You are here:

जान बचाने को ड्राइवर साथी ट्रैक्टर से कूदे, नहीं बच पाए, ऊपर से गुजरी ट्राली

गढ़शंकर(लुधियाना). श्रीआनंदपुर साहिब रोड पर बुधवार देर रात गांव सेखोवाल के पास ओवरलोड ट्रैक्टर-ट्राली के पलटने से दो लोगों की मौत और एक जख्मी हो गया। हादसा ट्राली की हुक टूटने से हुआ। ये था मामला...
मृतकों की पहचान बरनाला की तहसील तपा मंडी के गांव टल्लेवाल के रूप में हुई है। टल्लेवाल के जरनैल सिंह पुत्र प्रीतम सिंह, हरदीप सिंह पुत्र मुकंद सिंह और गुरदीप सिंह पुत्र हरबंस सिंह ट्रैक्टर-ट्राली पर हिमाचल से रेत भरकर बरनाला जा रहे थे। देर रात सेखोवाल के नजदीकी जेपी पेट्रोल पंप के पास ट्रैक्टर ने टर्न लिया तो तेज स्पीड और ओवरलोड होने से ट्राली की हुक टूट गई। इससे ट्रैक्टर ट्राली बेकाबू हो गया। घबरा कर जरनैल सिंह और हरदीप सिंह ने ट्रैक्टर से छलांग लगा दी, पर ट्रैक्टर मालिक गुरदीप सिंह ट्रैक्टर की साइड पर बैठा रहा। इस दौरान ट्रैक्टर ट्राली से जान बचाने के लिए कूदने वाले जरनैल सिंह और हरदीप सिंह के ऊपर से गुजर कर पलट गई। इससे जरनैल सिंह और हरदीप सिंह के शरीर के चीथड़े उड़ गए। दोनों की मौके पर मौत हो गई। जबकि, गुरदीप सिंह को गंभीर चोटें आई हैं। घायल को गढ़शंकर के सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

 

पहली बार कोई सिख चेहरा नहीं; कविता खन्ना पिछड़ीं, सलारिया को मिली बीजेपी से टिकट

जालंधर/गुरदासपुर/पठानकोट. आखिरकार भाजपा से स्वर्ण सलारिया को लाेकसभा उपचुनाव के लिए टिकट मिल गई। कई दिनों से सलारिया और विनोद खन्ना की पत्नी कविता खन्ना के बीच टिकट को लेकर चल रही रस्साकसी वीरवार को खत्म हो गई। ऐसा पहली बार होगा जब इस क्षेत्र से किसी मुख्य पार्टी से कोई सिख चेहरा नहीं होगा। सलारिया का कांग्रेस के सुनील जाखड़ और आप के सुरेश खजूरिया से मुकाबला होगा।
इस सीट पर 16 बार हो चुके लोकसभा चुनाव में किसी किसी पार्टी ने सिख चेहरा जरूर उतारा। यहां से 7 बार सिख तो 9 बार हिंदू कैंडिडेट जीतता रहा है। हलके में 43% सिख वोटर्स और 46.3% हिंदू वोटर्स हैं। इस क्षेत्र में 3 लाख राजपूत वोटों को देखते हुए सलारिया को उतारा गया है। हालांकि, सलारिया का सारा कारोबार मुंबई में है। 2014 में टिकट मिलने पर सलारिया ने आजाद तौर पर उतरने की धमकी भी दी थी लेकिन बाद में मान गए थे।
विनोद खन्ना के समान उन पर भी बाहरी प्रत्याशी का ठप्पा लगना
- विनोद खन्ना की पहली पत्नी गीतांजलि का पंजाब से होने के साथ सिख समुदाय से ताल्लुक होना और कविता के टिकट के बाद गीतांजलि के उनके सामने आने की संभावना
- भाजपा की प्रदेश इकाई का लोकल प्रत्याशी पर जोर देना
- पंजाब की ना होने के साथ ही पंजाबी बोली भी नहीं आना कारण
- 15.5 लाख वोटर वाली लोकसभा सीट में 3 लाख वोटर राजपूत हैं।
- सलारिया का लोकल होना और उनकी मां बहन समेत परिवार का हलके के चौहाना गांव में रहना।
- दिल्ली से पंजाब तक 98 बीजेपी नेताओं में से 93 ने समर्थन किया।
- 2014 में संसदीय बोर्ड के कई सदस्यों ने टिकट का वादा किया था।
- आर्थिक रूप से मजबूत और रामदेव सहित कई दिग्गज नेताओं का साथ।

 

टेबल फैन को लेकर झगड़े में बड़े भाई का किया कत्ल,देर रात हुई वारदात

जगराओं/लुधियाना.गांव हलवारा में टेबल फैन को लेकर झगड़ा इतना बढ़ गया कि छोटे भाई ने बडे़ भाई का कत्ल कर दिया। छोटे भाई ने बड़े भाई के सिर में लकड़ी का दस्ता दे मारा, जिससे बडे़ भाई की मौके पर ही मौत हो गई। घटना बुधवार देर रात की है। वीरवार को पोस्टमार्टम के बाद लाश घरवालों को सौंप दी। पुलिस ने आरोपी भाई को गिरफ्तार किया है।
पुलिस को बलवीर सिंह ने बताया कि वो गांव हलवारा में 70 वर्षीय मां गुरमेल कौर के अलावा बड़े भाई दर्शन सिंह और छोटे भाई दलबीर सिंह के साथ रहते हैं। बलवीर सिंह के मुताबिक तीनों भाइयों में से केवल उसकी शादी एक साल पहले दोराहा में गुरप्रीत कौर से हुई थी। बलवीर सिंह के मुताबिक बुधवार रात उसका छोटा भाई दलबीर टेबल फैन लेने दर्शन सिंह के कमरे में गया। तभी दोनों में पंखा लेने के लिए झगड़ा हो गया। दोनों ही भाई पंखा उठाकर अपनी-अपनी तरफ खींचने लगे। खींचतान में पंखा टूट गया। इससे गुस्साए छोटे भाई दलबीर सिंह ने दर्शन सिंह के सिर में लकड़ी का दस्ता दे मारा। जिससे दर्शन लहूलुहान हो गया और उसकी मौत हो गई। एसएचओ सुधार रणजीत सिंह के मुताबिक गांव के सरपंच चरण सिंह ने फोन पर गांव में हुए कत्ल की जानकारी दी थी।

   

तेजधार हथियारों से युवक का किया कत्ल, शव ड्रेन किनारे पटरी पर फेंका

संगरूर.देर रात एक नौजवान के सिर पर तेजधार हथियार से वार कर कत्ल कर दिया गया है। घटना को अंजाम सुनसान स्थान ड्रेन किनारे पटरी पर दिया गया है। मृतक बीबी राजिन्द्र कौर भट्ठल के गनमैन का भांजा था। पुलिस ने अज्ञात व्यक्तियों के विरुद्ध कत्ल का मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।
मृतक नौजवान की मासी नीलम रानी ने पुलिस को बताया कि उसका भांजा मुकेश कुमार उर्फ लड्डू (25) बुधवार को 3 बजे घर से चला गया था। रात 9 बजे तक मुकेश घर नहीं लौटा तो वह सो गए थे। सुबह करीब 8 बजे किसी ने फोन कर बताया कि मुकेश संगरूर-महिलां रोड से गुजरती ड्रेन की पटरी पर गिरा पड़ा है। जिसके बाद वह तुरंत गांव के लोगों को लेकर मौके पर पहुंची तो मुकेश मरा पड़ा था। पास उसका मोटरसाइकिल पड़ा था। सुनाम सदर पुलिस स्टेशन के एसएचओ साहिब सिंह ने बताया कि फोन आया कि एक नौजवान ड्रेन की पटरी पर गिरा पड़ा है तो पुलिस पार्टी के साथ मौके पर पहुंचे तो देखा कि नौजवान के सिर पर तेजधार हथियार से बेरहमी से कत्ल किया गया है। नौजवान के सिर से बहुत खून भी बह गया था। तुरंत मौके पर फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट की टीम को बुलाया गया जिन्होंने मौके से कुछ पैर और मोटरसाइकिल टायर के निशान ट्रेस किए हैं। पुलिस ने अज्ञात के विरुद्ध सुनाम सदर पुलिस
स्टेशन में मामला दर्ज किया है।
पुलिस के अनुसार मृतक बुरी संगत में पड़ गया था। जिसे घरवालों ने काफी रोकने का प्रयास भी किया था परंतु मृतक परिजनों की बात नहीं मानता था। मृतक पर लड़ाई-झगड़े के मामले भी दर्ज हैं।

 

फर्नीचर कारोबारी ने इंडसइंड बैंक कर्मचारी को घर से किया अगवा, फैक्ट्री में पीट-पीटकर हत्या

लुधियाना।नोटबंदी के दौरान कालाधन सफेद कराने के लिए दिए पुराने नोटों में से बकाया 2 लाख रुपए अभी तक मिलने पर फर्नीचर कारोबारी ने बैंककर्मी को घर से अगवा कर लिया। फैक्ट्री में ले जाकर उसे पीट-पीटकर मार डाला। मूलरूप से हरियाणा के कैथल का रहने वाला हरीश(24) इंडसइंड बैंक की जमालपुर ब्रांच में सेल्समैन था।
-16 फैक्ट्रियां चलाने वाले लक्ष्मी इंडस्ट्री के मालिक संदीप जैन को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, जबकि उसके भाई प्रदीप जैन को हिरासत में लेकर अन्य आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है। पुलिस की तीन टीमें बनाई गई हैं। पुलिस ने फैक्ट्री के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को कब्जे में ले लिया है।
-घटनास्थल की वीडियाेग्राफी भी कर ली गई है। दरअसल, बकाया वसूलने के लिए कारोबारी ने नौकर के साथ मिलकर हरीश के पिता चंदभान माता चंदा देवी को किडनैप कर 15 दिन तक बंदी बनाए रखा था। खुद बिजनेस टूर के लिए चाइना चला गया।
-शनिवार काे लौटने के बाद रविवार को सुबह पैसे का इंतजाम करने की शर्त पर उसके माता-पिता को तो छोड़ दिया लेकिन हरीश को किडनैप कर अपनी फैक्ट्री में ले गए। वहां अपने साथी के साथ मिलकर हरीश को पीट पीटकर मार डाला।
-मौके पर पहुंची पुलिस को मुख्यआरोपी संदीप जैन काफी समय तक गुमराह करता रहा, लेकिन बाद में अपराध कबूल कर लिया। एडीसीपी 3 संदीप गर्ग ने बताया कि हरीश की मां चंदा देवी के बयान पर संदीप कुमार उसके साथी पर मर्डर उनको किडनैप करने का मामला दर्ज किया है।
शनिवार को चीन से लौटा, रविवार सुबह किया किडनैप
- आरोपी संदीप शनिवार देर शाम ही चीन से लौटा था। आते ही रविवार सुबह करीब 6 बजे अपने एक साथी रोमी को लेकर फैक्ट्री पहुंचा। वहां से दोनों बुजुर्गों को लेकर हरीश के घर पहुंचा। यहां उनको तो छोड़ दिया, लेकिन हरीश को अगवा कर लिया।
- हरीश ने कुछ दिन पहले ही थाना डाबा की पुलिस को माता-पिता को किडनैप करने की शिकायत दी थी। लेकिन पुलिस ने सुनवाई नहीं की। संदीप को पुलिस कंप्लेंट का पता चला तो उसने नौकर से हरीश को जान से मारने की धमकी दी। अपनी राजनैतिक पहुंच की धमकी देकर वह हरीश के रिश्तेदारों को भी डराता रहा।
हरियाणा का रहने वाला था हरीश, प्लॉट बेच देनी थी रकम
- हरीश के घरवालों राम दर्शन धर्मेन्द्र कुमार ने बताया कि हरीश का संदीप जैन के पास आना जाना था। नोट बंदी के दौरान संदीप ने हरीश को 15 लाख रुपए के करीब राशि बदलने के लिए दी थी। हरीश ने 13 लाख लौटा दिए थे। हरीश के मां-बाप का एक प्लॉट हरियाणा में है।
- संदीप के साथ तय हुआ था कि कुछ समय में प्लॉट बेचकर पैसे दे दिए जाएंगे। हरीश 20 साल से डाबा की जैन कॉलोनी में माता-पिता के साथ रहता था। आरोपी कारोबारी ने हरीश माता-पिता को भी बहुत टॉर्चर किया। दोनों को फैक्ट्री में बंद कर दिया था। हरीश ने कई बार माता-पिता को छोड़ने की मिन्नतें की, लेकिन उसने 15 दिन तक नहीं छोड़ा।
रिश्तेदार को भाजपाई पार्षद के पास ले गया, समझौता कराने का प्रयास, बात नहीं बनी तो वारदात का खुलासा
- मर्डर के बाद संदीप ने हरीश के रिश्तेदार राम दर्शन को फैक्ट्री बुलाया और उसे भाजपा के एक पार्षद के पास ले गया। समझौता कराने का प्रयास किया, लेकिन बात नहीं बनी तो उसने अपराध कबूल कर लिया। फिर हरीश के परिजनों के साथ सौदेबाजी पर उतर आया, लेकिन घरवालों ने थाना फोकल पॉइंट को सूचना दे दी।
- लाश को ढूढ़ने के लिए पुलिस को मशक्कत करनी पड़ी। संदीप पुलिस को गुमराह करता रहा। पहले वह पुलिस को लेकर करीब 12 फैक्ट्रियों में ले गया। फिर एक फैक्ट्री में करीब 12 कमरों के ताले तुड़वाए, पुलिस को तब भी लाश नहीं मिली। आखिर जब पुलिस ने सख्ती दिखाई तो उसने एक अन्य फैक्ट्री से लाश बरामद कराई। खोजबीन के दौरान परिजनों के साथ धर्मेंद्र शर्मा और अमरीश शर्मा भी मौजूद रहे।

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1785537

Site Designed by Manmohit Grover