You are here:

हाउसिंग बोर्ड के इंजीनियर के ठिकानों पर एसीबी ने मारे छापे, वेबसाइट पर मिली थी शिकायत

जयपुर। एसीबी ने गुरुवार को हाउसिंग बोर्ड के एक इंजीनियर के यहां छापा मारा। छापा आय से अधिक संपत्ति के मामले में मारा गया है। एसीबी की दो टीमों ने इंजीनियर के मानसरोवर व अन्य ठकानों पर कार्रवाई की।जानिए क्या है मामला ...
- एसीबी ने हाउसिंग बोर्ड के इंजीनियर सुभाष यादव के मानसरोवर स्थित आवास व अन्य ठिकानों पर छापे मारे। सुभाष के मानसरोवर स्थित घर पर एसीबी की आठ सदस्यों की एक टीम ने सुबह छह बजे छापा मारा।
- एसीबी की एक अन्य टीम ने सुभाष के अन्य ठिकानों पर छापे मारे। टीम ने सुभाष की चल व अचल संपत्ति से जुड़े दस्तावेज खंगाले।
- एसीबी सूत्रों के अनुसार उनकी वेबसाइट पर सुभाष यादव के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने की शिकायत मिली थी।
- जांच करने पर शिकायत को सही पाया गया। अब जांच में इस बारे में खुलासा होगा। शुरूआती जांच में सुभाष के जयपुर में और भी जगह अचल संपत्ति मिली है।

   

जॉब अलर्ट : 5500 पुलिस कॉन्स्टेबलों की भर्ती शुरू, इस बार किए गए ये बदलाव

जयपुर. पुलिस मुख्यालय ने 5500 कॉन्स्टेबलों के लिए भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी है। अगले सप्ताह से अभ्यर्थी आवेदन कर सकेंगे। भर्ती प्रक्रिया के लिए डीजीपी अजीत सिंह ने मंगलवार को स्टेंडिंग आर्डर जारी कर दिया। इस बार भर्ती प्रक्रिया में पुलिस मुख्यालय ने संशोधन किया है। 10 नहीं अब केवल 5 किमी की होगी दौड़...
- इस बार केवल पांच किमी की दौड़ होगी। इसमें 20 मिनट में दौड़ पूरी करने पर 15 नंबर दिए जाएंगे।
- साथ ही इससे ज्यादा समय में दौड़ पूरी करने वाले भर्ती प्रक्रिया से बाहर नहीं होंगे मगर उनको नंबर कम दिए जाएंगे। 20 से 22 मिनट में दौड़ पूरी करने पर दस अंक मिलेंगे।
- 22 से 25 मिनट में दौड़ पूरी करने पर पांच अंक दिए जाएंगे। महिला अभ्यर्थियों के लिए पांच किलोमीटर की दौड़ 26 मिनट में दौड़ पूरी करने पर 15 अंक दिए जाएंगे।
- इससे पहले भर्ती प्रक्रिया में दस किमी की दौड़ होती थी। जिसमें नियत समय में पूरी नहीं करने वाले अभ्यर्थी दौड़ से बाहर हो जाते थे। भर्ती परीक्षा के लिए ऑन लाइन आवेदन किए जाएंगे।

   

मध्यप्रदेश से अजमेर जा रही बस को ट्रेलर ने मारी टक्कर, 10 जायरीन घायल

शाहपुरा (जयपुर)। जयपुर-दिल्ली नेशनल हाईवे पर शुक्रवार को सड़क किनारे खड़ी बस को एक ट्रेलर ने पीछे से टक्कर मार दी जिससे बस में सवार 10 जायरीन घायल हो गए। बस में सवार जायरीन मध्यप्रदेश से अजमेर जा रहे थे। पुलिस ने घायलों को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया जहां प्राथमिक उपचार के बाद सभी को छुट्‌टी दे दी गई। जानिए और इस बारे में ...
- मध्यप्रदेश के रीवा से 40 जायरीन अजमेर दरगाह शरीफ जा रहे थे। जयपुर-दिल्ली नेशनल हाईवे स्थित भावरू गांव के दादोसा होटल पर इनकी बस रुकी।
- ये लोग चाय-पानी के लिए बस से उतर गए। बस में कम ही लोग थे। वहां से एक ट्रेलर गुजर रहा था। ट्रेलर अचानक अनियंत्रित हो गया और बस को पीछे से टक्कर मार दी जिससे बस में सवार 10 जायरीन मामूली घायल हो गए। होटल पर मौजूद लोग मदद को आए तथा पुलिस को सूचना दी। सूचना पर हाईवे पेट्रोलिंग एवं पुलिस वहां पहुंची। घायलों को हाईवे पुलिस ने सरकारी अस्पताल पहुंचाया।

   

अविश्वास प्रस्ताव की धमकी दी, 2 BJP पार्षद डेढ़-डेढ़ लाख लेते रंगे हाथ पकड़े

तखतगढ़ (पाली).भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी)जालोर की टीम ने गुरुवार दोपहर तखतगढ़ नगर पालिका के पार्षद केसाराम मेघवाल व मुकेश कुमार जीनगर को 3 लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया। दोनों पार्षद सत्तारूढ़ भाजपा से हैं, जो अपनी ही पार्टी की पालिकाध्यक्ष रंजना घांची के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की धमकी देकर पालिकाध्यक्ष के पति को ब्लैकमेल कर रहे थे। आरोपियों ने यूं तो तीन-तीन लाख रुपए की मांग की थी, लेकिन आखिरकार सौदा डेढ़-डेढ़ लाख रुपए में तय हुआ। पालिकाध्यक्ष के पति ने एसीबी जालोर चौकी के डीएसपी अन्नराज राजपुरोहित को इसकी शिकायत की। दोनों आरोपी पार्षदों को शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।
- एसीबी जालोर चौकी के डीएसपी अन्नराज राजपुरोहित ने बताया कि तखतगढ़ नगर पालिका में भाजपा बोर्ड में रंजना घांची अध्यक्ष हैं, जिसके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की धमकी देकर वार्ड संख्या 15 के पार्षद मुकेश कुमार जीनगर व वार्ड संख्या 16 के पार्षद केसाराम मेघवाल पिछले काफी समय से रिश्वत की मांग कर रहे थे।
- दोनों पार्षदों का कहना है कि उनके पास चार-पांच और पार्षद हैं। दोनों ने पालिकाध्यक्ष के पति रमेश घांची से अविश्वास प्रस्ताव नहीं लाने की एवज में तीन-तीन लाख रुपए की रिश्वत मांगी, लेकिन बाद में सौदा डेढ़-डेढ़ लाख रुपए में तय हुआ। बुधवार को पालिकाध्यक्ष के पति ने जालोर एसीबी चौकी में इसकी शिकायत की, जिसके सत्यापन के बाद एसीबी ने गुरुवार को ट्रैप कार्रवाई की।
रुपए लेकर होटल में बुलाया, एसीबी ने दोनों को धर दबोचा
दोनों आरोपी पार्षदों ने रिश्वत के तीन लाख रुपए लेकर गुरुवार दोपहर 1 बजे पालिकाध्यक्ष के पति रमेश घांची को तखतगढ़ में जालोर चौराहा स्थित होटल शिवम में बुलाया। एसीबी ने दो-दो हजार रुपए के नोट पर विशेष केमिकल लगा डेढ़-डेढ़ लाख रुपए की दो गड्डियां पालिकाध्यक्ष को दी, जो उसने होटल में पहुंच दोनों पार्षदों को थमा दी। आरोपी पार्षदों ने रिश्वत की यह राशि अपने पेंट की जेब में डाल दी, जिसे एसीबी ने बरामद कर लिया।
दोनों की उम्र 35 साल से कम, पहली बार पार्षद बने दोनों
तखतगढ़ नगर पालिका में 20 अगस्त, 2015 को रंजना अध्यक्ष बनी थी। मेघवाल का बास निवासी केसाराम (35) और मुकेश कुमार जीनगर (33) भी पहली बार भाजपा के टिकट पर पार्षद बने। दोनों पालिकाध्यक्ष के पति के बहुत करीबी थे। लेकिन बार-बार रुपए मांगने से नाराज होकर रमेश ने दोनों को एसीबी के हाथों ट्रैप करवा दिया।
तीन बार फोन किए, एसीबी टेप कर रही थी, होटल में ही पकड़ा
पहला फोन सुबह 9 बजे :क्या हुआ रुपयों का इंतजाम हुआ या नहीं। पालिकाध्यक्ष के पति ने कहा बैंक से निकाल कर 11 बजे दे दूंगा।
दूसरा फोन 11 बजे- अभी तक रुपए नहीं आए क्या, जल्दी करो ना क्यों लेट कर रहो हो
तीसरा फोन दोपहर 12 बजे : रुपये नहीं दिए तो सुमेरपुर जैसी नौबत आ जाएगी, फिर हमें दोष मत देना। परिवादी पार्षदों के बताए होटल में पहुंचा।
मुंबई घुमाया, महंगे मोबाइल भी दिए, फिर भी ब्लैकमेल कर रहे थे -चेयरमैन पति
तखतगढ़ नगर पालिका अध्यक्ष रंजना घांची के पति रमेश कुमार घांची उर्फ पारस घांची ने एसीबी को बताया कि उक्त दोनों पार्षद पिछले काफी समय से रुपये देने की मांग कर रहे थे। दोनों को संतुष्ट रखने के लिए रमेश कुमार ने उन पर काफी खर्चा भी किया। दोनों पार्षदों को रमेश कुमार ने मुंबई की सैर कराई और वहां उनको खरीददारी भी कराई। दोनों को मंहगे मोबाइल भी गिफ्ट किए गए, लेकिन इसके बाद भी वे अविश्वास प्रस्ताव लाने की धमकियां देने लगे।
जिले में पहली बार पार्षद रिश्वत लेते पकड़ा, 2013 में जैतारण पालिकाध्यक्ष हुए थे गिरफ्तार
पाली जिले में एसीबी के हाथों रिश्वत लेते हुए पार्षद की गिरफ्तारी का यह पहला मामला है। इससे पहले जैतारण में 2013 में पालिकाध्यक्ष एसीबी के हाथों ट्रेप हुए थे।
पाली, जालोर व सिरोही के ज्यादातर निकाय, पंचायतीराज संस्थाओं में पनप रहा अाक्रोश
सुमेरपुर नगर पालिकाध्यक्ष के खिलाफ भी उन्हीं की पार्टी के पार्षदों ने अविश्वास प्रस्ताव लाने का मोर्चा खोल रखा है। तखतगढ़ में यह मामला सामने आया। दो साल पूर्व हुए चुनावों में ज्यादातर निकाय और पंचायतीराज संस्थाआें में सत्तारूढ़ पार्षद व सदस्य ही असंतुष्ट हैं।
एसीबी कार्रवाई से कुछ हद तक भय पैदा होगा जनप्रतिनिधियों में, लेकिन बढ़ सकता है पार्टी के खिलाफ अंदरूनी आक्रोश
इस कार्रवाई से शुरुआत में अन्य निकायों में भी पनप रहा आक्रोश मामूली कंट्रोल तो हो सकता है लेकिन इस कार्रवाई से जनप्रतिनिधियों में आक्रोश बढ़ने का अंदेशा ज्यादा है। हो सकता है अन्य निकायों में भी आगामी दिनों में ऐसी घटनाएं बढ़े।
सुमेरपुर में भी बगावत पर उतरे हैं भाजपा के ही पार्षद
गत 19 सितम्बर को सुमेरपुर नगरपालिका को उपाध्यक्ष रमेशकुमार राखेचा के नेतृत्व में 19 पार्षद सुमेरपुर नगरपालिका अध्यक्ष जोराराम कुमावत के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लेकर पाली जिला कलक्टर से मिले थे। इनमें ज्यादातर भाजपा के ही थे। मामले में उपाध्यक्ष रमेश राखेचा ने कहा था कि जब बोर्ड का गठन हुआ था तो विधायक मदन राठौड़ और अध्यक्ष के साथ बैठकर में यह तय हुआ कि ढाई साल तक जोराराम अध्यक्ष रहेंगे और ढाई साल तक वे अध्यक्ष रहेंगे ।
पाली में भाजपा समर्थित पार्षद ने खोला मुंह
पाली में भाजपा के पार्षद किशोर सोमनानी ने नगर परिषद को फेसबुक पर दी चेतावनी में कहा है कि मत लो मेरे सब्र का इम्तिहान। सोमनानी वार्ड 33 के निर्दलीय के रुप में पार्षद बने थे, जो भाजपा से जुड़े हुए हैं। सोमनानी पिछले 5 दिनों से नगर परिषद आयुक्त इंद्रसिंह राठौड़ से हाउसिंग बोर्ड में असूचंड महोत्सव कार्यक्रम में झांकी के लिए 3 ट्रैक्टर लगाने के लिए मांग कर रहे थे। आयुक्त सोमनानी को आश्वासन देते रहे। लेकिन ट्रैक्टर नहीं पहुंचे।

   

ये लड़की हुई फलाहारी बाबा की गंदी नीयत की शिकार, ऐसे बचाई थी आबरू

अलवर.छत्तीसगढ़ के बिलासपुर की 21 साल की लड़की से रेप की कोशिश के मामले में गुरुवार को विक्टिम बयान देने अलवर पहुंची। यहां पुलिस इनवेस्टिगेशन हाउस में उसके बयान लिए गए। बयानों के लिए 70 सवालों की लिस्ट तैयार की गई थी। इन तमाम सवालों के जवाब में विक्टिम खरी उतरी। डेढ़ घंटे चले सवाल जवाब के दौर में विक्टिम से हर वह बात बारीकी से पूछी गई जो उसने बयानों में दी थी। बाबा फिलहाल अस्पताल में भर्ती है। ऐसे बची लड़की की आबरू...
- विक्टिम लड़की ने 11 सितंबर को बाबा के खिलाफ बिलासपुर के महिला थाने में रेप की कोशिश की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसमें उसने बताया कि लॉ करने के बाद सुप्रीम कोर्ट में एक वकील के पास इंटर्नशिप पूरी की।
- उसे 3 हजार रुपए की स्कॉलरशिप मिली था जिसे वह 7 अगस्त को बाबा के चरणों में समर्पित करने आई थी। बाबा ने मंदिर के बेसमेंट में बने बुलाकर उससे अश्लील बातें की और छेड़छाड़ करते हुए रेप करने की कोशिश भी की।
- जब बाबा ये हरकत कर रहा था, उसी वक्त एक शिष्य ने दरवाजा की कुंडी खटका दी। मौका पाकर लड़की दरवाजा खोल कर बाहर आ गई। अगले दिन वह दिल्ली में अपने भाई के पास पहुंची।
पुलिस के 70 सवालों के एग्जाम में लड़की पास
- विक्टिम अपने परिवार के साथ फ्लाइट से दिल्ली और उसके बाद करीब 6 बजे अलवर पहुंची। दरअसल, बिलासपुर पुलिस ने अलवर पुलिस को सवाल और बयानों के बारे में पहले से ही पूरी जानकारी दी हुई थी। ऐसे सवालों की सूची पहले ही तैयार करके दी थी जो क्रॉस चेक करें तो झूठ आसानी से पकड़ा जा सकता है।
- सूत्रों के मुताबिक, विक्टिम किसी भी सवाल पर नहीं भटकी। सभी सवाल उससे दोबारा पूछे गए। वह एक भी सवाल के जवाब में इधर-उधर नहीं हुई। इसके बाद विक्टिम, उसके पिता व मां को रामकिशन कॉलोनी स्थित घटना स्थल मधुसूदन सेवा आश्रम ले जाया गया। यहां विक्टिम को वो सभी जगह दिखाई गई जो उसने बयानों में बताई थी।
- हरेक जगह के बारे में खुद एसपी, अनुसंधान अधिकारी व अन्य अधिकारियों ने पूछताछ की। ऐसे में तमाम स्थिति साफ होने के बाद बाबा की गिरफ्तारी तय मानी जा रही है। पुलिस किसी भी वक्त फलाहारी बाबा को गिरफ्तार कर सकती है।
क्या है इन 70 सवालों में
भास्कर पड़ताल में सामने आया कि बयानों के आधार पर बिलासपुर और अलवर पुलिस द्वारा 70 सवालों की एक लिस्ट तैयार की गई। इसमें घटनास्थल पर कमरा, घटना का वक्त, घटना के वक्त के हालात, आश्रम की स्थिति, आश्रम के गेट, बाबा का कमरा समेत कई सवाल शामिल किए गए। विक्टिम को आश्रम का मौका मुआयना कराया गया, जो लगभग वही है जो बयानों में दर्ज कराया गया।
महिलाएं बोली- बाबा निर्दोष
मौका मुआयना के लिए विक्टिम को आश्रम लेकर पहुंची पुलिस जब अंदर विक्टिम को मौका स्थल दिखा रही थी तो उस वक्त गेट बंद कर दिए गए। किसी को भी अंदर जाने नहीं दिया गया। बाहर बाबा की भक्त महिलाएं मीडिया को कोसती रहीं। महिलाओं का कहना था कि बाबा निर्दोष हैं और उन्हें फंसाया जा रहा है। हम यहां 30 साल से रह रहे हैं। आज तक बाबा का कोई ऐसा काम नहीं देखा।
महिलाएं यह भी कह रही थी कि यह लड़की यहां आई क्यों। अगर कुछ हो रहा था तो चिल्लाई क्यों नहीं। कोई तो मदद के लिए आता। जिस दिन घटना की यह बात कर रही है, उस दिन ग्रहण था और आरती भी नहीं हुई। ऐसे में, बाबा पर लगाए गए आरोप बेबुनियाद है। हमें इंसाफ चाहिए। बाबा से पहले पुलिस हमें गिरफ्तार करे।
इधर एक रिपोर्ट यह भी
लक्ष्मणगढ़ के लीली गांव के रहने वाले बाबा के शिष्य धर्मेंद्र शर्मा ने अरावली विहार थाने में बुधवार देर रात साढ़े ग्यारह बजे रिपोर्ट दी कि 17 दिन पहले उसके पास धमकी भरे तीन कॉल आए। इसमें 10 से 12 लाख रुपए देने की मांग की गई। पैसा नहीं देने पर बाबा को बदनाम करने तथा अंजाम भुगतने की बात कही गई।
बिलासपुर के कई मामले हो सकते हैं
विक्टिम के पिता ने बताया कि बाबा ने हमारे साथ विश्वासघात किया है। हमने इन्हें सब कुछ माना और इनके लिए सब कुछ किया। मेरी बेटी के साथ उन्होंने ऐसा किया, इससे धक्का लगा है। मैं कई नाम पुलिस को दूंगा जिनके साथ ऐसा हुआ है। लिस्ट साथ लेकर आया हूं।
विक्टिम के परिवार ने दिया था बाबा को रथ
बयानों में यह बात भी सामने आई हैं बाबा के पास दो बड़ी गाड़ियां हैं, जिन्हें रथ बनाया हुआ है। उनमें से एक गाड़ी विक्टिम के पिता के द्वारा ही कुछ दिनों पहले दी गई थी। इस गाड़ी पर नंबर भी छत्तीसगढ़ का ही लिखा हुआ है।
आश्रम में सन्नाटा और चुप्पी
रामकिशन कॉलोनी स्थित आश्रम पर जैसे ही पुलिस की गाड़ियां पहुंचीं तो लोगों की भीड़ जमा हो गई। हालांकि, आश्रम में पूरी तरह से सन्नाटा पसरा हुआ था। आश्रम का कोई भी शख्स किसी से भी बात करता हुआ नहीं दिखा, लेकिन आश्रम के बाहर लोगों की भीड़ जमा हो गई और लोग बाबा को सही बताते हुए अपना पक्ष रखते दिखे।

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1853245

Site Designed by Manmohit Grover