के विरोध में 100 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों ने फोर्सेस पर पथराव किया था।

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1785546

Site Designed by Manmohit Grover