You are here:

चूल्हे के पास बैठकर पटाखे बना रही थी लड़कियां, एक चिंगारी ने कर दिया ये हाल

E-mail Print PDF

सीकर. जिले के खंडेला कस्बे में बुधवार को तीन बच्चियां घर पर चूल्हे के पास बारूद से गोलियां बना रही थी। तभी अचानक ब्लास्ट हो गया। जिसमें दो मासूम बहनों की मौत हो गई और एक पड़ोसी की बेटी जख्मी हो गई। शुरुआती जांच में सामने आया है कि बच्चियां पैसा कमाने के लिए बारूद से पटाखे बना रही थीं। कंधे से हाथ और अंगुली तक अलग हो गई....
- पुलिस के मुताबिक, वार्ड 14 के रहने वाले लियाकत अली के घर शाम करीब छह बजे यह हादसा हुआ। लियाकत की पत्नी खुर्शीदा बानो चूल्हे के पास बैठकर खाना बना रही थीं। चूल्हे के दूसरी तरफ बेटी खुशबू बानो, आलिया और पड़ोसी रफीक की बेटी मुस्कान बैठी थी। तीनों बच्चियां बारूद से गाेलियां बना रही थी। तभी चूल्हे की आग से पास में रखे बारूद तक चिंगारी पहुंच गई और विस्फोट हो गया।
हादसे में 14 साल की खुशबू बानो और 2 साल की आलिया की मौके पर ही मौत हो गई। विस्फोट इतना तेज था कि खुशबू का कंधे से हाथ और अंगुली अलग हो गई। पड़ोसी रफीक की बेटी 15 साल की बेटी मुस्कान भी जख्मी हो गई।
दीवार पर फेंककर फोड़ने वाले पटाखे की गोलियां बना रही थीं
- लियाकत अली ने बताया कि राकेश भड़बूजा पटाखा सप्लाई का काम करता है। राकेश ने उनकी बेटियों को बारूद से गोली के रूप में पटाखे बनाने के लिए दिया था। 100 गोलियां बनाने पर राकेश पांच रुपए देता था।
- राकेश बारूद के साथ कपड़ा भी देता था। राकेश बच्चियों को कागज में बारूद देता था, लेकिन कपड़े में लेता था। बच्चियां बारूद की ढाई हजार गोलियां बना रही थी। यह सभी गोलियां एक साथ ही फट गई। इस वजह से इतना बड़ा हादसा हो गया। हादसे की खबर मिलने पर पुलिस के अाला अफसरों समेत टीम मौके पर पहुंची।
- लियाकत ने आरोप लगाया कि राकेश के परिजन रामबाबू, राधेश्याम, मामराज और सत्यनारायण भी बच्चों से पटाखे बनवाने का काम करते हैं। पुलिस ने राधेश्याम को हिरासत में ले लिया, लेकिन बाकी आरोपी फरार हो गए। बच्चियां बारूद की गोलियां बनाकर कपड़े में दबाती थी। फिर गोलियां बनाती थी। उस पर चमकीली पन्नी लगाकर पटाखे बनाएं जाते थे। इन पटाखों को दीवार पर जोर से फेंकने पर गोलियां फट जाती हैं।
प्राइवेट स्कूल में पढ़ती थी बच्चियां
लियाकत अली की बेटी खुशबू खंडेला में प्राईवेट स्कूल में चौथी में पढ़ती थी। दूसरी बेटी आलिया का अभी स्कूल में एडमिशन नहीं कराया था। वहीं, रफीक की बेटी मुस्कान अपने ननिहाल चंवर के एक प्राइवेट स्कूल में नौंवी में पढ़ती है, जो अपने मां-बाप के पास आई हुई है।
दोनों पक्षों के खिलाफ मुकदमा दर्ज
पुलिस ने बारूद सप्लायर राकेश भड़भूजा के साथ ही लियाकत अली के खिलाफ विस्फोटक पदार्थ अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया है। जांच में सामने आया कि राकेश और उसके परिवार वाले बारूद कई लोगों को सप्लाई करते हैं। आरोपी राकेश बच्चियों से ढाई हजार गोलियां बनवा रहा था। वहीं, लियाकत अली के खिलाफ इसलिए मामला दर्ज किया गया क्योंकि माना जा रहा है कि इतनी छोटी बच्चियां खुद बारूद नहीं खरीद सकती। मुमकिन है कि पैसा कमाने के लालच में बारूद लियाकत ने खरीदा होगा।

 

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1802711

Site Designed by Manmohit Grover