You are here:

भारतीय महिलायें चौथा वनडे हारी, सीरीज बराबर

इंग्लैंड महिला टीम ने चौथे एक दिवसीय क्रिकेट मैच में भारत को तीन विकेट से हराकर पांच मैचों की श्रृंखला में 2–2 से बराबरी कर ली। पहले दो वनडे हारने के बाद इंग्लैंड की महिलाओं ने शानदार वापसी करते हुए लगातार दो मैच जीते। भारतीय बल्लेबाज एक बार फिर नाकाम रहे और नौ विकेट पर 173 रन ही बना सके। कप्तान मिताली राज ने 58 और हरमनप्रीत कौर ने 55 रन बनाये। इन दोनों के अलावा पूनम राउत ने 27 रन का योगदान दिया। मेजबान टीम ने एक ओवर शेष रहते लक्ष्य हासिल कर लिया। सारा टेलर ने 43 और जेनी गन ने नाबाद 36 रन बनाये। भारत के लिये एन निरंजना ने तीन और एकता बिष्ट ने दो विकेट लिये।

   

पेस-वेस्नीना की जोड़ी विंबलडन फाइनल में हारी

लिएंडर पेस और एलेना वेस्नीना की जोड़ी को अपने पहले ग्रैंडस्लैम खिताब के लिए और इंतजार करना पड़ेगा क्योंकि उन्हें कल यहां विंबलडन टेनिस प्रतियोगिता के मिश्रित युगल के फाइनल में माइक ब्रायन और लिसा रेमंड के हाथों शिकस्त का सामना करना पड़ा। भारत और रूस की चौथी वरीय जोड़ी को खिताबी मुकाबले में अमेरिकी की दूसरी वरीय जोड़ी के हाथों दो घंटे और चार मिनट में 3–6, 7–5, 4–6 से शिकस्त झेलनी पड़ी। इस साल यह दूसरा मौका है जब इस जोड़ी को ग्रैंडस्लैम फाइनल में शिकस्त झेलनी पड़ी है। भारत और रूस की यह जोड़ी इससे पहले जनवरी में आस्ट्रेलियाई ओपन के फाइनल में भी बेथानी माटेक सैंड्स और होरिया तिकाऊ से हार गई थी। हार के बावजूद विंबलडन से पहले यह पेस का जानदार प्रदर्शन रहा जबकि टूर्नामेंट से पहले उन्हें ओलंपिक के लिए चयन विवाद से गुजरना पड़ा था। पेस को कम रैंकिंग वाले विष्णु वर्धन के साथ जोड़ी बनाने के लिए बाध्य होना पड़ा जब महेश भूपति और रोहन बोपन्ना ने उनके साथ खेलने से इनकार कर दिया। पेस ने मिश्रित युगल के लिए सानिया मिर्जा के साथ जोड़ी बनाई है।

   

निशानेबाजों से एक बार फिर होगी पदक की आस

भारतीय निशानेबाजों ने हाल के वर्षोंं में शानदार प्रदर्शन किया है और चार साल पहले बीजिंग में अभिनव बिंद्रा के स्वर्ण पदक के बाद आगामी लंदन ओलंपिक में देश को निशानेबाजों से एक बार फिर अच्छे प्रदर्शन की उम्मीदें होगी। बिंद्रा, गगन नारंग और रंजन सोढ़ी जैसे भारत के स्टार निशानेबाजों ने लंदन खेलों से पहले ट्रेनिंग को अधिक तवज्जो दी है और बयानबाजी से बचे हैं क्योंकि उन्हें पता है कि किसी भी अन्य चीज से अधिक मायने प्रतियोगिता के दिन उनके स्कोर रखेंगे। राष्ट्रीय कोच सनी थामस के शब्दों में 27 जुलाई से शुरू हो रहे ओलंपिक के दौरान भारतीय अपना स्तर बढ़ाने को बेताब होंगे। दुनिया के शीर्ष निशानेबाजों के बीच भारत की ओर से पदक के प्रबल दावेदार गत चैम्पियन बिंद्रा, नारंग और सोढ़ी होंगे। इन तीनों को भारत की ओर से पदक के प्रबल दावेदारों के रूप में देखा जा रहा है। अन्य भारतीय निशानेबाजों में भी प्रतिभा की कोई कमी नहीं है और अपने दिन किसी भी विरोधी को हराने में सक्षम हैं।

   

गंभीर रूप से बीमार बच्चों के लिये काम करेंगे युवराज

नई दिल्ली। कैंसर जैसी घातक बीमारी से सफलतापूर्वक उबरने वाले भारतीय क्रिकेट स्टार युवराज सिंह अब आस्ट्रेलिया के महान लेग स्पिनर शेन वार्न के साथ मिलकर गरीब और गंभीर रूप से बीमार बच्चों के लिये काम करेंगे। वार्न ने शनिवार को माइक्रो ब्लागिंग वेबसाइट ट्विटर पर युवराज को अपने संगठन ‘द शेन वार्न फाउंडेशन’ से जुड़ने का न्यौता दिया जिसे युवराज ने सहर्ष स्वीकार कर लिया। वार्न ने ट्विटर पर युवराज से कहा, ‘‘आपको दुबारा वापसी करते हुये देखकर बहुत खुशी हो रही है। बहुत अच्छा। आशा करता हूं कि आपके लिए सब कुछ ठीक होगा। कृपया मेरे संगठन ‘द शेन वार्न फाउंडेशन’ को देखिये।’’ इसके जवाब में युवराज ने वार्न से कहा, ‘‘धन्यवाद दोस्त। आशा करता हूं कि आप और आपका परिवार बहुत अच्छे से होगा। मैं आपके संगठन को देखूंगा।’’ इस पर वार्न ने युवराज को साथ मिलकर काम करने का प्रस्ताव दिया। उन्होंने कहा, ‘‘मेरे मित्र चलो मिलकर कुछ करते हैं।’’ युवराज ने वार्न के इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया और कहा ‘निश्चित रूप से आपके साथ काम करना मेरे लिये सम्मान की बात होगी।’’ उल्लेखनीय है कि विश्व कप 2011 में प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट रहे युवराज ने कल घोषणा की थी कि वे कैंसर रोगियों के लिये काम करेंगे ताकि उनके अंदर हीनभावना नहीं पनपे। उनके संगठन ने शनिवार को इस संबंध में एक अभियान भी शुरू किया।

   

पेस और वेस्नीना की जोड़ी मिश्रित युगल के फाइनल में

लंदन। लिएंडर पेस और एलेना वेस्नीना ने बाब ब्रायन और लिजेल हबर की शीर्ष वरीय जोड़ी को हराकर उलटफेर करते हुए विंबलडन टेनिस चैम्पियनशिप के मिश्रित युगल के फाइनल में जगह बनाई। भारत और रूस की चौथी वरीय जोड़ी ने सेमीफाइनल में अमेरिकी प्रतिद्वंद्वी जोड़ी को एक घंटे और 48 मिनट में 7–5, 3–6, 6–3 से हराया। पेस और वेस्नीना की जोड़ी इस साल दूसरी बार ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची है। यह जोड़ी इससे पहले आस्ट्रेलियाई ओपन के फाइनल में भी पहुंची थी लेकिन उसे बेथानी माटेक सेंड्स और होरिया तेकाऊ के हाथों शिकस्त का सामना करना पड़ा था। पहले सेट में कड़ी चुनौती देखने को मिली और दोनों जोड़ियां एक समय 5–5 से बराबर चल रही थी। पेस और वेस्नीना ने 2–4 के स्कोर पर अपनी सर्विस गंवाई लेकिन अगले ही गेम में विरोधी जोड़ी की सर्विस तोड़ दी। भारत और रूस की जोड़ी ने इसके बाद 11वें गेम में ब्रेक हासिल किया और फिर अपनी सर्विस पर सेट जीतकर 1–0 की बढ़त बना ली। अमेरिकी जोड़ी ने दूसरे सेट में मजबूत वापसी की और शुरूआती गेम में ही सर्विस तोड़ने के बाद मैच को आसानी से तीसरे और निर्णायक सेट तक खींच दिया। पेस और वेस्नीना ने तीसरे सेट में धीमी शुरूआत की। इस जोड़ी ने पहले गेम में ही ब्रेक प्वाइंट बचाया और फिर चौथे गेम में अमेरिकी जोड़ी की सर्विस तोड़ने के बाद 4–1 की मजबूत बढ़त बना ली। भारत और रूस की जोड़ी को इसके बाद सेट और मैच अपने नाम करने में अधिक मशक्कत नहीं करनी पड़ी।

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1802698

Site Designed by Manmohit Grover