You are here:

सानिया मिर्जा की नजरें अब करियर स्लैम पर, वर्ष 2016 को बताया शानदार

मुंबई. भारत की स्टार टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा ने कहा कि उन्होंने 2016 में शानदार नतीजों का लुत्फ उठाया और अगर वह अगले साल करियर स्लैम पूरा कर पाई तो यह बेहतरीन होगा। सानिया के नाम महिला युगल और मिश्रित युगल में तीन-तीन ग्रैंडस्लैम खिताब दर्ज हैं।
सानिया ने कहा है कि यह मेरे लिए अविश्वसनीय साल रहा, एक बार फिर साल का अंत नंबर एक के रूप में किया, आठ टूर्नामेंट जीते, ग्रैंडस्लैम जीता, एक अन्य के फाइनल में पहुंची। मैं इससे बेहतर साल की उम्मीद नहीं कर सकती थी। इसलिए यह शानदार साल रहा और नंबर एक बनकर खुश हूं। नंबर एक के रूप में अंत करना मेरे लिए गौरवपूर्ण लम्हा है।
एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि मैं अगले साल ग्रैंडस्लैम जीतना पसंद करूंगी। अगर ऐसा हुआ कि मैंने महिला युगल फ्रेंच ओपन जीता, तो यह बेहतरीन होगा। अगर ऐसा नहीं हुआ तो मैं अपना अंत नहीं करूंगी। मुझे विंबलडन के मिश्रित युगल खिताब की कमी भी खल रही है। लगातार तीन साल कम से कम एक ग्रैंडस्लैम खिताब जीतना शानदार है।
अपनी नई साझेदार बारबरा स्ट्राइकोवा का साथ बरकरार रखने के सवाल पर सानिया ने कहा कि उनकी साझेदार बदलने की कोई योजना नहीं है। स्ट्राइकोवा एकल भी खेलती हैं इसलिए साझेदार बदलने की बात उठी।
स्विट्जरलैंड की महान खिलाड़ी मार्टिना हिंगिस के साथ साझेदारी पर सानिया ने कहा कि यह 'बेजोड़' थी। उन्होंने कहा कि काफी लोग वह हासिल नहीं कर पाते जो हम दोनों ने हासिल किया। इसलिए यह बेजोड़ साझेदारी थी और कोर्ट पर और इसके बाहर हमारा रिश्ता भी। बेशक मैंने उससे सीखा क्योंकि वह अधिक अनुभवी है।

   

जडेजा ने बनाया अनूठा रिकार्ड, दुनिया के पहले खिलाड़ी बने

जयपुर। ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा एक टेस्ट मैच में अर्धशतक बनाने, 10 विकेट लेने और चार कैैच लपकने दुनिया के पहले खिलाड़ी बन गए हैं।
आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में दूसरे स्थान पर पहुंचे जडेजा ने चेन्नई में इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें और अंतिम टेस्ट में मैच विजय प्रदर्शन करते हुए 51 रन बनाए, कुल 10 विकेट लिए और चार कैच लपके।
जडेजा ने इंग्लैंड की पहली पारी में तीन विकेट और दूसरी पारी में सात विकेट लिए। जडेजा का दूसरी पारी में प्रदर्शन उनके करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था। जडेजा ने अपने करियर में पहली बार एक टेस्ट मेें 10 विकेट हासिल किए।
जडेजा ने 154 रन देकर 10 विकेट लिए। जडेजा के नाम सीरीज में कुल 26 विकेट रहे। टेस्ट रैैंकिंग में दुनिया के नंंबर तीन ऑलराउंडर जडेजा टेस्ट इतिहास के पहले ऐसे खिलाड़ी बन गये हैं जिन्होंने एक टेस्ट मैच में अर्धशतक बनाने,10 विकेट लेने और चार कैैच लपकने का कारनामा दिखाया है।
वह पूर्व कप्तान कपिल देेव के बाद दूसरे ऐसे भारतीय खिलाड़ी हैं जिन्होंने एक मैच में 50 रन और 10 विकेट लिये हैं। कपिल ने 1979-80 में पाकिस्तान के खिलाफ चेन्नई में ही यह कारनामा किया था।
चेन्नई टेस्ट में जडेजा ने इंग्लैंड के कप्तान एलेस्टेयर कुक को सीरीज में छठी बार आउट किया। एक सीरीज में किसी बल्लेबाज को किसी भारतीय गेंदबाज द्वारा सर्वाधिक बार आउट किये जाने का यह नया रिकार्ड है।
भारतीय टेस्ट इतिहास में 20 अन्य मौके हैैं जब किसी भारतीय गेंदबाज ने एक सीरीज में पांच बार आउट किया है। ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने इस सीरीज में बेन स्टोक्स को पांच बार आउट किया था।

   

5th TEST Day-4: करुण नायर ने जड़ा करियर का पहला शतक

चेन्नई, इंग्लैंड के खिलाफ जारी टेस्ट सीरीज के आखिरी मैच के चौथे दिन भारतीय क्रिकेट टीम के बल्लेबाज करुण नायर ने करियर का पहला शतक लगाया। नायर ने शानदार बैटिंग करते हुए 8 चौके और एक छक्के की मदद से 103 रन बनाए। नायर ने केएल राहुल के साथ मिल कर 161 रनों की साझेदारी की। वहीं मुरली विजय के साथ उनकी अभी तक 63 रनों की साझेदारी हो चुकी है।  
करुण नायर (103) और मुरली विजय (29) क्रीज पर जमे हुए हैं। खबर लिखने तक टीम इंडिया ने 4 विकेट पर 435 रन बना लिए थे। भारत अभी भी इंग्लैंड के स्कोर से 42 रन पीछे है।
इससे पहले लोकेश राहुल (199) की नायाब शतकीय पारी की बदौलत इंग्लैंड को ठोस जवाब देते हुए एम. ए. चिदंबरम स्टेडियम में चल रहे पांचवें टेस्ट मैच के तीसरे दिन रविवार को चार विकेट खोकर 391 रन बना लिए। भारतीय टीम पूरे दिन इंग्लैंड पर हावी रही और अब पहली पारी के आधार पर मेजबान टीम सिर्फ 86 रन दूर रह गई है।
दिन का खेल खत्म होने तक करुण नायर 71 और मुरली विजय 17 रन बनाकर नाबाद लौटे। राहुल दिन के आखिरी विकेट के तौर पर पवेलियन लौटे। वह बेहद दुर्भाग्यशाली रहे और सिर्फ एक रन से दोहरे शतक से चूक गए। हालांकि उन्होंने अपने टेस्ट करियर का सवोर्च्च स्कोर हासिल किया।
199 रन पर आउट होने वाले नौवें बल्लेबाज बने राहुल
राहुल ने 311 गेंदों की अपनी नायाब पारी में 16 चौके और तीन छक्के भी जड़े। वह शानदार लय में नजर आ रहे थे, लेकिन आदिल राशिद की ऑफ स्टम्प से बाहर और नीची रही गेंद पर गलत शॉट खेल बैठे। कवर प्वाइंट पर खड़े जोस बटलर ने उनका आसान कैच लपका। वो 372 के स्कोर पर पवेलियन लौटे।
भारतीय टीम ने दिन के पहले सेशन में पार्थिव पटेल (71) का विकेट गंवाया, जबकि दूसरे सेशन में चेतेश्वर पुजारा (16) और कप्तान विराट कोहली (15) के विकेट गिरे।

   

AUSvsPAK : ब्रिस्‍बेन टेस्‍ट में पाकिस्‍तान का संघर्ष बेकार गया, इतिहास रचने से चूका, ऑस्‍ट्रेलिया 39 रन से जीता

ब्रिसबेन: पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के बीच ब्रिस्बेन में खेला जा रहा डे-नाइट टेस्ट रोमांचक संघर्ष के बाद ऑस्‍ट्रेलिया ने 39 रन से जीत लिया है. पाकिस्‍तानी टीम का आखिरी विकेट यासिर शाह (Yasir Shah) के रूप में गिरा जो 33 रन बनाने के बाद रन आउट हुए.राहत अली एक रन बनाकर नाबाद रहे. इससे पहले  शतकवीर असद शफीक (Asad Shafiq) के अाउट होने से ऑस्‍ट्रेलिया ने राहत की सांस ली थी. शफीक (137) के रूप में पाक का नौवां विकेट गिरा था.पाकिस्‍तान की दूसरी पारी 450 रन पर समाप्‍त हुई. वैसे पाकिस्‍तान हारा जरूर लेकिन उसने ऑस्ट्रेलिया को संघर्ष के लिए मजबूर कर दिया. एक समय उसके बल्‍लेबाजों ने जीत की उम्‍मीद जगा दी थी.
पाकिस्‍तान का स्‍कोर आज जैसे ही 400 रन के पार हुआ, ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के प्रशंसकों की दिल की धड़कन तेज होने लगी. पाक टीम ने आज 8 विकेट पर 382 रन से आगे खेलना शुरू किया था. असद शफीक ने पुछल्‍ले यासिर शाह के साथ नौवें विकेट के लिए 71 रन की साझेदारी निभाकर मेजबान टीम की मुश्किलें बढ़ा दी थीं. ऐसे में स्‍ट्राइक बॉलर मिचेल स्‍टार्क टीम के लिए बेहद अहम कामयाबी लेकर आए जब उन्‍होंने असद शफीक को वार्नर के हाथों कैच करा दिया. शफीक की यादगार पारी में 13 चौके और एक छक्‍का शामिल था. इसी ओवर में यासिर शाह के रन आउट होते पाकिस्‍तान की चुनौती ने 450 के स्‍कोर पर दम तोड़ दिया और ऑस्‍ट्रेलियाई खिलाड़ी खुशी से झूम उठे.
वैसे पाकिस्‍तान ने अपनी जबर्दस्‍त संघर्ष क्षमता से मैदान में मौजूद दर्शकों के अलावा टीवी पर मैच देख रहे क्रिकेटप्रेमियों का भी दिल जीता. पहली पारी में महज 142 रन पर ढेर होने वाले पाकिस्तान के बल्लेबाजों ने दूसरी पारी में जबर्दस्त लड़ाकू क्षमता दिखाई और हर विकेट के लिए ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को संघर्ष के लिए मजबूर किया. पाकिस्तान की दूसरी पारी में ओपनर अजहर अली ने 71,अनुभवी यूनुस खान ने 65 और असद शफीक ने 137 रन का योगदान दिया. वैसे, पाकिस्तान को इस रनसंख्या तक पहुंचने में ऑस्ट्रेलिया के फील्डरों का भी भरपूर योगदान रहा. मैच के अंतिम दिन आज भी ऑस्‍ट्रेलिया ने पाकिस्‍तान के यासिर शाह को जीवनदान दिया जब हेजलवुड की गेंद पर नाथन लायन उनका कैच नहीं लपक पाए. मैच के चौथे दिन भी ऑस्ट्रेलिया की ग्राउंड फील्डिंग स्तरीय नहीं रही थी. शतकवीर शफीक का ही मेजबान टीम के कप्तान स्टीव स्मिथ ने आसान कैच छोड़ा.
तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर ने न सिर्फ 48 रनों की पारी खेली बल्कि शफीक के साथ 92 रनों की साझेदारी निभाई. शफीक ने बाद में वहाब रियाज के साथ भी 56 रन की साझेदारी की. इंग्लैंड की ओर से मिचेल स्टार्क ने चार, जे. बर्ड ने तीन और नाथ लियोन ने दो विकेट लिए.
संक्षिप्त स्कोर- ऑस्ट्रेलिया: 429 और 5 विकेट पर 202 रन (पारी घोषित), पाकिस्तान: 142 और 450 रन.

   

एटीके ने शूटआउट में केरला ब्लास्टर्स को हराकर दूसरा आईएसएल खिताब जीता

कोच्चि, एटलेटिको डि कोलकाता रविवार को केरला ब्लास्टर्स को पेनाल्टी शूटआउट में 4-3 से शिकस्त देकर तीन साल में दूसरी बार इंडियन सुपर लीग चैम्पियन बना। दोनों टीमें निर्धारित समय तक 1- 1 से बराबरी पर थी, अतिरिक्त समय के बाद भी दोनों में से कोई गोल नहीं कर सका। जिससे 120 मिनट के बाद यह मुकाबला शूटआउट में चला गया। केरल के लिए निर्धारित समय में मोहम्मद रफीक ने जबकि कोलकाता के लिये हेनरिक सरनो ने गोल किया था। एटीके के सह मालिक सौरव गांगुली संजीव गोयंका के साथ काफी खुश थे जिनकी फ्रेंचाइजी ने साथी खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर की टीम को शिकस्त दी।
भारतीय अंतरराष्ट्रीय टीम के खिलाड़ी जेवेल राजा ने जब पांचवीं पेनाल्टी पर गोल किया तो 55000 दर्शकों की क्षमता वाले नेहरू स्टेडियम में चुप्पी छा गई। 2014 के फाइनल में भी एटलेटिको डि कोलकाता ने केरला ब्लास्टर्स को मुंबई में 1-0 से शिकस्त दी थी। यह इंडियन सुपर लीग के तीन चरणों में पहला पेनल्टी शूटआउट था। जेवेल राजा के अलावा शूटआउट में समीघ दौते, बार्जो फर्नांडीज और जेवियर लारा ने गोल किए जबकि इयेन हुमे का शाट केरल के गोलकीपर ग्राहम स्टैक ने रोक दिया। केरल की टीम ने आज के मैच से पहले लगातार छह जीत दर्ज की थी, उसके लिये अंटोनियो जर्मन, केरवेंस बेलफोर्ट और मोहम्मद रफीक ने गोल किये जबकि इल्हादजी एनडोए और सेड्रिक हेंगबार्ट लक्ष्य से चूक गए। एटलेटिको डि कोलकाता के टूनार्मेंट के दूसरे सर्वाधिक गोल करने वाले खिलाड़ी हुमे आज मैच के ज्यादातर हिस्से में शांत ही दिखे क्योंकि केरला के डिफेंडरों ने उन्हें कोई मौका नहीं लेने दिया।
मेहमान टीम के मार्की खिलाड़ी हेल्डर पोस्टिगा फार्म में नहीं लग रहे थे, 68वें मिनट में उनकी जगह दूसरे खिलाड़ी को लाया गया। केरल के फारवर्ड सीके विनीत और डकेन्स नाजोन भी प्रभावित नहीं कर सके जबकि वे फाइनल से घरेलू स्थल पर पहले शीर्ष फार्म में थे जहां घरेलू दर्शक उन्हें चीयर करने आते थे। दोनों टीमों की शुरुआती एकादश में कोई बदलाव नहीं किया।

   

aaj ki khaber

Epaper

राष्ट्रीय संस्करण

हरियाणा प्लस

सिरसा संस्करण

 


YOU ARE VISITOR NO.1785546

Site Designed by Manmohit Grover