You are here:

घरेलू विवाद में बेटे ने फंदा लगाकर और पिता ने जहर खाकर दी अपनी जान

चरखी दादरी.गांव झोझू कलां में घरेलू विवाद में कहासुनी होने पर बेटे ने रविवार रात फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। इससे आहत होकर पिता ने भी सोमवार सुबह जहर खाकर जान दे दी।
पुलिस ने इस मामले में इत्तफाकिया मौत की कार्रवाई की है। गुड़गांव में एक निजी बैंक में क्लर्क पद पर कार्यरत गांव झोझू कलां निवासी 25 वर्षीय अरविंद की रविवार शाम रिटायर्ड शिक्षक पिता मित्र सिंह से घरेलू मामले को लेकर कहासुनी हो गई। इसी को लेकर अरविंद ने देर रात अपने कमरे में जाकर फंदा लगा आत्महत्या कर ली। सोमवार सुबह परिजनों ने बेटे का शव देखा तो आहत होकर मित्र सिंह ने भी शौचालय में जाकर जहर खा लिया, जिससे उसकी भी मौत हो गई। परिजन बिना पोस्टमार्टम के ही दाह संस्कार की तैयारी कर रहे थे कि पुलिस ने मौके पर जाकर शव अपने कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम करवा शव परिजनों को सौंप दिया। चौकी प्रभारी देवेंद्र डबास ने बताया कि मौत के कारणों का पता नहीं चल पाया है फिलहाल परिजनों के बयान दर्ज कर इत्तफाकिया मौत की कार्रवाई की है। युवक अविवाहित था।

   

चुनावी रंजिश में दो पक्षों में खूनी संघर्ष, 5 लोगों की गोली मारकर हत्या

फरीदाबाद। यहां के पलवली गांव में रविवार देर रात दो पक्षों में खूनी संघर्ष हुआ। इस दौरान एक पक्ष द्वारा की गई फायरिंग में दूसरे पक्ष के 5 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गई। वहीं 8 लोग घायल हैं। घटना के पीछे का कारण पंचायत चुनाव की रंजिश बताया जा रहा है। मामला पता चलते ही केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर, विधायक सीमा त्रिखा, आईपीएस डॉ हनीफ कुरैशी मौके पर पहुंचे। पुलिस ने 27 नामजद व 15 अन्य के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। आरोपी के सभी लोग फरार हैं। पढ़िए क्या है पूरा मामला...
- प्राप्त जानकारी के अनुसार पलवली गांव में करीब डेढ़ साल पहले हुए पंचायत चुनाव में पूर्व सरपंच बिल्लू पलवली की पत्नी ने चुनाव जीता था। उस दौरान गांव के श्रीचंद के साथ उनका विवाद हो गया था। इसके बाद से दोनों पक्षों में कई बार झड़प हो चुकी थी।
- पुलिस एफआईआर के अनुसार आरोप है कि इसी रंजिश के चलते रविवार रात 9.30 बजे बिल्लू पलवली अपने कुछ लोगों के साथ श्रीचंद के परिवार के लोगों पर हमला कर दिया।
- दोनों पक्षों में पहले हाथापाई होती है, इसके बाद बिल्लू पलवली के लोग फायरिंग शुरू कर देते हैं।
- इस फायरिंग में श्रीचंद (61), राजेंद्र प्रसाद (55), ईश्वर चंद (40), नवीन (36), देवेंद्र (35) की मौत हो गई। जबकि 8 अन्य घायल हैं। इनका इलाज चल रहा है।
आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस टीम गठितः कमिश्नर
- फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर हनीफ कुरैशी ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। मामला दर्ज कर लिया गया है। आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस टीम गठित कर दी गई है।
- गांव में एहतियातन पुलिस तैनात कर दी गई है।
केंद्रीय मंत्री बोलो- बख्शा नहीं जाएगा आरोपियों को
- घटना के बाद केंद्रीय मंत्री कृष्ण पाल गुज्जर भी अस्पताल पहुंचे। उन्होंने परिवार के लोगों को सांत्वना दी।
- उनका कहना था कि आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस को तत्काल कार्रवाई के निर्देश दे दिए गए हैं।

   

दोस्त की शवयात्रा में पहुंचे यूपी के CM, अर्थी को कंधा देते भर आईं आंखें

रोहतक।रोहतक के अस्थल बोहर स्थित बाबा मस्तनाथ मठ के गदीनशीन महंत चांदनाथ का रविवार को निधन हो गया। वह राजस्थान के अलवर से भारतीय जनता पार्टी के सांसद भी थे। महंत चांदनाथ लंबे समय से कैंसर से पीड़ित थे, जिनका दिल्ली के अपोलो अस्पताल में इलाज चल रहा था। रात 12 बजे महंत ने अंतिम सांस ली। संत की अंतिम यात्रा में पहुंचे यूपी के सीएम ने जैसे ही उनकी अर्थी में कांधा दिया उनकी आंखें भर आईं। योगी आदित्यनाथ और मनोहर लाल ने दिया कंधा...
- उनका पार्थिव शरीर बाबा मस्तनाथ मठ में अंतिम दर्शनों के लिए रखा गया था। अंतिम संस्कार कार्यक्रम आज शाम 4.00 बजे किया जाना था, लेकिन किन्हीं कारणों से विलंब हो गया।
- फिर करीब 5 बजे शंखनाद के साथ उनकी अंतिम यात्रा शुरू हुई, वहीं अंतिम यात्रा में राजस्थान की सीएम वसुंधरा राजे, हरियाणा के सीएम मनोहर लाल, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्‌डा समेत कई बड़ी हस्तियां शामिल हुई।
- यहां तक कि योगी आदित्यनाथ और मनोहर लाल खट्‌टर तो महंत के पार्थिव शरीर को कंधा देते वक्त भी नजर आए।
इन्होंने जताया शोक
- भाजपा के राज्य प्रवक्ता आनंद शर्मा ने बताया कि चांदनाथ कैंसर से पीड़ित थे, जिसके चलते उनका निधन हो गया। इस पर राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ट्वीट कर कहा, ‘अलवर सांसद श्री महंत चांदनाथ जी के निधन पर शोक व्यक्त करती हूँ, उनका निधन मेरे और समस्त भाजपा परिवार के लिए एक बहुत बड़ी क्षति है’
- वहीं पीएम ने कहा कि अपने सामाजिक कार्यों के लिए वह याद किए जाते रहेंगे। पीएमओ द्वारा इस बाबत ट्वीट किया गया Saddened by the demise of LS MP from Alwar, Mahant Chand Nath ji. He will be remembered for his rich social work. My deepest condolences: PM
- भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी ने अलवर सांसद महंत चांदनाथ के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की है। परनामी ने कहा कि उनके निधन से भाजपा परिवार को गहरी क्षति पहुंची है।
अक्सर साथ दिखते थे योगी आदित्यनाथ और चांदनाथ
- इससे करीब एक साल पहले भी योगी आदित्यनाथ रोहतक आए थे। जब वह गोरखपुर के सांसद थे तो अपने सांसद मित्र योगी महंत चांदनाथ के उत्तराधिकारी को आशीर्वाद देने पहुंचे थे।
- बात 29 जुलाई 2016 की है, जब लगातार बीमार रहने की वजह से चांदनाथ ने 29 जुलाई 2016 को राजस्थान के हनुमानगढ़ स्थित डेरे के कोठारी योगी बालकनाथ को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया था।
- नए उत्तराधिकारी बाबा बालकनाथ को मठ की परपंरा के मुताबिक बाबा बालकनाथ को बाबा मस्तनाथ की समाधिस्थल पर नाथ संप्रदाय की शपथ दिलाई गई तो स्वामी रामदेव और योगी आदित्य नाथ भी शामिल हुए थे।
- इसके अलावा चाहे गोरखपुर का सम्मेलन हो या योगी अद्वैतनाथ की अंतिम यात्रा, लगभग हर पल योगी अादित्यनाथ और योगी महंत चांदनाथ साथ दिखाई देते थे। यहां तक कि गोरखपुर के धन्यवाद समारोह में जब योगी आदित्यनाथ भावुक हो गए थे तो तब चांदनाथ ने ही उन्हें संभाला था।
- आज चांदनाथ को अंतम विदाई देने के वक्त योगी आदित्यनाथ का भावुक हो जाना स्वाभाविक ही था। वह अपने आंसुओं को रोक नहीं पा रहे थे।

   

बच्चे के मर्डर के 9 दिन बाद खुला गुड़गांव का रेयान स्कूल, कुछ पेरेंट्स TC लेने पहुंचे

गुड़गांव. बच्चे के मर्डर की घटना के 9 दिन बाद रेयान इंटरनेशनल स्कूल सोमवार को खुल गया। इस दौरान कुछ पैरेंट्स अपने बच्चों की टीसी लेने भी पहुंचे। उनका कहना है कि अब वे अपने बच्चे को इस स्कूल में नहीं पढ़ाना चाहते। वहीं, कुछ पैरेंट्स अपने बच्चों का डर दूर करने के लिए उन्हें कैम्पस में घुमाने लाए। बता दें कि 8 सितंबर को इस स्कूल में 7 साल के एक बच्चे का गला रेतकर मर्डर कर दिया गया था। इसके बाद इसे सील कर दिया गया था। अब सरकार ने इसे तीन महीने के लिए टेकओवर कर लिया है। वहीं, स्कूल खुलने पर बच्चे के पिता ने इसका विरोध किया। वारदात वाली जगह समेत कई कमरे सील किए...
- स्कूल के जिस टॉयलेट में बच्चे को मर्डर किया गया था उस हिस्से को सील कर दिया गया है।
- इसके साथ-साथ स्कूल के खाली पड़े उन कमरों को भी सील कर दिया गया है, जिसका इस्तेमाल नहीं किया जा रहा था। ऐसा इसलिए, क्योंकि बच्चे कई बार इन कमरों में पहुंच जाते थे।
डरते-डरते स्कूल पहुंचे बच्चे, संख्या रही कम
- सोमवार को स्कूल खुलने की सूचना मिलते ही बच्चे पहुंचे, लेकिन काफी कम।
- कुछ पैरेंट्स टीसी लेने पहुंचे। उनका कहना था कि वे अब अपने बच्चों को इस स्कूल में नहीं पढ़ाना चाहते।
- कुछ पैरेंट्स ने बताया कि बच्चे अभी भी स्कूल में आने से डरे हुए हैं। आज स्कूल खुला तो सिर्फ बच्चों को स्कूल इसलिए लाए हैं, ताकि उनका डर दूर हो।
3 आरोपियों की कोर्ट में पेशी
- इस केस में अरेस्ट किए गए तीनों आरोपी- कंडक्टर अशोक, रेयाल स्कूल के नॉर्थ जोन हेड और एक कोऑर्डिनेटर को गुड़गांव की पॉस्को कोर्ट में पेश किया गया। अशोक को कोर्ट ने सात दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा था।
- पुलिस जांच में अशोक को आरोपी ठहराए जाने पर भी कई सवाल खड़े हो रहे हैं।
- अशोक ने अपने वकील मोहित वर्मा और पत्नी ममता के सामने खुद को बेगुनाह बताया है। उनका आरोप है कि पुलिस ने मारपीट कर उससे गुनाह कुबूल करवाया है।
क्या है मामला?
- रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के बच्चे का मर्डर हो गया था। बच्चे की बॉडी स्कूल के टॉयलेट में मिली थी। उसका गला धारदार हथियार से रेता गया था। उसका एक कान भी पूरी तरह कटा पाया गया। पुलिस ने इस मामले में बस कंडक्टर को अरेस्ट किया है। हरियाणा सरकार ने इस केस की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की है।

   

राम रहीम को सजा सुनाने वाले जज की सुरक्षा में 60 जवान, बुलेटप्रूफ गाड़ी मिली

पंचकूला. डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को सजा सुनाने वाले जज को सीएम मनोहर लाल खट्टर की बुलेट प्रूफ गाड़ी दी गई है। पंचकूला की स्पेशल सीबीआई कोर्ट के जज जगदीप सिंह की सिक्युरिटी में 60 जवान लगाए गए हैं। उनके घर के करीब 3 चेक पोस्ट भी लगाए गए हैं। बता दें कि जज जगदीप सिंह ने सुनारिया जेल जाकर राम रहीम को साध्वियों से रेप के मामले में 10-10 साल, यानी 20 साल की सजा सुनाई थी। राम रहीम सुनारिया जेल में सजा काट रहा है। कोर्ट रूम के बाहर भी सिक्युरिटी बढ़ी...
- सिक्युरिटी में लगाए गए 60 सीटीएफ जवानों की टीम को डीएसपी राजेश फोगाट और इंस्पेक्टर जंगशेर सिंह लीड करेंगे।
- अभी जज के काफिले में 4-5 गाड़ियां चलती हैं। सीबीआई कोर्टरूम के बाहर भी सिक्युरिटी बढ़ाई गई है। CBI के वकील एचपीएस वर्मा को भी सरकार की तरफ से सिक्युरिटी दी गई है।
डेरा स्पोक्सपर्सन के साले समेत 3 और अरेस्ट
- पंचकूला के डीसीपी मनबीर सिंह के मुताबिक, शनिवार को राजस्थान के उदयपुर से प्रदीप गोयल इंसां को अरेस्ट किया गया। वो हरियाणा का ही रहने वाला है। पुलिस उसे पंचकूला ले आई है। पिंजौर से विजय को अरेस्ट किया गया। इस पर भी पंचकूला में हिंसा भड़काने का आरोप है।
- रविवार को पुलिस ने मोहाली से प्रकाश उर्फ विक्की नामक शख्स को भी अरेस्ट किया है, जो हिंसा भड़काने और देशद्रोह के मामले में आरोपी डेरे के स्पोक्सपर्सन आदित्य इंसां का साला है।
राजस्थान से बसें भरकर पंचकूला ले गया था प्रदीप
- पुलिस सोर्सेस के मुताबिक, "प्रदीप फैसले वाले दिन राजस्थान से 15-20 बसें भरकर गई पंचकूला ले गया था। उसने भीड़ इकट्ठा करने के लिए आदिवासी इलाकों को टारगेट किया और उनसे कहा कि बाबा के आश्रम में जाने के बाद हर व्यक्ति को 25 हजार रुपए दिए जाएंगे। दंगा भड़कने से दो या तीन दिन पहले यहां से बसें हरियाणा के लिए रवाना हुई थीं।'
दो और मर्डर केस में सुनवाई हुई थी
- पंचकूला कोर्ट में शनिवार को राम रहीम के खिलाफ चल रहे डेरा मेंबर रणजीत सिंह और जर्नलिस्ट रामचंद्र छत्रपति मर्डर केस की भी सुनवाई हुई।
- सुनवाई के दौरान सीबीआई कोर्ट की सिक्युरिटी बढ़ाई गई थी। कोर्ट को जाने वाले रास्ते पर सशस्त्र सीमा बल के जवान तैनात थे और हर गाड़ी की जांच कर रहे थे। कोर्ट तक केवल वकीलों और मामले से जुड़े लोगों को ही जाने दिया गया।
ड्राइवर खट्टा सिंह बयान देगा
- राम रहीम के ड्राइवर रहे खट्टा सिंह ने कहा है कि वह बाबा के खिलाफ बयान देगा। 2012 में खट्टा अपने बयान से पलट गए थे।
- खट्टा सिंह ने कहा, "2012 में डर की वजह से पीछे हटा था। उसके गुंडे मेरे बेटे को मरवा सकते थे। लेकिन अब ऐसी कोई बात नहीं है। बाबा का सच पहले कोर्ट को बताऊंगा, फिर बाहर बताऊंगा। मैंने कोर्ट में बयान देने की एप्लिकेशन दी है।"
राम रहीम को क्यों हुई सजा? क्या है मामला?
- दो रेप केस में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम को CBI की स्पेशल कोर्ट ने 28 अगस्त को 10-10 साल की सजा सुनाई थी। कोर्ट ने राम रहीम पर कुल 30 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया था। इसमें 15-15 लाख रुपए का जुर्माना दो रेप केस के लिए है। 14-14 लाख रुपए दोनों रेप विक्टिम साध्वियों को हर्जाने के रूप में देने होंगे।
हिंसा के बाद 38 लोगों की हुई थी मौत
- 25 अगस्त को सीबीआई कोर्ट ने पंचकूला में डेरा चीफ को दो रेप केस में दोषी करार दिया था। जैसे ही डेरा चीफ को कोर्ट ने दोषी करार दिया तो उनके समर्थक भड़क गए थे। उन्होंने पंजाब, हरियाणा के पंचकूला, सिरसा, कैथल, फतेहाबाद और पानीपत में तोड़फोड़ व आगजनी की थी। इसके बाद पुलिस ने बल प्रयोग किया। इस पूरे घटनाक्रम में 38 लोगों की मौत हुई थी। 264 घायल हुए थे। हिंसा के बाद पुलिस ने 926 लोगों को गिरफ्तार किया था।

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1788788

Site Designed by Manmohit Grover