You are here:

नौकरी के लिए पैसे का मामला : दुग्गल के पीए सतपाल के खिलाफ भी एफआईआर

फतेहाबाद | सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर पैसे लेने के मामले में पुलिस ने हरियाणा अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम की चेयरमैन सुनीता दुग्गल के पीए सतपाल बाजीगर का नाम भी एफआईआर में शामिल किया है। हालांकि अभी तक उनकी गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। दूसरी अोर सिरसा लोकसभा निगरानी कमेटी की जांच में यह भी सामने आया है आरोपी भाजपा नेत्री रजनी देवी अपने पद का दुरुपयोग कई गोरखधंधों के लिए करती थी। गांव में चल रहे अवैध धंधों, जैसे कि शराब बिक्री, सट्टेबाजी आदि से जुड़े लोगों को पकड़वाने के नाम पर वसूली करती थी।

   

आमरण अनशन पर हुई महिला जेबीटी बेहोश, नौकरी पर बहाली का मिला आश्वासन

करनाल. लघु सचिवालय के सामने जेबीटी के आमरण अनशन के 21वें दिन एक महिला जेबीटी की तबीयत बिगड़ी और वह बेहोश हो गई। उसका शुगर लेवल 30 से नीचे पहुंच गया। महिला जेबीटी को तुरंत कल्पना चावला राजकीय मेडिकल कॉलेज में दाखिल कराया गया। वहीं दूसरी ओर जेबीटी का प्रतिनिधि मंडल पात्र अध्यापक संघ के प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र शर्मा के नेतृत्व में चंडीगढ़ में सीएम मनोहर लाल, प्रधान सचिव तथा ओएसडी से मिला। सीएम ने शिक्षकों की मांग को गंभीरता से लेते हुए अतिरिक्त मुख्य केके खंडेलवाल व एडवोकेट जनरल बलदेव राज महाजन को विशेष निर्देश जारी किए। सीएम ने दीपावली से पहले लो मेरिट 1259 अध्यापकों की समस्या का समाधान करते हुए विभाग में बहाल करने का आश्वासन दिया। इसके बाद आमरण अनशन पर बैठे अध्यापकों ने अनशन समाप्त करने पर सहमति जताई है। ओएसडी जवाहर यादव 12 अक्टूबर को दोपहर 2 बजे सीएम सिटी में धरना स्थल पर पहुंचेंगे और जूस पिलाकर शिक्षकों का अनशन खुलवाएंगे। जेबीटी शिक्षकों का कहना है कि वह नौकरी के लिए लंबे समय से संघर्ष कर रहे हैं। सरकार ने उनकी मांग स्वीकार करते हुए जल्द नौकरी बहाल करने का आश्वासन दिया है। उन्हें उम्मीद है कि जिस प्रकार से सरकार ने विभिन्न प्रकार के कानूनी अड़चनों को दूर करते हुए आठ हजार अध्यापकों को स्कूल भेजने का काम किया। उसी प्रकार लो मेरिट वालो जेबीटी को भी इस बार खुशियों भरी दीवाली मनाने का अवसर प्रदान करेगी।

   

हनीप्रीत का 3 दिन का रिमांड खत्म, विपश्यना के सामने बिठा हो सकती है पूछताछ

सिरसा/पानीपत। गुरमीत राम रहीम की राजदार हनीप्रीत से पुलिस पूछताछ का गुरुवार को आखिरी दिन है। पुलिस द्वारा लिया गया 3 दिन का रिमांड आज खत्म हो जाएगा। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि हनीप्रीत को किसी भी समय सिरसा डेरा सच्चा सौदा में पूछताछ के लिए लाया जा सकता है। चर्चा है कि पुलिस हनीप्रीत और विपश्यना को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ करना चाहती है। आखिरी दिन पूछताछ में एड़ी-चोटी का जोर लगाएगी पुलिस...
- पूछताछ का आज आखिरी दिन होने के कारण पुलिस एडी चोटी का जोर लगाएगी। पुलिस ने 10 अक्टूबर को हनीप्रीत का पुलिस रिमांड खत्म हुआ था। पुलिस ने उसी दिन विपश्यना को पूछताछ के लिए पंचकूला बुलाया था।
- वह स्वास्थ्य खराब होने का हवाला देकर वहां नहीं पहुंची। अब पुलिस आखिरी दिन हनीप्रीत को डेरा सच्चा सौदा लेकर जा सकती है और हनीप्रीत और विपश्यना को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ कर सकती है।
बुधवार को राजस्थान लेकर गई थी पुलिस
- हनीप्रीत को हरियाणा पुलिस बुधवार दोपहर बाद राजस्थान के श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ लेकर पहुंची थी। फरारी के दौरान हनीप्रीत दोनों जिलों में जहां-जहां रही, उन ठिकानों पर इस बात को कन्फर्म किया गया। पुलिस ने देर रात तक राम रहीम के बर्थ प्लेस गुरुसर मोडिया में कार्रवाई की।
- जानकारी के मुताबिक, पंचकूला पुलिस 7 गाड़ियों में हथियारबंद फोर्स के साथ हनीप्रीत को लेकर श्रीगंगानगर के गांव लाधुवाला के पास गिलों की ढाणी पहुंची। फरारी के दौरान हनीप्रीत यहां पर 2 दिन रुकी थी। बताया जा रहा है कि जिस ढाणी में वह ठहरी, वहां पर राम रहीम के रिश्तेदार रहते हैं।
- इस जगह पर जांच करने के बाद पुलिस टीम हनीप्रीत को लेकर शाम करीब पौने सात बजे हनुमानगढ़ के गांव गुरुसर मोडिया पहुंची। यहां पर गुरमीत राम रहीम का पुश्तैनी मकान है। टीम पहले सीधे वहां पर गई। वहां से डेरा सच्चा सौदा के सीनियर सेकेंडरी गर्ल्स स्कूल के हॉस्टल और हॉस्पिटल पहुंची। हनीप्रीत यहां पर तीन दिन तक रुकी थी।
- यहां से निकलकर ही वह गिलों की ढाणी में ठहरी थी। हरियाणा के पंचकूला एएसपी मुकेश मल्होत्रा टीम के साथ राजस्थान आए हुए थे। हरियाणा पुलिस अपनी कार्रवाई पूरी कर देर रात पंचकूला लौट गई।
हनीप्रीत ने कबूली पैसे बांटने और पंचकूला हिंसा में हाथ होने की बात
- वहीं, चंडीगढ़ में रिमांड के दौरान हनीप्रीत ने बुधवार को कबूल किया कि पंचकूला में हिंसा उसके इशारे पर हुई। एसआईटी के मुताबिक, हनीप्रीत ने बताया कि हिंसा के लिए उसने सवा करोड़ रुपए भी बांटे थे।
- बता दें, कि रिमांड के बाद मंगलवार को एसआईटी कोर्ट ने हनीप्रीत और सुखदीप कौर को पंचकूला कोर्ट में पेश किया था। इससे पहले हनीप्रीत को 4 अक्टूबर को कोर्ट में पेश किया गया था।
- इस दौरान हनीप्रीत ने रोते हुए कहा था कि मैं बेगुनाह हूं। हनीप्रीत पर 25 अगस्त को पंचकूला में हुई हिंसा की साजिश रचने का आरोप है।
- पंचकूला हिंसा में 36 लोग मारे गए थे और सिरसा में भी 5 की मौत हुई थी। हनीप्रीत देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार है और रिमांड पर चल रही है।

   

व्यापार में घाटा हुआ तो पार्टनर ने नहीं दिया बकाया, प्रोडक्शन मैनेजर ने किया सुसाइड

पानीपत.व्यापार में घाटा हुआ तो पार्टनर ने बकाया रुपए नहीं दिए। जिनसे कर्ज लेकर कारोबार शुरू किया था, उन्हें पत्नी के गहने तक दे दिए। फिर भी कर्जदारों ने कार छीन ली और रोजाना धमकी देते हैं। जिनसे परेशान होकर सुसाइड कर रहा हूं। मॉडल टाउन के कृष्णा नगर में रहने वाले निजी कंपनी के प्रोडक्शन मैनेजर नवीन शर्मा ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है।
उन्होंने बुधवार को जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली। तीन पेज का एक सुसाइड नोट मिला है। व्यापारी सहित पांच लोगों पर परेशान करने का आरोप लगाया है। मृतक की पत्नी ने पांचों के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज करवाया है। कृष्णा नगर गली नंबर 6 निवासी 43 वर्षीय नवीन शर्मा पुत्र उदय शर्मा गन्नौर के बड़ी गांव में इंटरनेशनल लिमिटेड कंपनी में प्रोडक्शन मैनेजर थे। उनके भाई ने बताया मंगलवार को नवीन शर्मा ने जहरीला पदार्थ खा लिया। अस्पताल में मौत हो गई। नवीन पहले इंटीरियर डिजायन की शॉप चलाते थे। इसमें नवीन ग्रोवर पार्टनर था। नुकसान होने पर नौकरी शुरू की थी। पत्नी सोनिया शर्मा ने नवीन ग्रोवर, भारत शर्मा, दिलावर मलिक, नवीन मलिक और सुशील त्यागी के खिलाफ केस दर्ज करवाया है। नवीन करनाल में दुकान चलाता है। बाकी के चार आरोपी पानीपत के रहने वाले हैं। नवीन शर्मा का 15 वर्षीय बेटा प्रणव दसवीं में पढ़ता है और 13 वर्षीय बेटी प्रियांशी भी पढ़ाई कर रही हैं।
सुसाइड नोट में लिखा... रोजाना फोन करके धमकाते हैं कि रुपए दे दो, नहीं तो आदमी घर पर भेजेंगे
सुसाइड नोट में लिखा कि नवीन ग्राेवर मेरा दोस्त है, उसके साथ पार्टनरशिप में काम किया था। जब नुकसान हुआ तो वह भाग गया। उस पर 2.70 लाख रुपए बकाया निकले। मैंने बरसत रोड पर काम करने वाले विरेंद्र शर्मा से 2 लाख रुपए नवीन ग्रोवर को ब्याज पर दिलाए थे। वो भी रुपए देने से मना कर दिया। भारत शर्मा से मैंने एक लाख रुपए लिए थे। उसके बदले में 15 हजार रुपए नकद, 15 हजार और दिए। 90 हजार रुपए के गहने दे दिए। इसके बाद भी उसने चेक बाउंस का केस दर्ज करा दिया। दिलावर मलिक की दुकान को किराए पर लिया था। उसका 6 माह का किराया बाकी है। उन्होंने मेरी दुकान का सारा सामान रख लिया। दिलावर मलिक, नवीन मलिक व सुशील त्यागी के एक लाख रुपए देने हैं। सुशील त्यागी ने मेरी कार छीन ली। रोज फोन करके धमकाते हैं कि रुपए दे दो, नहीं तो आदमी घर पर भेजेंगे। दिलावर मलिक, नवीन मलिक और सुशील त्यागी की मेरे फोन में रिकॉर्डिंग है। इसलिए मैं आत्महत्या कर रहा हूं।

   

हनीप्रीत 10X14 की बैरक, एक कंबल में गुजार रही दिन; हवालात में पंखा भी नहीं

पंचकूला। बाबा राम रहीम की करीबी और मुंहबोली बेटी हनीप्रीत कभी फाइव स्टार सुविधाओं की आदी रही थी, लेकिन अब उसे पंचकूला के चंडीमंदिर पुलिस स्टेशन के 10/14 बैरक में वक्त गुजारना पड़ रहा है। उसे सिर्फ एक कंबल दिया गया है। हवालात में सुरक्षा के लिहाज से पंखा भी नहीं है। बाबा के साथ रहने वाली हनीप्रीत सब्जियोंं और चॉकलेट्स और कॉफी की शौकीन रही। हवालात में अब उसे यह सब नहीं मिल रहा है। अब हनीप्रीत बैरक में क्या खा रही हैं, कैसे रह रही है। इस पर DainikBhaskar.com ने इन्वेस्टिगेशन की है।
- एक टाइम में कई सब्जियाें के साथ ही खाना खाने की हनीप्रीत शौकीन रही है, लेकिन अब उसे रोजाना सुबह साढ़े 7 बजे चाय दी जाती है। उसके बाद सुबह 11 बजे नाश्ता फिर डिनर। पहले दिन मंगलवार ( 3 अक्टूबर) रात को उसे खाना दिया गया था, जिसमें उसे दो रोटी और एक दाल दी गई। वैसे ही बुधवार सुबह 7 बजे और फिर 9 बजे चाय दी गई। रात के खाने में शाम को तीन रोटी और दाल दी गई।
- हनीप्रीत कई बार कॉफी की डिमांड कर चुकी है, क्योंकि हनीप्रीत रूटीन में कॉफी लेती रही है, लेकिन यहां बस चाय ही मिल रही है।
एक कंबल में ही गुजारा
- हनीप्रीत हमेशा से ही एसी या फाइव स्टार होटलों में रही है। यहां उसे जिस बैरक में रखा गया है, उसमें सुरक्षा के लिहाज से कोई पंखा भी नहीं है। बैरक 10/14 की बनी हुई है और उसके अंदर ही इसका पूरा वक्त कट रहा है। बैरक में सिर्फ एक ब्लैक कलर का कंबल है, जिसकी लंबाई 5/2 है। इसको या तो नीचे बिछा सकते हैं या ऊपर ओढ़ सकते हैं।
पेस्ट और टूथब्रश मंगवाया गया
- सुखदीप ने पुलिस को बताया कि हनीप्रीत को माइग्रेन है। उसे डॉक्टर ने बेस्ट क्वालिटी के तकिए लेने के लिए कहा हुआ है, लेकिन जेल में ऐसा कुछ भी नहीं है। हनीप्रीत ने पिछले चार दिनों में चार बार कपड़े बदले हैं, जबकि उसके लिए बाहर से पेस्ट और टूथब्रश मंगवाया गया था। हनीप्रीत के बैग में पहले से ही ये दोनों चीजें मौजूद थीं।
सुखदीप ने दी ये जानकारी
- सुखदीप ने बताया कि दो सितंबर को उससे हनीप्रीत ने संपर्क किया था। इसके बाद वो उसके पास आ गई थी। उसके बाद दोनों बठिंडा में रहीं। यहीं से हनीप्रीत, सुखदीप और दूसरी गाड़ी में मौजूद दूसरे लोगों के साथ दिल्ली गई। फिर दिल्ली से बठिंडा गए। वहां पर वह लोग रहे। ट्राईसिटी के आसपास के एरिया में भी कई दिन बिताए।
- बता दें कि सुखदीप कौर ने हनीप्रीत के फरारी के वक्त साथ दिया था। उसे अपने बठिंडा वाले घर में रखा था। हनीप्रीत के अरेस्ट होने के वक्त हरदीप उसके साथ थी।
सुखदीप को रखा गया अलग
-हनीप्रीत पहले ही पुलिस को सवालों के जवाब नहीं दे रही है। ऐसे में उसके साथ सुरक्षा और प्राइवेसी के लिहाज से सुखदीप को नहीं रखा गया है। दोनों को अलग-अलग बैरकों में रखा गया है। पुलिस को शक है कि जैसे सुखदीप उन्हें इनपुट्स दे रही है, तो कहीं हनीप्रीत उसे एक बैरक में होने के चलते धमका न दे।
हनीप्रीत कितने दिन की पुलिस कस्टडी में है?
-हनीप्रीत को बुधवार को पंचकूला कोर्ट में पेश किया गया था। सुनवाई के बाद कोर्ट ने उसको 6 दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया। पुलिस ने 14 दिन की कस्टडी मांगी थी।
कहां रखा गया है?
-हनीप्रीत पंचकूला के सेक्टर-23 स्थित चंडीमंदिर पुलिस स्टेशन मेंं रखा गया है। यहांं पुलिस कमिश्नर एएस चावला, क्राइम अगेंस्ट वुमन आईजी ममता सिंह, डीसीपी मनबीर सिंह समेत कई अफसर उससे पूछताछ कर रहे हैं।
25 अगस्त को फरार हो गई थी हनीप्रीत
- राम रहीम को रेप केस में दोषी करार दिए जाने के बाद हनीप्रीत बाबा के साथ पुलिस के हेलिकॉप्टर से रोहतक की सुनारिया जेल पहुंची थी। उसने बाबा के साथ अंदर जाने की जिद की थी, लेकिन पुलिस ने उसे वहां से बाहर भेज दिया था। इसके बाद से हनीप्रीत गायब थी। वहीं, डेरे की चेयरपर्सन विपासना इंसां का कहना है कि हनीप्रीत 25 अगस्त की रात को उसके साथ डेरा सच्चा सौदा सिरसा आई थी। इसके बाद अगले दिन वह वहां से निकल गई। फिर 39 दिन उसका कोई अता-पता नहीं चला।
- पुलिस ने उसे 3 अक्टूबर को पंजाब के जीरकपुर-पटियाला हाईवे से अरेस्ट किया था।
कौन है हनीप्रीत इंसां?
- हनीप्रीत के पिता रामानंद तनेजा और मां आशा तनेजा फतेहाबाद के रहने वाले हैं। हनीप्रीत का असली नाम प्रियंका तनेजा है। हनीप्रीत के पिता राम रहीम के अनुयायी थे। वे अपनी सारी प्रॉपर्टी बेचने के बाद डेरा सच्चा सौदा में अपनी दुकान चलाने लगे। 14 फरवरी 1999 को हनीप्रीत और विश्वास गुप्ता की सत्संग में शादी हुई। इसके बाद बाबा ने हनीप्रीत को अपनी तीसरी बेटी घोषित कर दिया।
- हनीप्रीत राम रहीम के प्रोडक्शन में बनी फिल्मों में एक्टिंग और डायरेक्शन भी कर चुकी है। बताया जाता है कि हनीप्रीत साए की तरह बाबा के साथ रहती थी। हनीप्रीत के पूर्व पति का आरोप है कि हनीप्रीत और राम रहीम के बीच नाजायज रिश्ते थे। उसने दोनों को एक बार आपत्तिजनक हालत में देखा था। जब राम रहीम को रेप केस में दोषी करार दिया गया तो हरियाणा में जमकर हिंसा भड़की। हनीप्रीत पर इस हिंसा की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

   
  • «
  •  Start 
  •  Prev 
  •  1 
  •  2 
  •  3 
  •  4 
  •  5 
  •  6 
  •  7 
  •  8 
  •  9 
  •  10 
  •  Next 
  •  End 
  • »

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1801038

Site Designed by Manmohit Grover