You are here:

सर, मैडम कह यात्रियों का स्वागत करेंगे ड्राइवर, कंडक्टर, नियम हुए लागू

लुधियाना। 2003 में लुधियाना में एसएसपी रहे हरप्रीत सिंह सिद्धू ने अफसरों और मुलाजिमों को हिदायतें जारी करके पब्लिक को सर, मैडम संबोधित करने के आदेश दिए थे, जो अब तक हैं। इसी तर्ज पर अब पेप्सू रोड ट्रांसपोर्ट काॅर्पोरेशन (पीआरटीसी) की बसों में सवारियों को कंडक्टर अौर ड्राइवर सर, मैडम से संबोधित करेंगे और पूरे मान-सम्मान के साथ बस में यात्रियों की यात्रा करवाएंगे।
- इसके अलावा बुजुर्गों को पहल के आधार पर सीटें मुहैया तो होंगी ही, साथ में बस में चढ़ाते और उतारते वक्त कंडक्टर मदद भी करेगा।
- यह फरमान महकमे के मैनेजिंग डायरेक्टर मंजीत सिंह नारंग और चेयरमैन केके शर्मा ने जारी किया है।
हमारा मकसद, सरकारी बसों में बढ़ें सवारियां
1956 से महकमा लगातार पंजाब वासियों को वाजिब रेटों पर बढ़िया सफर करवाता रहा है। हमारा मकसद यही है कि कंडक्टर और ड्राइवरों द्वारा अगर सवारियों से अच्छा व्यवहार किया जाएगा तो महकमे की बसों में सवारियां ज्यादा सफर करना पसंद करेंगी। इसलिए महकमे के सभी कंडक्टरों और ड्राइवरों को ये आदेश जारी करके इन नियमों पर ही बसों को चलाने के लिए कहा गया है।

 

पोते के जन्म की पार्टी में लापता हुई दादी, फिर इस हालत में मिली लाश

जालंधर।लांबड़ा के गांव हेलरां में शनिवार रात पोते के जन्म की पार्टी के बाद लापता 55 साल की गिरजा देवी की लाश इतवार दोपहर खेत से मिली। गिरजा की बॉडी नग्न हालत में थी और सिर पर तेजधार हथियार का घाव था। तेजधार हथियार से गला भी रेता गया था। पुलिस का मानना है रेप के बाद महिला का कत्ल किया गया है।
- पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद रेप के बाद कत्ल की पुष्टि होगी। परिवार ने बर्थ-डे पार्टी में शामिल छोटू नामक रिश्तेदार पर शक जाहिर किया है। छोटू कल रात नशे में था और उसका व्यवहार ठीक नहीं था। गिरजा देवी दुबई में रह रहे एनआरआई गुरदेव सिंह की कोठी में केयरटेकर थी।
- महिला का शव दोपहर 3 बजे के करीब दीदार सिंह नामक व्यक्ति के खेत से मिलने पर पारिवारिक मेंबर्स ने मंड चौकी के इंचार्ज को फोन कर सूचना दी। थाना लांबड़ा एसएचओ पुष्पबाली ने टीम के साथ मौके पर जांच शुरू की।
सुबह 11.30 बजे दर्ज कराई गुमशुदगी की रिपोर्ट
सुबह7 बजे से उनकी तलाश कर रहे बेटे ने साढ़े 11 बजे मां की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। कोठी के साथ ही खेत भी हैं। खूब छानबीन की पर मां का कुछ भी पता नहीं चला। सुबह दीदार सिंह के बाजरे के खेत में जाकर देखा तो खून से सनी मां की लाश मिली। इससे पहले वह चौकी मंड में गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखवा चुके थे। पुलिस ने शव सिविल अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया है।
शनिवार रात थी पार्टी
गिरजादेवी के बेटे दिलीप राम ने बताया कि वह मूलत: बिहार के रनाव गांव के रहने वाले हैं। जालंधर के गांव हेलरां में वह परिवार के साथ दुबई रहते गुरदेव सिंह के घर केयरटेकर के रूप में 30 साल से रह रहे हैं। एक हफ्ते पहले उसके बेटे का जन्म हुआ है। पिता अर्जुन दास खेतीबाड़ी करते हैं।
- बेटा होने पर शनिवार रात पार्टी रखी थी। पार्टी में उसकी पत्नी और मां समेत बाकी सब मेल मेंबर थे। इस दौरान वह रात साढ़े 12 बजे के करीब बाहर बंधे पशुओं को देखने गई थीं। उन्हें लगा कि रात को पशु बांधने वाली जगह के साथ लगते कमरे में सो गई होगी। उठकर देखा तो सुबह गिरजा देवी के कमरे में टूटी चूड़ियां और दुपट्‌टा पड़ा था।

 

बदला लेने के लिए युवक की ऐसी हालत, सीसीटीवी में रिकार्ड हुई वारदात

जालंधर। अमननगर के सैलून में दोपहर 1.25 बजे पांच हमलावरों ने वहां काम करने वाले जसवीर सिंह गोपी को तलवार और दातरों से काट डाला। सारी वारदात सीसीटीवी में है। बताया गया है कि हमलावरों ने उनके दोस्तों पर हुए हमले का बदला लेने के लिए वारदात की।
- थाना-3 की पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज से आरोपियों की पहचान कर गांव रेरू के रहने वाले ईशू, अजय, सागर लक्की की पहचान कर हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया है। आरोप है कि शनिवार देर रात गांव रेरू में गोपी ने अपने मौसेरे भाइयों के साथ मिलकर विक्की राहुल नाम के युवकों के पेट में छुरा और बर्फ वाला सूआ घोंप दिया था।
- रविवार सुबह भी उसने गांव में ललकारे मारे थे। इसी बात का बदला लेने के लिए विक्की और राहुल के साथियों ने रविवार सैलून में घुसकर गोपी को काट डाला।

   

पिता ने ही बेटी को किया किडनैप मां और नाना ने पुलिस से मांगा इंसाफ

मंडी गोबिंदगढ़. सुभाषनगर इलाके में विवाहिता सुखविंदर कौर ने अपने पति फतेह सिंह समेत छह लोगों पर उसकी 7 साल की बेटी एकमजीत कौर को किडनैप करने का आरोप लगाया है। पीड़िता का आरोप है कि 23 अगस्त 2017 जब बच्ची के नाना सुखविंदर सिंह उसे स्कूल से ला रहे थे तो इसी दौरान आरोपियों ने उसे किडनैप कर लिया।
सुखविंदर कौर ने कहा कि पति फतेह सिंह ने बच्ची एकमजीत कौर को उससे लेने के लिए पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में एक केस दायर कर दिया था, लेकिन केस का फैसला आने से पहले ही फतेह सिंह ने केस वापिस ले लिया। पीड़िता के बयान पर मंडी गोबिंदगढ़ पुलिस ने पति समेत 6 लोगों पर केस दर्ज कर 4 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। पीड़िता ने बताया कि जब उसे ससुराल में तंग परेशान किया जाने लगा तो उसने दो साल पहले ससुराल घर छोड़ कर दोनों बच्चों समेत अपने मायके मंडी गोबिंदगढ़ में रहना शुरू कर दिया था।
एसएसपी अलका मीना को दी शिकायत में पीड़िता सुखविंदर कौर निवासी मंडी गोबिंदगढ़ ने कहा कि उसके पति फतेह सिंह निवासी कोटला भड़ी थाना समराला की ये दूसरी शादी थी, पहली शादी उसकी सगी बहन दविंदर कौर के साथ साल 2010 में हुई। 2012 में शकी हालातों में उसकी बहन दविंदर कौर की मौत हो गई थी। मौत से कुछ महीने पहले दविंदर कौर की बेटी एकमजीत कौर ने जन्म लिया। इसके बाद बच्ची का सुखविंदर कौर ने मां के तौर पर मायके में पालन पोषण किया। बच्ची के भविष्य को देखते हुए मां-बाप और और रिश्तेदारों ने सुखविंदर कौर की शादी फतेह सिंह से कर दी। जहां सुखविंदर कौर के पास एक बेटे जसकरन ने जन्म लिया।
पिता को बच्ची अपने पास रखने का भी अधिकार:एसएसपी
बच्ची वापिस दिलाने की पूरी कोशिश की जा रही है। पुलिस की छापेमारी जारी है। किडनैप बच्ची फतेह सिंह की अपनी संतान है और पिता को उस बच्ची को अपने पास रखने का भी अधिकार है। लेकिन स्कूल से बिना बताए बच्ची को ले जाना ठीक नहीं। मामले की जांच जारी है पीड़िता को इंसाफ दिलाएंगे। -अलकामीना, एसएसपी

 

डिलीवरी के बाद विवाहिता की मौत, 5 घंटे शव ओटी के बाहर रखा

बठिंडा. सिविल अस्पताल के गायनी विभाग में वीरवार को डिलीवरी के बाद गांव दियोन निवासी 22 वर्षीय विवाहिता की मौत हो गई। इससे पहले मृतका ने बुधवार रात को गायनी ओटी में एक बच्ची को जन्म दिया था। डिलीवरी के बाद विवाहिता की अचानक मौत से अस्पताल स्टाफ में खलबली मच गई। इसी टेंशन में वुमेन अस्पताल के प्रबंधकों ने मृतका के शव को डेड हाउस में प्रिजर्व करने की बजाय उसे पांच घंटों तक ओटी के बाहर छिपाकर रखा।
वुमेन अस्पताल के प्रबंधक डिलीवरी के बाद विवाहिता की मौत को हाई ब्लड प्रेशर के बाद आए अटैक के कारण बता रहे हैं। वहीं सूत्रों के अनुसार डिलीवरी के दौरान विवाहिता का अत्यधिक रक्तस्त्राव हो गया है। जिस कारण उसकी मौत हो गई। बुधवार रात को प्रसव पीड़ा के बाद दियोन निवासी 22 वर्षीय रमनदीप कौर पत्नी धर्मेंद्र को परिजनों ने 10 बजे वुमेन एंड चिल्ड्रन अस्पताल में भर्ती करवाया था। गायनी आॅपरेशन थियेटर में रात करीब 10.30 बजे डाॅ. हरनीत ने गर्भवती रमनदीप कौर की नाॅर्मल डिलीवरी करवाई। रात भर रमनदीप कौर की हालत सामान्य रही। लेकिन वीरवार सुबह करीब साढ़े 8.30 बजे रमनदीप कौर की हालत बिगड़ने लगी। उस दौरान अस्पताल में मौजूद महिला डाक्टरों ने जरूरी इलाज शुरू किया। लेकिन कुछ ही समय में रमनदीप कौर की मौत हो गई। महिला की मौत के बाद अस्पताल स्टाफ काफी टेंशन में गया। वहीं परिजनों के विलाप करने के कारण प्रबंधकों ने मृतका के शव को डेड हाउस में प्रिजर्व करवाना जरूरी नहीं समझा। जिस कारण करीब पांच घंटे तक मृतका रमनदीप का शव ओटी के बाहर स्ट्रेचर में पड़ा रहा।
महिला पहले से ही हाई ब्लड प्रेशर की शिकार थी
महिला पहले से ही हाई ब्लड प्रेशर की शिकार थी। दो महिला डाक्टरों ने इलाज के दौरान बेहद प्रयास किया। लेकिन बीपी बढ़ने से महिला की मौत हो गई। परिजनों को बॉडी को प्रिजर्व करवाने के लिए कहा गया था। लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। सतीशगोयल, सीनियर मेडिकल अफसर

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1853244

Site Designed by Manmohit Grover