You are here:

जमीनी झगड़े में दो बार फायरिंग, लाली के काफिले की गाड़ियां तोड़ीं,फैमिली पर किया हमला

E-mail Print PDF

अमृतसर. जमीनी झगड़े में हुई फायरिंग में आठ साल का बच्चा जख्मी हो गया। उसे दो छर्रे लगे हैं। जब मौके पर कांग्रेसी नेता लाली मजीठिया पुलिस के साथ पहुंचे तो आरोपियों ने फिर गोलियां चलाईं। मजीठिया के काफिले की गाड़ियां तोड़ दीं। पुलिस ने आरोपी पूर्व अकाली जिला परिषद चेयरमैन रजिंदर कुमार उर्फ पप्पू जयंतीपुर और उसके भतीजे को िगरफ्तार कर लिया जबकि जयंतीपुर का बेटा फरार है। जमीन को लेकर पप्पू जयंतीपुर का अपने ही भाइयों प्राण नाथ व सुभाष के साथ झगड़ा चल रहा है।
मंगलवार सुबह पप्पू, उसके बेटे अमनदीप उर्फ दीपू व भतीजे साहिल उर्फ कालू ने घर की छत से फायरिंग कर दी। बड़े तो किसी तरह दीवार का सहारा लेकर बच गए, लेकिन आठ साल का कार्तिक पेट और बाजू में छर्रे लगने से जख्मी हो गया। घटना के बाद पुलिस और कांग्रेसी नेता लाली मजीठिया पहुंचे। पुलिस ने पप्पू को मौके पर पकड़ लिया। लेकिन भतीजा व बेटा भाग निकले। जिस समय लाली घर के अंदर परिवार से बात कर रहे थे तो उसी समय पप्पू जयंतीपुर का परिवार समर्थकों के साथ पहुंच गया और लाली के काफिले की गाड़ियां भी तोड़ीं और एक बार फिर परिवार पर फायरिंग कर दी।
मजीठिया मुझे मरवाना चाहता था: लाली
लाली मजीठिया ने आरोप लगाया है कि दूसरी बार आई भीड़ का टार्गेट वह थे। यह साजिश बिक्रम मजीठिया ने रची थी। उन्होंने आरोप लगाया कि पप्पू जयंतीपुर बिक्रम मजीठिया का गुंडा है और उस पर कई मामले पहले भी दर्ज हैं।
लाली ने ललकारे मार भीड़ को उकसाया:मजीठिया
बिक्रम मजीठिया ने प्रो. सरचांद सिंह के जरिए बताया, जयंतीपुर झगड़े का लाली खुद जिम्मेदार है। पारिवारिक झगड़े में उन्हें जाना ही नहीं चाहिए था। अगर गए थे तो उन्हें अपने साथ 50 के करीब समर्थक नहीं लेकर जाने चाहिए थे। वहीं लाली मजीठिया ने खुद ललकारे मारकर भीड़ को उकसाया था।

 

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1781047

Site Designed by Manmohit Grover