पंजाबराष्ट्रीयसमाचारहरियाणा

किसानों की मांग : कानून खत्म करने के लिए संसद सत्र बुलाओ

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन बुधवार को 7वें दिन भी जारी है। किसानों ने शाम करीब सवा पांच बजे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। क्रांतिकारी किसान यूनियन के अध्यक्ष दर्शन पाल ने कहा कि सरकार कानूनों को खत्म करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाए। उन्होंने कहा कि 5 दिसंबर को मोदी सरकार और कॉरपोरेट घराने के खिलाफ पूरे देश में प्रदर्शन किए जाएंगे। भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष स्वराज सिंह ने कहा कि हम सड़क पर नहीं बैठे हैं। प्रशासन ने बैरिकेड्स और जवान खड़े करके हमारा रास्ता रोका है और इसीलिए हम यहां रुके हैं। हमें यह जगह अस्थाई जेल जैसी लगती है और हमें रोका जाना गिरफ्तारी की तरह है। हम जैसे ही यहां से छूटे तो सीधा दिल्ली जाएंगे। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और रेल मंत्री पीयूष गोयल, जो मंगलवार को किसानों को मनाने में नाकाम रहे थे, वो आज गृह मंत्री अमित शाह से उनके घर पर मिले। दोनों मंत्रियों ने मंगलवार को किसानों से हुई बातचीत का अपडेट शाह को दिया। वहीं किसान आंदोलन की सफलता के लिए भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) के नेताओं ने गाजीपुर बॉर्डर पर हवन किया। दिल्ली-यूपी बॉर्डर (गाजीपुर-गाजियाबाद) पर जमा किसानों ने आज सुबह बैरिकेड धकेल कर हटा दिए। पुलिस ने दिल्ली-हरियाणा के टिकरी बॉर्डर के साथ-साथ आज झारोदा और झटीकरा बॉर्डर को पूरी तरह बंद कर दिया है। बडुसराय बॉर्डर से सिर्फ टू-व्हीलर के मूवमेंट की परमिशन है। पुलिस ने बुधवार सुबह नोएडा लिंक रोड पर स्थित चिल्ला बॉर्डर भी बंद कर दिया। गौतम बुद्ध गेट पर किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए यह फैसला लिया। बाद में दोपहर करीब 3 बजे दिल्ली-नोएडा बॉर्डर खोल दिया गया। महाराष्ट्र के किसान संगठनों ने आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा है कि सरकार 3 दिसंबर तक कृषि कानूनों से जुड़ी चिंताएं दूर करे। ऐसा नहीं हुआ तो वे दिल्ली कूच करेंगे।


किसान आंदोलन के समर्थन में आए ट्रांसपोर्टर, 8 दिसंबर से आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई रोकने की दी धमकी
तीन कृषि बिलों को लेकर जारी किसान आंदोलन के समर्थन में उतरे ट्रांसपोर्टरों ने आगामी 8 दिसंबर से देशव्यापी हड़ताल पर जाने का आह्वान किया है। ट्रांसपोर्ट यूनियनों ने किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए बुधवार को उत्तर भारतीय राज्यों में और बाद में पूरे देश में आवश्यक वस्तुओं की आवाजाही को रोकने की धमकी दी है।
ये टे्रनें हुईं रद्द व डायवर्ट
किसानों के आंदोलन को देखते हुए नॉर्दन रेलवे ने अजमेर-अमृतसर एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन (09613) को आज रद्द कर दिया है। गुरूवार को अमृतसर-अजमेर एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन (09612) और अमृतसर-डिब्रूगढ़ स्पेशल ट्रेन (05212) रद्द रहेगी। भटिंडा-वाराणसी एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन (04998/04997) अगले आदेश तक कैंसिल रहेगी। नांदेड-अमृतसर एक्सप्रेस (02715) आज दिल्ली तक और बांद्रा-अमृतसर एक्सप्रेस (02925) चंडीगढ़ तक ही चलेगी। अमृतसर-जयनगर एक्सप्रेस (04650/74) और दुर्ग-जम्मू तवी (08215) एक्सप्रेस का रूट डायवर्ट किया गया है।

banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *