राष्ट्रीयसमाचार

मस्जिद विध्वंस : जोशी, उमा सहित सभी आरोपी बरी

नई दिल्ली। बाबरी विध्वंस केस में बीजेपी के वयोवृद्ध नेता लालकृष्ण आडवाणी समेत तमाम 32 आरोपियों को अदालत से बाइज्जत बरी कर दिया गया। इस फैसले के बाद बीजेपी में खुशी की लहर दौड़ गई है। लखनऊ की सीबीआई अदालत ने आज फैसला सुनाते हुए कहा कि 6 दिसंबर, 1992 की घटना के पीछे कोई साजिश नहीं थी। अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश एस के यादव ने फैसला सुनाते हुए कहा, घटना पूर्वनियोजित नहीं थी। सीबीआई ने जो वीडियो दाखिल की थी, उसे कोर्ट ने टैंपर्ड माना। कोर्ट ने कहा कि वीडियो को सीलबंद लिफाफे में नहीं जमा किया गया था।
अदालत से बाइज्जत बरी हुए ये 32 आरोपी
आज लखनऊ स्थित सीबीआई की विशेष अदालत ने जिन 32 आरोपियों को बरी किया गया, उनमें लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, महंत नृत्य गोपाल दास, कल्याण सिंह, उमा भारती, विनय कटियार, साध्वी ऋतंभरा, रामविलास वेदांती, धरम दास, सतीश प्रधान, चंपत राय, पवन कुमार पांडेय, ब्रज भूषण सिंह, जय भगवान गोयल, महाराज स्वामी साक्षी, रामचंद्र खत्री, अमन नाथ गोयल, संतोष दुबे, प्रकाश शर्मा, जयभान सिंह पवेया, विनय कुमार राय, लल्लू सिंह, ओमप्रकाश पांडेय, कमलेश त्रिपाठी उर्फ सती दुबे, गांधी यादव, धर्मेंद्र सिंह गुर्जर, रामजी गुप्ता, विजय बहादुर सिंह, नवीन भाई शुक्ला, आचार्य धर्मेंद्र देव, सुधीर कक्कड़और रविंद्र नाथ श्रीवास्तव शामिल हैं।

About Post Author

banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *