You are here:

प्रेमी जोड़े को पहले जहर पिला तड़पाया फिर गला दबाकर की थी दोनों की हत्या

मंडी आदमपुर सिटी / उचाना. आदमपुर से दस दिनों से लापता प्रेमी जोड़े की ऑनर किलिंग के शक में गुरुवार रात गिरफ्तार किए लड़की के भाई बहनोई ने बड़ा खुलासा किया। प्रेम प्रसंग से खफा आरोपियों ने प्रेमी जोड़े को गेहूं में डालने वाली दवा पिलाकर तड़पाया फिर गला दबाकर हत्या करने की बात स्वीकार की है। पुलिस ने शुक्रवार को दोनों आरोपियों को अदालत में पेश किया। जहां से पुलिस ने दोनों को पूछताछ और दोनों की डेडबॉडी बरामद करने के लिए तीन दिन के रिमांड पर लिया है।
आदमपुर थाना प्रभारी पवन कुमार जांच अधिकारी उपनिरीक्षक सूरजमल ने बताया कि रिमांड के दौरान दोनों आरोपियों ने बताया कि उन दोनों ने ही मिलकर सपना सेढ़ा माजरा निवासी विक्रम की हत्या की थी। हत्या करने के बाद उन्होंने दोनों के शवों को सिद्धमुख ब्रांच नहर में फेंक दिया था। उन्होंने बताया कि उन्हें विश्वास था कि सेढ़ा माजरा निवासी विक्रम उनकी बहन को अपनी बहन की तरह समझता था, लेकिन जब उन्हें उन दोनों के प्रेम प्रसंग के बारे में पता चला तो विक्रम को फोन कर आदमपुर बुलाया। आदमपुर बुलाकर उन्होंने उन दोनों को काफी समझाया, लेकिन जब वे दोनों नहीं माने तो उन्होंने 11 सितंबर की रात को दोनों की हत्या कर शव को नहर में फेंक दिया।
पुलिस पूछताछ के दौरान उन्होंने बताया कि उन दोनों को पहले गेहूं में डालने वाली दवाई पिलाई जब वे तड़पने लगे तो उन्हें गला दबाकर मार दिया। हत्या के बाद उनके शवों को मोहब्बतपुर रोड स्थित सिद्धमुख नहर में फेंक दिया था। पुलिस को हत्याभियुक्तों ने बताया कि हत्या के बाद विक्रम का मोबाइल अपनी बहन की चुन्नी को जलाकर नहर में डाल दिया। इसके बाद उन्होंने विक्रम की बाइक को कुमारिया हेड से नहर में डाल दिया।
इस तरह लापता हुआ था प्रेमी जोड़ा
लापता विक्रम के भाई सेढ़ा माजरा निवासी दिलबाग ने बताया कि उसका भाई विक्रम 11 सितंबर को करीब 1 बजे अपनी बाइक लेकर गया था। जब उन्होंने साढ़े 4 बजे के करीब उसके पास फोन किया तो उसका फोन किसी अन्य ने उठाया और कहा कि उसका फोन चार्ज लगा हुआ है वह आते ही विक्रम से उनकी बात करवा देगा। देरशाम तक उनकी विक्रम से बात नहीं हुई तो गड़बड़ी होने की आशंका हुई। बार-बार फोन करने के बाद भी विक्रम का फोन नहीं मिला। उसके बाद उन्होंने अपने स्तर पर उसकी काफी तलाश की, लेकिन उसका कहीं कोई सुराग नहीं मिला। 17 सितम्बर को वे आदमपुर आए तो पता चला कि उसके भाई विक्रम को आदमपुर इंद्रा कालोनी निवासी शिवकुमार मां उसकी केलो देवी ने बुलाया था। उसके बाद वह अपने गांव चला और अगले दिन 18 सितम्बर को गांव के मौजिज आदमी पूर्व सरपंच ईश्वर सिंह, जोगेंद्र, कुलदीप राजू के साथ शिवकुमार के घर पहुंचे। जहां पर आजाद सिंह, शिवकुमार उसकी मां केलो, बहन ज्योति जीजा घर पर थे। उन्होंने जब उनसे विक्रम के बारे में पूछा तो वे बार-बार कहते रहे कि अपने लड़के को भूल जाओ। आपका लड़का गया और हमारी लड़की गई। जिससे हमें पक्का विश्वास हो गया कि इन्हीं लोगों ने ही विक्रम को मारा और लाश को कहीं छिपा दिया है।

   

पानीपत के स्कूल में रेप की कोशिश करने वाला आरोपी अरेस्ट, बच्ची ने की पहचान

पानीपत. गुड़गांव के बाद पानीपत के द मिलेनियम स्कूल में 9 साल की बच्ची से रेप की कोशिश का आरोपी 22 साल का तरुण निकला। ये स्कूल में स्वीपर है। घटना के 38 घंटे बाद गुरुवार देर रात उसे अरेस्ट कर लिया गया। तरुण राकेश नगर का रहने वाला है। इससे पहले पुलिस ने हिरासत में लिए गए 5 स्वीपर और 7 दूसरे स्टाफ के फोटो गुरुवार शाम बच्ची को दिखाए थे। इस दौरान वह काफी डरी रही। इसके बाद मां ने फोटो दिखाए तो उसने आरोपी को पहचान लिया। पेरेंट्स ने की मांग- स्कूल मालिक पर भी केस दर्ज हो...
प्रोटेस्ट के बाद द मिलेनियम स्कूल तीन दिन के लिए बंद
- बच्ची के परिजनों की मौजूदगी में सीसीटीवी फुटेज खंगाली गई। चाइल्ड प्रोटेक्शन कमीशन और पेरेंट्स ने मांग की है कि स्कूल मालिक के खिलाफ भी केस दर्ज किया जाए। जांच पूरी होने तक लोकल एडमिनिस्टेशन स्कूल को टेकओवर करे।
बच्ची ने क्लास इंचार्ज को बताई थी आपबीती,लेकिन उन्होंने यकीन नहीं किया
- बच्ची ने सीपीओ निधि गुप्ता को बताया था कि मैं बुधवार को स्कूल जाने के 5 मिनट बाद करीब 7:45 बजे टॉयलेट के लिए गई तो इंग्लिश लैब से कोई झांक रहा था। जैसे ही टॉयलेट में गई तो हरे रंग की टी-शर्ट पहने एक युवक आया और मेरे साथ गंदी हरकतें करने लगा।
- मैं चिल्लाने लगी तो मुंह दबा दिया। उसने धमकी दी कि अभी तो मैं जा रहा हूं, लेकिन अगर किसी से बताया तो कुछ भी कर सकता हूं। वहां से किसी तरह बाहर आई। इसके बाद परीक्षा शुरू हुई तो मैं डर के मारे रोने लगी। कक्षा की इंचार्ज को सारी बात बताई, लेकिन उन्होंने यकीन नहीं किया।
सात राज्यों में 19 ब्रांच है स्कूल की
- मिलेनियम स्कूल श्री राधारमण एजुकेशन ट्रस्ट का है। इसके चेयरमैन गुड़गांव के शांतनु प्रकाश हैं। ये आईआईएम अहमदाबाद से पास आउट हैं और ऑनलाइन स्मार्ट क्लास एडुकॉम सॉल्यूशन लिमिटेड चलाते हैं। इंदौर, जयपुर, सूरत, मेरठ, पटना समेत सात राज्यों के 19 शहरों में स्कूल की ब्रांच है। 10 और खोलने की तैयारी है। हरियाणा में पानीपत, करनाल और कुरुक्षेत्र में इसकी ब्रांच है। पानीपत में यह 2009 में खुला। तब 234 बच्चे पढ़ते थे, अब 1050 हैं।
- यह शहर के सबसे पॉश इलाके अंसल सुशांत सिटी में बना है। कैम्पस 4.7 एकड़ में फैला है। यहां 12वीं तक की पढ़ाई होती है।
- तीन एकड़ में बना स्कूल भवन चार मंजिला है। ऊपर की दो मंजिलें खाली हैं। पहली से पांचवीं तक की पढ़ाई पहली मंजिल पर होती है, बाकी नीचे। क्लास 5 तक सालाना फीस 1.15 लाख और 11वीं-12वीं की 1.26 लाख है।

   

जेल में मां ने ली बाबा से अनुमति, राम रहीम का बेटा बन सकता है डेरा चीफ

सिरसा.साध्वी यौन शोषण मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम को 20 साल की सजा होने के बाद डेरे के मुखिया को लेकर लगातार कयास लगाए जा रहे हैं। इसे लेकर 23 सितंबर पर सबकी नजर है। क्योंकि 23 सितंबर को डेरा का गुरता गद्दी दिवस होता है। इसी दिन ही गुरमीत राम रहीम ने डेरा की गद्दी संभाली थी।
राम रहीम बन सकता है डेरे का केयर टेकर
अब यह संभावना जताई जा रही है कि इसी दिन राम रहीम का बेटा जसमीत इंसां डेरे का केयर टेकर बन सकता है। हालांकि इसकी कहीं कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की जाएगी। क्योंकि सोमवार पुलिस से पूछताछ में डेरे की चेयरपर्सन बिपासना इंसां ने कहा है कि 23 सितंबर को डेरे में कोई आयोजन नहीं होगा। हर डेरा प्रेमी को घर में ही सत्संग करने के लिए कहा गया है। ऐेसे में यह माना जा रहा है कि बाबा के बेटे काे डेरे का केयरटेकर घोषित करने की सूचना डेरे के खासमखास लोगों तक पहुंचा दी जाएगी। उच्च सूत्रों का कहना है कि पिछले बृहस्पितवार को डेरे बाबा की मां ने जेल में राम रहीम से मुलाकात कर इसकी अनुमित ले ली है। इसका बड़ा कारण यह भी है कि राम रहीम के बेटे जसमीत पर अभी सीधा कोई मुकदमा दर्ज नहीं है। इससे पहले कि सरकार डेरे पर प्रशासक नियुक्त करे। डेरे का कोई न कोई उत्तराधिकारी घोषित कर दिया जाए।

   

हनीप्रीत ने बदला गेटअप, 2 सितंबर तक काठमांडू से 60 किलोमीटर दूर देखी गई

पंचकूला.हरियाणा पुलिस की एसआईटी ने राजस्थान से जिस प्रदीप गोयल को पकड़ा था वह राम रहीम का करीबी है। उसने पुलिस रिमांड में बड़ी इनपुट दी कि हनीप्रीत नेपाल गई थी और वहीं हो सकती है। इसके बाद हरियाणा पुलिस ने काठमांडू में अपने सोर्स से कॉन्टैक्ट किया। दो सोर्सेज को काठमांडू से करीब 60 किलोमीटर दूर एक जगह पर भेजा गया है। दोनों हनीप्रीत की फोटो के साथ हकीकत का पता लगा रहे हैं।हनीप्रीत के साथ है 3-4 लोग जो ठहरने के लिए जगह तलाशते हैं...
- काठमांडू से 60 किलोमीटर दूर चार लोगों ने हनीप्रीत की फोटो देखकर कन्फर्म किया कि 2 सितंबर तक वह उनके पड़ोस में ही मौजूद थी और उसके बाद अचानक गायब हो गई।
- इसके बाद एसआईटी को मैसेज दिया गया है और डीजीपी से बात कर सर्च ऑपरेशन चलाने की मंजूरी ली जा रही है।
- इसके साथ-साथ इंटेलिजेंस इनपुट आई है कि हनीप्रीत के साथ उसके भरोसे के तीन-चार लोग मौजूद हैं जो उसके लिए सेफ जगह तलाशते हैं और उसे कुछ दिनों के लिए स्टे करवाते हैं।
- हनीप्रीत ने अपने पूरे गेटअप को चेंज किया है। वह पर्सनल गाड़ी के बजाय टैक्सी से सफर कर रही है।
जींस, टी-शर्ट या शर्ट-पैंट में नजर आए थे ये दंगाई
- वहीं, पुलिस ने पंचकूला में दंगे भड़काने वाले 43 लोगों की लिस्ट और फोटो जारी की है। इनमें सबसे पहला नाम और फोटो हनीप्रीत का और दूसरा आदित्य इंसां का।
- इनके अलावा 41 फोटो हैं, लेकिन उनके नाम नहीं हैं। इन फोटोग्राफ्स में ज्यादातर लोग हथियारों के साथ आक्रामक अंदाज में नजर आ रहे हैं।
- खास बात ये है कि ये दंगाई जींस, टी-शर्ट या शर्ट-पैंट में नजर आ रहे हैं और इनमें से ज्यादातर युवा हैं। जबकि बाबा के समर्थन में पहले से ही पंचकूला में डेरा जमाने वाले ज्यादातर सपोर्टर कुर्ते-पजामे में थे।
- दंगा करने वाले 25 अगस्त की दोपहर 12 से 1 बजे के बीच सामने आए और पंचकूला में हिंसा को अंजाम दिया।
- भास्कर ने पहले ही बता दिया था कि दंगा करने वाले 25 तारीख को कुछ ही देर पहले पंचकूला में आए थे। 25 अगस्त को ऐन वक्त पर दंगा भड़काने के बाद आदित्य इंसां अपने साले प्रकाश उर्फ विक्की के साथ फरार हो गया था।
मोबाइल डंप के जरिए गिरफ्तारियां शुरू
- पुलिस ने 25 तारीख के दंगे को देखते हुए पंचकूला के सेक्टर-2 और 4 से कई संदिग्ध मोबाइल नंबर जुटाए थे। इन्हीं नंबरों के जरिए एसआईटी ने कालपी से तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। इन्हें पंचकूला कोर्ट में पेश कर बाकी लोगों की शिनाख्त के लिए रिमांड पर लिया गया है।

   

रद्द हो सकती है एचएसएससी की परीक्षा, पुलिस ने माना लीक हो चुका था पेपर

फरीदाबाद.हरियाणा स्टाफ सिलेक्शन कमीशन (एचएसएससी) की ओर से रविवार को हुई कंडक्टर पद की परीक्षा रद्द हाे सकती है। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं। पुलिस का मानना है कि पेपर लीक हो चुका था। पेपर लीक करने के आरोप में दोनों आरोपियों को पुलिस ने सोमवार को अदालत में पेश किया। जहां से मुख्य आरोपी को तीन दिन और दूसरे आरोपी को एक दिन की पुलिस रिमांड पर सौंप दिया गया।
रविवार को सायंकालीन सत्र में 23 परीक्षा केंद्रों में 6061 परीक्षार्थी कंडक्टर पद के लिए परीक्षा दे रहे थे। परीक्षा निष्पक्ष एवं सुरक्षित आयोजित कराने के लिए एचएसएससी ने बालाजी सिक्योरिटी सर्विस को जिम्मेदारी दी थी। इस सिक्योरिटी सर्विस ने परीक्षाओं में मोबाइल फोन का इस्तेमाल पर रोक लगाने के लिए प्रत्येक परीक्षा केंद्र में जैमर लगाए थे। इसी जैमर को जांचने की बात कहकर आरोपी धर्मेंद्र बल्लभगढ़ स्थित रावल कान्वेंट स्कूल के परीक्षा केंद्र में घुसा। उसने परीक्षा केंद्र के प्रवेश द्वार पर तैनात पुलिस अधिकारियों को हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग का परिचय पत्र दिखाते हुए केंद्र में घुसा और कहा कि वह केंद्र में लगे मोबाइल जैमर जांचने के स्टाफ से है। धर्मेंद्र ने केंद्र में जाकर अपने साथी परीक्षार्थी जींद निवासी कर्मजीत से प्रश्न पत्र लिया और उसके स्थान पर उसे खाली शीट पकड़ा दी।
परीक्षा केंद्र के स्टाफ ने जब धर्मेंद्र की संदिग्ध स्थिति देखी तो उसने पुलिस को शिकायत की। इसके बाद पुलिस ने धर्मेंद्र को दबोच लिया तथा उसके फोन से तब तक प्रश्न पत्र वाट्सएप द्वारा रोहतक के एक मोबाइल नंबर पर जा चुका था। पुलिस सूत्रों की मानें तो रोहतक से धर्मेंद्र के मोबाइल पर प्रश्नपत्र के उत्तर भी आने शुरू हो गए थे। पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ फर्जी सरकारी कर्मचारी बनकर धोखाधड़ी करने कागजों में हेराफेरी करने का मुकदमा दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। प्रश्न पत्र लीक होने से प्रदेश भर में हुई सायंकालीन परीक्षा रद्द हो सकती है। मुख्य आरोपी को तीन दिन और दूसरे आरोपी को एक दिन की पुलिस रिमांड पर सौंप दिया गया।
दोनों आरोपियों की निशानदेही पर रोहतक में उन लोगों को पकड़ने के लिए पुलिस टीम भेज दी गई है जिनके मोबाइल फोन पर प्रश्नपत्र भेजा गया था।-विष्णुदयाल शर्मा, डीसीपी फरीदाबाद

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1788830

Site Designed by Manmohit Grover