You are here:

कंपनी को 75 लाख की पेमेंट, 6 दिन बाद शुक्रवार रात नौ बजे फिर शुरू हुई सफाई

अमृतसर.नगरनिगम द्वारा पेमेंट ने होने के कारण दरबार साहिब के आसपास की रुका सफाई का काम शुक्रवार की शाम को शुरू कर दिया गया है। सफाई करने वाली कंपनी का कहना है कि शनिवार को इलाके की स्थिति पहले जैसी साफ-सुधरी हो जाएगी। मैकेनाइज्ड स्वीपिंग कंपनी लायन सर्विस लिमिटेड की तरफ से विरासती मार्ग दरबार साहिब के आसपास की सफाई ऑटोमेटेड मशीनों द्वारा करवाई जाती रही है। लेकिन फरवरी महीने से कंपनी का बनता 5.6 करोड़ रुपए का भुगतान नहीं किया गया था। इसके चलतेे कंपनी ने काम बंद कर दिया था।
कंपनी के जनरल मैनेजर तथा प्रोजेक्ट मैनेजर मनजिंदर सिंह ने बताया कि भुगतान होने की स्थिति में पहली अक्टूबर की सुबह से काम बंद कर दिया गया था। इसके चलते सफाई व्यवस्था बुरी तरह से प्रभावित हुई थी। खैर, शुक्रवार की मीटिंग के बाद नगर निगम ने 75 लाख रुपए का भुगतान कर दिया और बकाया की रकम जल्द ही सरकार से दिलवाने का भरोसा दिया। उक्त लोगों ने कहा कि हमारे लोग मशीन लेकर रात को 9 बजे से ही काम पर लग गए और सुबह तक पहले की तरह से सफाई नजर आएगी। बताते चलें कि कंपनी ने पिछले साल 14 अगस्त को शुरू की थी। सफाई के लिए कंपनी को 109 किमी की दूरी आवंटित की गई थी, जिसमें से पहले चरण में 61 किलोमीटर की दूरी तय की गई थी, क्योंकि मशीनीकृत सफाई के लिए अनुकूल सड़कें उपलब्ध नहीं थीं।

 

बेरी और हैनरी के हलके से नहीं निकल रहे एससी कैटेगरी के वार्ड, 24 एससी और 2 बीसी वार्ड बनेंगे

जालंधर. सिटी की वार्डबंदी में 10 दिन और लग सकते हैं। नाॅर्थ और सेंट्रल हलके में वार्डबंदी में कमियां सामने आई हैं। दोनों हलकों की वार्डबंदी के ड्राॅफ्ट में बदलाव किया जाएगा। सेंट्रल हलके के विधायक राजिंदर बेरी और नाॅर्थ हलके के विधायक बावा हैनरी के एरिया में जो वार्डबंदी तय की गई थी, उनमें एससी कैटेगरी के पूरे वार्ड नहीं निकल रहे हैं। वार्डबंदी में एससी वार्ड की गिनती कम हो रही है। वार्डबंदी में बदलाव कर एससी बहुल इलाके बढ़ाए जाएंगे। वार्डबंदी में देरी का असर चुनाव पर पड़ सकता है।
16 अक्टूबर को कैबिनेट की मीटिंग है और उसी में वार्डबंदी के नोटिफिकेशन को मंजूरी मिल सकती है। उससे पहले नाॅर्थ और सेंट्रल हलके की वार्डबंदी ठीक करनी होगी। सिटी में कुल 80 में से 24 एससी और 2 बीसी वार्ड बनेंगे। कैंट हलके में 4 एससी रिजर्व वार्ड होंगे। इनमें से तीन तय है और एक को लेकर वार्डबंदी में हल्का बदलाव किया जा सकता है। गांव साबोवाल का इलाका चौथे वार्ड का फैसला करेगा।
16 अक्टूबर को कैबिनेट मीटिंग में नोटिफिकेशन को मिल सकती है मंजूरी
वेस्ट हलके में वार्डबंदी का काम लगभग पूरा है। नॉर्थ और सेंट्रल में कई बड़े लेवल पर वार्डबंदी में बदलाव किया गया है। कई दावेदारों को खुश करने के लिए वार्डबंदी को घुमा दिया गया। कुछ अकाली-भाजपा नेताओं को टारगेट करके भी वार्ड तोड़े गए। इस तोड़-फोड़ में ज्यादा एससी पापुलेशन वाले इलाके टूट गए। वार्डबंदी में जब कास्ट बेस वार्डबंदी शुरू हुई तो नाॅर्थ और सेंट्रल में जरूरत के मुताबिक एससी वार्ड नहीं बने। बदलाव में एक हफ्ता और लग सकता है। दोनों हलकों के जो बाॅर्डर एरिया आपस में मिलते हैं, उन्हें अलग करना मुश्किल हा़े रहा है। इस कारण कि वार्डबंदी में देर होगी।
जरूरत के अनुसार बदलाव जरूरी : विधायक हैनरी
नाॅर्थहलके के विधायक बावा हैनरी का कहना है कि वह वार्डबंदी कर आए हैं। उन्हें जानकारी नहीं है कि एससी वार्ड की गिनती पूरी हाे रही है या नहीं। अगर वार्डबंदी में बदलाव की जरूरत होगी तो उसे कर लिया जाएगा।
चुनाव में हो सकता है डिले
नईवार्डबंदी में जालंधर वेस्ट हलके में 24, सेंट्रल में 22 नार्थ में 23 और कैंट में 11 वार्ड होने की संभावना है। वार्डबंदी की नोटिफिकेशन में देरी है। इसके बाद एतराज मांगे जाएंगे। एतराज का काम खत्म होने पर वोट बनाने का काम होगा जिसमें एक महीने का वक्त लगेगा। लोकल बाॅडी मिनिस्टर नवजोत सिद्धू कह चुके हैं कि दिसंबर के आखिर तक चुनाव करवाने हैं लेकिन अगर सभी काम लेट होते गए तो चुनाव में और डिले हो सकता है।

 

अमेरिका में कांग्रेस नेता राजू के भांजे के मर्डर का मामला : जैकब पागल ने पूरे होश में किया था मर्डर

जालंधर.कांग्रेस नेता मनमोहन सिंह राजू के अमेरिकी शहर स्पोकेन में 28 अगस्त की देर शाम कत्ल के मामले में सुनवाई 10 अक्टूबर को होगी। सॉफ्टवेयर इंजीनियर गगनदीप सिंह का अमेरिकी स्टूडेंट जैकब कोलमैन ने पूरे चाकू से गला रेतकर कत्ल कर दिया था। उसकी मेडिकल रिपोर्ट से क्लियर हो गया है कि वह पागल नहीं था। पूरी होश में उसने कत्ल को अंजाम दिया। जब जैकब को अरेस्ट किया गया तो वह पागल की तरह हरकतें कर रहा था।
बोनर काउंटी पुलिस ने जैकब के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट फाइल कर दी है। चार्जशीट में जैकब के गगन की टैक्सी में बैठने से लेकर मर्डर करने की सीसीटीवी फुटेज केस में लगाई गई है। 10 अक्टूबर को केस की सुनवाई है। यहां पर कोर्ट जैकब से पूछेगी कि उसने मर्डर किया है या नहीं। अगर जैकब स्वीकार करता है तो कोर्ट नरमी बरत सकती है, वरना ट्रायल के दौरान आरोप साबित होने पर उसे सख्त सजा हो सकती है।
गुरु नानकपुरा में रहते मनमोहन राजू ने बताया कि उनकी बहन कमलजीत कौर के अनुसार प्रॉसीक्यूशन के एडवोकेट ने बताया है कि जैकब की मेडिकल रिपोर्ट में वह मेंटल नहीं निकला। अमेरिका पुलिस ने गैस स्टेशन के मालिक की भी स्टेटमेंट ली है। जैकब ने चाकू यह कहकर खरीदा था कि वह किसी मिशन पर जा रहा है। गैस स्टेशन के मालिक का कहना है कि उसने जिस लिहाज से चाकू मांगा था वह मजाक समझ रहा था।
जिसे अपनी बोतल से पानी पिलाया, उसी ने काटा गला
गगन ने जीपीएस में जैकब का एड्रेस भरा तो वह गलत शो करने लगा। गगन ने कार साइड पर खड़ी कर प्रॉब्लम का सिग्नल कर दिया। यहां पर एक पुलिसमैन उनके पास आया। यहां पर जैकब ने कहा कि घबराहट के कारण वह गलत एड्रेस बता रहा था। चलो अब ठीक हूं। पुलिसमैन चला गया। थोड़ी देर बाद 3 बार एड्रेस जीपीएस सिस्टम में फिर भरा वह भी गलत। गगन ने कुटेनाई शहर के पास इस्ट रेल रोड एवेन्यू में कार रोक दी। सीसीटीवी में दिखाई दे रहा है कि जैकब ने कार रुकते ही गगन पर दो प्रहार कर दिए। गगन के पास चाकू लगने से गगन जख्मी हो गया। उसने बेल्ट उतार कर जैकब का मुकाबला करने के लिए पिछली सीट पर गया, मगर जैकब ने एक के बाद कई चाकू उसे मार दिए। मर्डर के बाद जैकब कार में ही बैठा रहा था। उसे अरेस्ट कर लिया गया था। पुलिस ने जैकब के खिलाफ फर्स्ट डिग्री मर्डर का चार्ज फिक्स किया था।

   

दो साल के बच्चे की मां प्रेमी संग फरार, बेटा ले गई साथ,

पटियाला .रतन नगर से एक महिला अपने दो साल के बच्चे को लेकर प्रेमी के साथ फरार हो गई। पत्नी व बच्चे के लापता होने पर पति ने अपने स्तर पर दोनों की काफी खोजबीन की। इस दौरान उन्हें पता लगा कि उनके मोहल्ले में बतौर किराएदार रह रहा मूल रूप से बिहार के जिला रजिया के गांव फुलसरा का सुभाष ही उनकी पत्नी को भगाकर ले गया है।
परिवार के सदस्य काफी समय तक यह नहीं समझ सके कि उन्हें अब क्या करना चाहिए। इसके चलते 22 दिनों बाद जाकर महिला के पति की शिकायत पर थाना त्रिपड़ी पुलिस ने आरोपी सुभाष के खिलाफ केस दर्ज कर उसकी खोजबीन शुरू की।
हालांकि पुलिस के हाथ फिलहाल आरोपी का कोई सुराग नहीं लगा है। पुलिस ने बताया कि महिला के परिजनों ने ही कई दिनों तक शिकायत दर्ज नहीं कराई। गौरतलब है कि इससे पहले भी त्रिपडी से बीते कुछ ही समय में करीब नौ महिलाएं उनके प्रेमियों संग घर छोड़कर जा चुकी हैं। कई मामलों में तो परिजनों ने बदनामी के डर से पुलिस में शिकायतें तक दर्ज नहीं कराई।

 

हनीप्रीत को बंठिडा लेकर जा रही है पुलिस, फरारी के वक्त यहां रुकी थी 4 दिन

चंडीगढ़/ बठिंडा.देशद्रोह और हिंसा भड़काने की आरोपी डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की मुंहबोली बेटी हनीप्रीत और उसकी सहयोगी सुखदीप कौर को हरियाणा पुलिस गुरुवार को बठिंडा लेकर जा रही है। अभी हनीप्रीत संगरूर पहुंच चुकी है। कुछ देर में बठिंडा पहुंच जाएगी। पुलिस के मुताबिक, यहां सुखदीप का घर है और हनीप्रीत यहां रुकी थी। बता दें कि 39 दिन से फरार हनीप्रीत को मंगलवार को सुखदीप कौर के साथ अरेस्ट किया गया था। गुरुवार को पुलिस ने हनीप्रीत को पंचकूला कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने 6 दिन की रिमांड पर भेज दिया था।
- इससे पहले, गुरुवार सुबह पुलिस हनीप्रीत और उसकी साथी सुखदीप को पंचकूला के सेक्टर-23 थाने से निकाल कर सेक्टर-20 ले गई। इसके बाद सेक्टर-20 से भी पुलिस हनीप्रीत और सुखदीप को बस में बिठाकर बठिंडा के लिए निकली है।
हनीप्रीत और सुखदीप 4 दिन से साथ थे अरेस्ट होने के पहले
- बठिंडा में सुखदीप कौर का घर है। ऐसा कहा जा रहा है कि हनीप्रीत सुखदीप के घर पर ही छिपी थी। पुलिस पूछताछ में ये भी पता चला है कि 4 दिन से सुखदीप ही हनीप्रीत की गाड़ी चला रही थी। चंडीगढ़ के आसपास के एरिया में तीन जगहों पर सुखदीप और हनीप्रीत साथ ही रुकी थीं।
पुलिस अफसर गाइड कर रहा था, जांच होगी
- हनीप्रीत दो-तीन दिन से मोहाली एरिया में ही थी। उसके पास तीन गाड़ियां थीं, जो उसके आगे-पीछे चलती थीं। तीन रात उसने चंडीगढ़ के आसपास ही खाना खाया, जिसे उसकी साथी सुखदीप कौर गाड़ी में लेकर आती थी।
- हनीप्रीत पंजाब के एक नेता के टच में थी। उसके कहने पर ही वह यहां रुकी। दो दिन वह एक फ्लैट में रही। बाद में उसे एक कोठी में ठहराया गया। एक पुलिस अफसर उसे गाइड कर रहा था। हरियाणा पुलिस अब इसकी जांच की बात कह रही है।
- नेता के कहने पर पंजाब पुलिस के अफसर ने हनीप्रीत से कॉन्टैक्ट किया। उसके बाद उसका इंटरव्यू कराया गया। हरियाणा पुलिस के सूत्र भी मान रहे हैं कि हनीप्रीत पंजाब पुलिस के पास ही थी, जिसे बाद में हरियाणा पुलिस को सौंपा गया।
- पंजाब पुलिस के संपर्क में होने के बाद भी हनीप्रीत कसौली (हिमाचल प्रदेश) की ओर जा रही थी। इसी बीच, हरियाणा और पंजाब के डीजीपी ने आपस में बात की। इस बातचीत के दौरान ही हनीप्रीत की गिरफ्तारी की सारी कागजी कहानी तैयार की गई।
25 अगस्त को फरार हो गई थी हनीप्रीत
- राम रहीम को रेप केस में दोषी करार दिए जाने के बाद हनीप्रीत बाबा के साथ पुलिस के हेलिकॉप्टर से रोहतक की सुनारिया जेल पहुंची थी। उसने बाबा के साथ अंदर जाने की जिद की थी, लेकिन पुलिस ने उसे वहां से बाहर भेज दिया था। इसके बाद से हनीप्रीत गायब थी। वहीं, डेरे की चेयरपर्सन विपासना इंसा का कहना है कि हनीप्रीत 25 अगस्त की रात को उसके साथ डेरा सच्चा सौदा सिरसा आई थी। इसके बाद अगले दिन वह वहां से निकल गई। फिर 39 दिन उसका कोई अता-पता नहीं चला।
कौन है हनीप्रीत इंसां?
- हनीप्रीत के पिता रामानंद तनेजा और मां आशा तनेजा फतेहाबाद के रहने वाले हैं। हनीप्रीत का असली नाम प्रियंका तनेजा है। हनीप्रीत के पिता राम रहीम के अनुयायी थे। वे अपनी सारी प्रॉपर्टी बेचने के बाद डेरा सच्चा सौदा में अपनी दुकान चलाने लगे। 14 फरवरी 1999 को हनीप्रीत और विश्वास गुप्ता की सत्संग में शादी हुई। इसके बाद बाबा ने हनीप्रीत को अपनी तीसरी बेटी घोषित कर दिया।
- हनीप्रीत राम रहीम के प्रोडक्शन में बनी फिल्मों में एक्टिंग और डायरेक्शन भी कर चुकी है। बताया जाता है कि हनीप्रीत साए की तरह बाबा के साथ रहती थी। हनीप्रीत के पूर्व पति का आरोप है कि हनीप्रीत और राम रहीम के बीच नाजायज रिश्ते थे। उसने दोनों को एक बार आपत्तिजनक हालत में देखा था। जब राम रहीम को रेप केस में दोषी करार दिया गया तो हरियाणा में जमकर हिंसा भड़की। हनीप्रीत पर इस हिंसा की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1853240

Site Designed by Manmohit Grover