You are here:

BJP कोर ग्रुप और मंत्री समूह की मीटिंग कैंसिल, गृह सचिव ने कहा- नहीं दोहराने देंगे रामपाल प्रकरण

राजधानी हरियाणा/हिसार/सिरसा.साध्वी यौन शोषण मामले में फंसे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख संत राम-रहीम पर 25 अगस्त को कोर्ट के संभावित फैसले को लेकर सरकार अब पॉलिटिकल लेवल पर भी निपटने की तैयारी कर रही है। इसी वजह से नई दिल्ली में 24 अगस्त को होने वाली भाजपा कोर ग्रुप और मंत्री समूह की मीटिंग कैंसिल कर दी गई है।
सूत्रों के मुताबिक संत रामपाल मामले में बने हालात से सबक लेते हुए इस बार भाजपा सरकार ने पुलिस और प्रशासनिक इंतजामों के साथ-साथ पॉलिटिकल लेवल पर भी निबटने का फैसला किया है। इस कड़ी में भाजपा के सीनियर लीडर जहां संत राम-रहीम से संपर्क करके उनसे कानून-व्यवस्था बनाए रखने में सहयोग मांग रहे हैं।
वहीं वरिष्ठ पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को भी डेरा सच्चा सौदा की लोकल यूनिट के पदाधिकारियों से बात करने को कहा गया है। डेरा प्रेमियों से अपील की जा रही है कि वे कानून का सम्मान करें और शांति-व्यवस्था बनाए रखने में सहयोग करें। भाजपा मीडिया प्रभारी राजीव जैन का कहना है कि 25 अगस्त के फैसले को देखते हुए दिल्ली में मंत्री समूह की मीटिंग कैंसिल कर दी गई है। हालात से निबटने के लिए राज्य सरकार ने भी अपने स्तर पर पुख्ता इंतजाम किए हैं।
सोशल मीडिया पर विशेष नजर, पड़ोसी राज्यों से आने वाले वाहनों की चेकिंग
सोमवार को गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रामनिवास ने डीजीपी बी.एस. संधू के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग करके सभी एसपी, डीसी, कमिश्नर और पुलिस कमिश्नर्स से हालात का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने सभी जिलों में शांति समितियां बनाने के निर्देश दिए। मीटिंग के बाद रामनिवास ने बताया कि पिछली बार संत रामपाल प्रकरण जैसी गलती अब नहीं होने दी जाएगी। केंद्र से अतिरिक्त सुरक्षा बलों की 150 कंपनियां मांगी गई थीं। इनमें से 35 कंपनियां मिल चुकी हैं। बाकी कंपनियां और भेजने के लिए केंद्र से आग्रह किया गया है। उम्मीद है ये जल्दी ही मिल जाएंगी। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर विशेष निगरानी रखने को कहा गया है। पड़ोसी राज्यों से लगती सीमा पर नाकाबंदी करके आने-जाने वाले वाहनों की गहन चैकिंग करने को कहा गया है।
हो सकती है शरारती तत्वों की धरपकड़
संभावित हालात से निबटने के लिए एहतियातन प्रदेशभर में शरारती तत्वों की धरपकड़ शुरू हो सकती है। एसीएस (गृह) रामनिवास ने इसके संकेत दिए। उन्होंने कहा कि ड्रोन कैमरे से सभी शरारती तत्वों पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है। जरूरत पड़ी तो प्रिंवेटिव कार्रवाई के तहत उनकी धरपकड़ भी की जा सकती है। उन्होंने कहा कि इंटरनेट सेवाओं को मॉनीटर किया जा रहा है। जरूरत पड़ने पर इन्हें बंद भी किया जा सकता है।
दो सीनियर अफसर सिरसा भेजे गए
सिरसा जिला प्रशासन की मदद के लिए दो सीनियर अफसरों को वहां भेजा गया है। इनमें हिसार रेंज के आईजी अमिताभ ढिल्लों और गुरु ग्राम मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी के अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी वी. उमाशंकर को वहां भेजा गया है। उल्लेखनीय है कि डेरा सच्चा सौदा का मुख्यालय सिरसा में ही है।

   

स्कॉर्पियों से बांधकर ATM उखाड़ने की कोशिश, आगे से निकल गई पुलिस की गाड़ी, फिर भी लगे रहे बदमाश

बहादुरगढ़.आधी रात को छह बदमाशों ने सड़क पर स्कॉर्पियों खड़ी कर एटीएम को उखाड़ने का प्रयास किया। इस दौरान पुलिस की जिप्सी भी वहां से गुजरी, लेकिन पुलिस को भनक तक नहीं लगी कि बदमाश स्कॉर्पियों पर बंधी रस्सी से एटीएम उखाड़ रहे हैं। इसी बीच स्थानीय निवासी सड़क पर पहुंचे तो बदमाश एटीएम व अन्य सामान छोड़कर फरार हो गए। करीब 10 मिनट बाद पुलिस फिर से वापस आई, लेकिन तब तक आरोपी फरार हो चुके थे। 20 मिनट की ये पूरी वारदात पास ही लगे एक सीसीटीवी में कैद हो गई। इस एटीएम में दो लाख रुपए से ज्यादा की नकदी थी। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।
रात करीब डेढ़ बजे बादली रोड स्थित इंडीकैश के एटीएम पर एक काले रंग की स्कॉर्पियो आकर रुकी। उसमें से पांच युवक उतरे और एटीएम में घुस गए। इन्होंने अपने मुंह कपड़े से ढक रखे थे। इनमें से एक के हाथ में पेंट का डिब्बा, दूसरे के हाथ में लोहे की रस्सी व दो अन्य के हाथ में लोहे की रॉड थी। बदमाशों ने एटीएम केबिन में घुसते ही दोनों कैमरों पर काला पेंट स्प्रे कर दिया। जिससे वहां होने वाली तमाम गतिविधियां सीसीटीवी में कैद नहीं हो पाई।
पास की दुकान में लगे कैमरे में वारदात कैद
आरोपियों ने स्कॉर्पियों के पीछे लोहे की तार बांधी और एक सिरा एटीएम से बांध दिया। कार से एटीएम को उखाड़ने का प्रयास किया गया। इस दौरान एक बार टोचन टूट भी गया। करीब 20 मिनट तब बदमाश एटीएम ले जाने के लिए जद्दोजहद करते रहे। यह सारी वारदात पास ही एक दुकान के बाहर लगे कैमरे में कैद हो गई।
एटीएम उखाड़ने की दो माह में तीसरी वारदात
कुछ दिन पहले गांव कानोंदा में एटीएम मशीन को भी इसी तरह निशाना बनाया गया था। बदमाशों ने सीसीटीवी पर काले रंग का पेंट कर दिया था और एक्सिस बैंक का एटीएम ले गए थे। इससे पहले जुलाई माह में शिव चौक के नजदीक भी एक एटीएम को गाड़ी से चेन बांधकर ले जाने की वारदात को अंजाम देने का प्रयास हुआ था। मंदिर के पास श्रद्धालुओं के पहुंचने से बदमाश एटीएम को रोड पर छोड़ कर भाग गए थे। ऐसे में बहादुरगढ़ शहर व आसपास के क्षेत्र में एटीएम बूथों पर सिक्योरिटी की व्यवस्था न के बराबर होने से लगातार वारदात बढ़ रही हैं।

   

8 महीने का बच्चा HIV पॉजीटिव, माता-पिता दो बहनों की मेडिकल रिपोर्ट ठीक

यमुनानगर। शहर की एक कॉलोनी में आठ माह के बच्चे को एचआईवी पॉजीटिव है। बच्चे को लीवर की प्रॉब्लम पहले से है। परिजन पीजीआई से पहले उसका इलाज सहारनपुर करा चुके हैं। अब कई माह से पीजीआई चंडीगढ़ में इलाज चल रहा है। पीजीआई में बच्चे का ऑपरेशन भी हो चुका है।
परिजनों का कहना है कि वहां पर उसे ब्लड चढ़ाया था। जब से उसका ऑपरेशन हुआ है तभी से बच्चे की हालत गंभीर है। पीजीआई में ही बच्चे का एचआईवी टेस्ट हुआ था। वहां पर रिपोर्ट पॉजीटिव आने पर वहां पर के डॉक्टर्स ने पूरे परिवार (परिवार में माता-पिता और दो बहने हैं) का टेस्ट लिया। सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई। इस मामले का जैसे ही चाइल्ड हेल्प लाइन की निर्देशिका अंजू वाजपेयी को पता चला तो वे मौके पर पहुंची और बच्चे के दोबारा से टेस्ट कराने की बात कही।
सहारनपुर के एक गांव निवासी बच्चे के पिता ने बताया कि दो बेटियों के बाद बेटा हुआ था। एचआईवी की बात जैसे ही गांव में पता चली तो लोग बातें बनाने लगे। मजबूरी में गांव छोड़ना पड़ा। इलाज खर्च के लिए घर भी बेचना पड़ा है। अब वे यमुनानगर में किराए के मकान में रह रहे हैं।
कई जगह की इलाज के बाद पहुंचा था पीजीआई
बच्चे की मां ने बताया कि जन्म के दो माह बाद ही बेटे को पीलिया की शिकायत सामने आई। उन्होंने सहारनपुर में ही उसका इलाज कराया। वहां पर जब पीलिया ठीक नहीं हुआ तो डॉक्टर ने पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया। वहां पर डॉक्टर ने चेकअप कर बताया कि बच्चे को लीवर प्रॉब्लम है। डॉक्टर ने लीवर से पित्त में जाने वाली पेट की नालियों में दिक्कत बताई। इसका ऑपरेशन किया गया। इस दौरान वहां पर बच्चे में ब्लड चढ़ाया गया। इसके बाद भी बच्चे की हालत में कोई सुधार नहीं हुआ और बच्चा कमजोर होता गया। जून में पीजीआई में ही बच्चे का एचआईवी टेस्ट किया गया। रिपोर्ट पॉजीटिव आई। उनका कहना है कि यह लापरवाही पीजीआई में हुई है। क्योंकि परिवार में किसी को एचआईवी नहीं है। डॉक्टर ने परिवार के टेस्ट कराके भी देख लिया। उनका कहना है कि जब पीजीआई के डॉक्टरों ने बताया कि बच्चे को एचआईवी है तो पूछने पर जवाब था कि जिस डोनर ने रक्त दिया उसके रक्त में एचआईवी के संक्रमण चले गए हों।
ब्लड की होती है जांच
ब्लडबैंक की डॉक्टर निशा ने बताया कि जब कोई भी व्यक्ति ब्लड डोनेट करता है तो उसके दिए ब्लड के एचआईवी से लेकर अन्य कई तरह के टेस्ट किए जाते हैं। संक्रमित ब्लड को दूसरे मरीज मेें नहीं चढ़ाया जा सकता।
ठीक होना संभव नहीं
डॉ.संजीव शर्मा ने बताया कि एचआईवी का वायरस शरीर में जाने के बाद ताउम्र रहता है। दवाओं की मदद से मरीज लंबे समय तक जिंदा रह सकता है। हालत से ऐसा लगता है कि उसे एचआईवी संक्रमित ब्लड चढ़ा है।

   

चोटी कटने की घटनाओं के बीच अब एक शख्स की कटी दाढ़ी, मुंह से निकला धागा

फरीदाबाद।चोटी कटने की घटनाओं के बीच फरीदाबाद के कुरैशीपुर गांव में मंगलवार अल सुबह एक व्यक्ति की दाढ़ी कट गई। व्यक्ति के परिजनों का कहना है कि घटना के बाद से उसकी आवाज नहीं निकल रही है। खबर जैसे ही आस पड़ोस के लोगों को पता चली बड़ी संख्या में भीड़ जुट गई। पुलिस मौके पर पहुंची और जांच कर रही है। आगे पढ़िए क्या बताई कहानी...
- गांव के पंचायत सदस्य वसीम अकरम ने बताया कि घटना अल सुबह की है। शौकीन खान (50) अपने परिवार के साथ घर में सोया था।
- वह अचानक नींद से उठकर अपनी पत्नी को थप्पड़ मारने लगा। जैसे ही उसकी पत्नी उठी तो वह बेसुध हो गया। उसकी पत्नी ने आवाज लगाई और शौकीन के भाई को बुलाया।
- शौकीन का भाई आय और देखा तो शौकीन की दाढ़ी कटी हुई थी, उसने मुंह खोला तो उसमें से एक धागा निकला। उसकी चारपाई के नीचे से भी कुछ संदिग्ध सामान मिला है।
- परिजनों का कहना है कि घटना के बाद से शौकीन की आवाज नहीं निकल रही है।
- सूचना पुलिस को दी गई। फरीदाबाद सेक्टर-55 की पुलिस जांच के लिए पहुंची और पूछताछ कर रही है।

   

डेरा चीफ पर फैसले मद्देनजर हरियाणा में धारा-144 लागू, पैरा मिलिट्री फोर्स पहुंची

पानीपत। साध्वी यौन शोषण मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह से जुड़े एक मामले में 25 अगस्त को फैसला आने की संभावना से पहले अधिकारियों ने हरियाणा में अलर्ट जारी कर दिया है। सिरसा, हिसार और फतेहाबाद जिले में निषेधाज्ञा लागू की गई है। वहीं पैरा मिलिट्री फोर्स की 10 कंपनियां सिरसा में, 6 फतेहाबाद में तो हिसार में भी फोर्स पहुंच चुकी है। राजस्थान-पंजाब की सीमाएं सील...
- हरियाणा के पुलिस महानिदेशक बीएस संधू ने कहा कि हरियाणा पुलिस अलर्ट पर है और किसी भी स्थिति से निपटने को लेकर पूरी तरह से तैयार है. केंद्र ने भी अर्द्धसैनिक बलों की 35 कंपनियां मुहैया कराई हैं। उनका ध्यान सिरसा, फतेहाबाद और पंचकूला जिलों पर है, जहां खास तौर पर अर्द्धसैनिक बलों की तैनात की गई है।
- कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए पड़ोसी राज्यों पंजाब, राजस्थान और उत्तर प्रदेश की सीमाएं सील कर दी गई हैं। सिरसा और फतेहाबाद के राजस्थान-पंजाब की सीमाओं पर 300 पुलिस जवानों को तैनात कर दिया गया।
- इसके अलावा हरियाणा पुलिस ने सिरसा में दो महिला डीएसपी समेत कुल 6 नए डीएएपी भेज दिए हैं। इनमें हंसराज बिश्नोई, सतपाल सिंह, विजेंद्र सिंह, वीरेंद्र सिंह, पूजा डाबला व पुष्पा खत्री सिरसा पहुंच चुके हैं।
- वहीं फतेहाबाद में भी हरियाणा पुलिस की 3 कंपनियां सुनारियां से तो 3 मधुबन से पहुंच चुकी हैं। इन सभी को सख्त निर्देश दिए गए हैं कि कहीं कोई भी असामाजिक गतिविधि नजर आते ही तुरंत कार्रवाई करनी है।

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1788812

Site Designed by Manmohit Grover