You are here:

इकलौते बेटे को झांकी दिखाने निकला था पिता, बस के टायर के नीचे आया बच्चा

कोटा।4 साल के बेटे को कंधे पर बैठाकर गणेश महोत्सव में झांकियां दिखाने जा रहे श्रमिक को मंगलवार रात करीब 9 बजे निजी बस ने पीछे से टक्कर मार दी। टायर के नीचे आने से बच्चे की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि पिता गंभीर घायल हो गया। उसे कोटा रैफर कर दिया गया। वहीं, हादसे से गुस्साए लोगों ने बस में आग लगा दी। पीछे से रही इसी ट्रैवल्स की दूसरी बस में तोड़फोड़ की।
- बच्चे का शव सड़क पर रखकर जाम लगा दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने लोगों को शांतकर शव कब्जे में लिया और दमकल बुलाकर बस की आग बुझाई। जानकारी के मुताबिक खैराबाद के माली मोहल्ला निवासी मुकेश सुमन (35) मंगलवार रात को इकलौते पुत्र हर्षित (4) को कंधे पर बैठाकर झांकियां दिखाने ले जा रहा था।
- रीझिड़िया मार्ग के समीप कोटा की ओर से रही निजी बस ने पीछे से दोनों को टक्कर मार दी, जिससे बालक बस के टायर के नीचे गया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।
बेटे की मौत की खबर पाकर मां की तबीयत बिगड़ी
- इकलौते बेटे की मौत की सूचना पाकर हर्षित की मां की तबीयत बिगड़ गई।
- आसपास के लोगों ने उसे संभाला। तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर उसे निजी डॉक्टर के पास ले जाया गया। हर्षित की 2 बहनें हैं।

   

दो बहनों ने कुंड में कूद कर दी जान, ग्रामीणों ने देखे तैरते शव

चूरू।चूरू के एक गांव में दो सगी बहनों ने कुंड में कूद कर आत्महत्या कर ली। आत्महत्या के कारणों का अभी पता नहीं चला है। आत्महत्या के कारणों का अभी पता नहीं चला है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। जानिए क्या है मामला ...
- जिले के सरायण गांव में बीती रात को दो सगी बहनों ने एक कुंड में कूदकर आत्महत्या कर ली। बड़ी बहन शादीशुदा है तथा छोटी बहन कुंवारी है।
- सुबह ग्रामीणों ने कुंड में शव तैरते देखे। इस पर थोड़ी ही देर में वहां भीड़ जुट गई। ग्रामीणों ने पुलिस को फोन किया।
- पुलिस ने कुंड से शव निकलवाए।

   

रेप केस में डेरा चीफ पर फैसला आज; राजस्थान-हरियाणा सीमा सील, धारा 144 लगी

जयपुर/श्रीगंगानगर. 15 साल पुराने साध्वी दुष्कर्म केस में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह पर पंचकूला (हरियाणा) की सीबीआई अदालत शुक्रवार दोपहर 2:30 बजे फैसला सुनाएगी। 5000 से ज्यादा पुलिस फोर्स डेरा समर्थकों को नहीं रोक पाई। वे पंचूकला पहुंच गए। इससे हालात बिगड़ गए। इस बीच भीड़ जुटने को लेकर पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने गुरुवार को एक दिन में तीन बार सुनवाई की। हरियाणा सरकार को फटकार लगाई। कहा, ‘सरकार आंखें बंद किए बैठी है। उसकी मर्जी से ही भीड़ जुटी है। कोर्ट ने केंद्र को निर्देश दिया कि रात तक सेना तैनात कर हालात काबू करें। इसके बाद पंचकूला को सेना के हवाले कर दिया गया और सिरसा में कर्फ्यू लगा दिया गया। सिरसा में डेरा का मुख्यालय है। देर रात डेरा प्रेमियों को पंचकूला से निकालने की तैयारियां शुरू हो गई। रात दो बजे हरियाणा रोडवेज की बसें पहुंचना शुरू हो गई थी। इससे पहले श्रीगंगानगर व हनुमानगढ़ से सटी पंजाब, हरियाणा के सीमावर्ती जिलों की सीमाएं सील कर दी गई हैं।
भीड़ कैसे जुटी, सरकार ने आंखें बंद कर रखी हैं, डीजीपी को सस्पेंड कर देना चाहिए : हाईकोर्ट
लोगों के जमावड़े पर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने गुरुवार को तीन बार सुनवाई करते हुए कहा- डीजीपी पूरी तरह फेल रहे। उन्हें तो सस्पेंड कर देना चाहिए। अगर एक भी मौत हुई तो हरियाणा सरकार और डीजीपी जिम्मेदार होंगे। केंद्र से कहा- सेना को अलर्ट पर रखिए। अगर केंद्र सरकार भी सुरक्षा व्यवस्था तय नहीं कर पाएगी तो कोर्ट सीधे आर्मी को डिप्लॉय करने के आदेश जारी कर सकता है।
29 ट्रेन रद्द, बसें बंद, स्कूल, दफ्तर में छुट्‌टी
पंजाब में सरकारी व निजी दफ्तरों में छुट्‌टी। स्कूल, कॉलेज, बाजार भी बंद। हिमाचल से दिल्ली-चंडीगढ़-हरिद्वार जाने वाली 200 बसें कैंसिल। पंजाब-हरियाणा आने वाली 29 ट्रेन भी कैंसिल। दोनों राज्यों में अभी 64 हजार जवान तैनात। तीन स्टेडियम अस्थाई जेल में तब्दील। जजों, वकीलों की सुरक्षा बढ़ाई।
श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ में आरएसी की 3 कंपनियां
मामले का असर राजस्थान के श्रीगंगानगर व हनुमानगढ़ जिले तक पहुंच गया। दोनों जिलों में शनिवार शाम इंटरनेट सेवा बंद रहेगी। धारा 144 भी लगाई गई है। पंजाब, हरियाणा के सीमावर्ती जिलों की सीमाएं सील कर दी गई हैं। दोनों जिलों में आरएसी की 3-3 कंपनियां तैनात की गई हैं। इसके अलावा भारी पुलिस तैनात।
15 साल पुराना मामला, कई और भी आरोप हैं
डेरा सच्चा सौदा की गद्दी 1990 में गुरमीत को मिली। वे श्रीगंगानगर के गुरुसर मोडिया निवासी हैं। 50 वर्षीय संत पर 2001 में डेरे की साध्वी के यौन शोषण का आरोप है। पत्रकार छत्रपति की हत्या व 400 श्रद्धालुओं को नपुंसक बनाने का केस भी चल रहा है।

   

कोर्ट में आरोपी को देख बच्ची बोली- इसी अंकल ने मेरे साथ बहुत बुरा काम किया

    श्रीगंगानगर. 10 साल की बालिका से रेप के दोषी आरोपी को 10 साल के कठोर कारावास और 10 हजार रुपए जुर्माना की सजा से दंडित किया गया है। यह निर्णय गुरुवार को लैंगिक हमलों से बालकों के संरक्षण मामलों की विशेष अदालत के जस्टिस महेश पुनेठा की बैंच ने सुनाया। आरोपी गिरफ्तारी के बाद से न्यायिक अभिरक्षा में था। अदालत ने पीड़ित बालिका के स्वयं के बयानों और मेडिकल रिपोर्ट को आधार मानकर आरोपी को दोषी करार देते हुए कठोर कारावास की सजा सुनाई है। बच्ची बोली- इसी अंकल ने मेरे साथ बहुत बुरा काम किया...
    - पीड़िता की बुआ के बेटे (उम्र 11 साल) ने चश्मदीद के तौर पर बयान दिए, जो महत्वपूर्ण साबित हुए। न्यायालय के विशिष्ट लोक अभियोजक बनवारीलाल कड़ेला ने बताया कि पीड़ित 10 वर्षीय बालिका ने अदालत में पेश किए गए आरोपी 32 वर्षीय भंवरलाल नायक पुत्र भीमसेन नायक को पहचानते हुए बयान दिए।
    - पीड़िता ने अदालत को बताया कि ये वही अंकल हैं, जिन्होंने मुझे गली से उठाकर कमरे में ले जाकर गंदा काम किया। इससे पहले मेरी बुआ के लड़के से भी गंदा काम करने की कोशिश की थी। उसने मना किया तो आरोपी अंकल ने उसको थप्पड़ भी मारा था। इसके बाद वह अंकल से छुड़वाकर भाग गया और घर जाकर सबकुछ बताया। आरोपी अंकल भंवरलाल मेरे ही गांव में रहते हैं और मैं इनको अच्छी तरह पहचानती हूं।
    - अदालत ने पीड़ित बालिका के बयानों और पुलिस द्वारा कराए गए मेडिकल की रिपोर्ट के साथ ही 14 गवाह और 25 साक्ष्य पेश किए। इस पर आरोपी को बालिका से यौन शोषण के दोष में 10 साल कठोर कारावास, रेप के दोष में 7 साल कठोर कारावास और दोनों धाराओं में क्रमश: 5-5 हजार रुपए जुर्माना की सजा सुनाई है। कोर्ट का फैसला
    भाई के साथ खेत जा रही थी बच्ची, आरोपी अपने घर ले गया
    - एसपीपी ने बताया कि 26 मार्च 2013 की शाम को पीड़िता अपनी दादी के साथ रायसिंहनगर थाना में पेश हुई। पीड़िता की दादी ने पुलिस को प्रार्थना पत्र देकर बताया कि शाम करीब चार बजे उसने अपनी 10 वर्षीय पोती और 11 वर्षीय दोहिते को खेत में काम कर रहे पति को बुलाने भेजा। थोड़ी देर बाद ही दोहिता भागते हुए वापस आया।
    - दोहिते ने बताया कि भंवरलाल नायक उसकी मुंहबोली बहन को कमरे में ले गया है। इस पर बुजुर्ग महिला तत्काल मौके पर पहुंची। वहां भंवरलाल नायक पीड़िता की 10 वर्षीय पोती के साथ रेप कर रहा था। पुलिस ने तत्काल मुकदमा दर्ज कर दूसरे दिन ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

   

जोधपुर से चली कालका-हरिद्वार एक्सप्रेस मेड़ता में रद्द, आज से 3 दिन नहीं चलेगी

जोधपुर.डेरा सच्चा सौदा केस में पंचकूला की सीबीआई कोर्ट की ओर से शुक्रवार को सुनाए जाने वाले फैसले के मद्देनजर बाड़मेर से जोधपुर के रास्ते कालका व हरिद्वार जाने वाली ट्रेन को जोधपुर से निकलने के बाद ही अचानक बीच रास्ते रद्द कर दिया गया। ट्रेन के यहां से रवाना होने के बाद इसे रद्द करने का मैसेज आया तब मेड़तारोड स्टेशन पर ट्रेन को निरस्त कर दिया गया।
इस ट्रेन को लेकर रेलवे के जिम्मेदार इस कदर गफलत में रहे कि उन्होंने कम्प्यूटर सिस्टम में कालका एक्सप्रेस को ही रद्द किया। जब रिफंड देने में दिक्कत की शिकायत पहुंची तो हरिद्वार एक्सप्रेस को शाम को रद्द करना बताया गया। यह ट्रेन अब 25 से 27 अगस्त तक संचालित नहीं होगी।
दरअसल, डेरा सच्चा सौदा केस को लेकर पंजाब व हरियाणा में अलर्ट है। बाड़मेर से चलने वाली ट्रेन संख्या 14888/24888 कालका-हरिद्वार एक्सप्रेस भी इन दोनों राज्यों से निकलती है। ऐसे में रेलवे प्रशासन ने सुबह करीब साढ़े ग्यारह बजे मैसेज किया कि इस ट्रेन को गंतव्य तक नहीं भेजा जाए। तब तक ट्रेन जोधपुर से मेड़तारोड की ओर बढ़ चुकी थी। ट्रेन 12:39 बजे मेड़तारोड पहुंची तो उसे वहीं पर रद्द कर दिया गया।
यात्रियों ने जब प्लेटफाॅर्म पर इस बारे में उद्घोषणा सुनी तो वे परेशान हो गए। रेलवे ने वहीं पर रिफंड की व्यवस्था की। यात्रियों को करीब एक लाख रुपए का रिफंड दिया गया। इस बीच, स्टेशन पर रिफंड को लेकर भी खासी दिक्कत हुई।
रेलवे का नियम है कि यदि किसी ट्रेन को बीच रास्ते में रद्द किया जाता है तो यात्री को सफर तय कर चुके रास्ते का किराया नहीं दिया जाता। इस ट्रेन में यात्रियों को बाड़मेर व जोधपुर से मेड़तारोड तक का किराया काट कर रिफंड किया गया। यात्री योगेश कुमार का कहना है कि जब रेलवे ने ट्रेन नहीं चलाने का फैसला लिया है तो इसका नुकसान यात्री क्यों उठाए?

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1785530

Site Designed by Manmohit Grover