Thursday, December 3
राष्ट्रीयसमाचार

प्लास्टिक की बोतलों के बजाय मिट्टी के घड़ों का करें प्रयोग : प्रधानमंत्री


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मध्य प्रदेश के स्ट्रीट वेंडर्स के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद किया। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और सरकार के सभी मंत्री भी मौजूद थे। प्रदेश के विभिन्न स्थानों से जुड़े स्ट्रीट वेंडर्स से पीएम मोदी ने कहा कि अगर आप डिजिटल लेन-देन करेंगे तो आपके खाते में सरकार की ओर से इनाम के रूप में कुछ पैसे कैशबैक के रूप में भेजे जाएंगे। भारत सरकार ने 1 जून, 2020 को प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना की शुरूआत की थी, ताकि कोरोना वायरस से प्रभावित रेहड़ी पटरी वाले दुकानदारों को सहायता दी जाएगी और उन्हें दोबारा रोजगार से जोड़ा जाएगा। पीएम मोदी ने स्ट्रीट वेंडर्स से कोरोना काल में सतर्क रहने की अपील की। पीएम मोदी ने कहा कि अब जब आप नए सिरे से अपने व्यवसाय को शुरु कर रहे हैं, तब आपको कुछ सावधानियां बरतनी होंगी। जब तक कोरोना की वैक्सीन नहीं आ जाती, तब तक आपको अपनी और अपने ग्राहकों की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखना है। मास्क, साफ सफाई, दो गज की दूरी, इन सभी को अपनाना ही है।

गरीबों की समस्या दूर करना सरकार का कर्तव्य ऑनलाइन मार्केट से जुड़ेंगे गांव
उन्होंने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी के दौरान पहले दिन से सरकार और देश का ये प्रयास रहा है कि गरीब की जितनी दिक्कतें हैं उसको कम करने के लिए हम सक्रिय रूप से प्रयास करें। प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना का मकसद है कि रेहड़ी पटरी वाले लोग नई शुरुआत कर सकें, अपना काम फिर शुरू कर सकें, इसके लिए उन्हें आसानी से पूंजी मिले। उन्हें अधिक ब्याज देकर पूंजी न लानी पड़े। हमारे देश में गरीबी हटाने की बहुत बातें हुईं लेकिन जिस प्लानिंग के तहत पिछले 6 सालों में कार्य हुए, अनेक नई पहल की गई हैं, वह पहले कभी नहीं हुआ। सरकार की योजनाओं का सही फायदा अब गरीबों को मिल रहा है। गरीबों का जनधन बैंक खाता खुला है, उन्हें बिना रिश्वत आवास मिल रहे हैं, रसोई गैस सिलेंडर मिल रहे हैं। हमारा गरीब इन वर्षों में जिस तरह बैंकिंग से जुड़ा है, उसने एक नई शुरुआत की है। बहुत जल्द हमारे गांव भी ऑनलाइन मार्केट से जुड़ेंगे। पीएम ने कहा, बीते 3-4 साल के दौरान देश में डिजिटल लेनदेन का चलन तेज़ी से बढ़ा है। ग्राहक मौजूदा परिस्थितियों में नकद रुपये लेने और देने से बचते हैं। मैं चाहता हूं कि रेहड़ी-पटरी वाले भी डिजिटल लेनदेन से पीछे न हटें। बैंकों और डिजिटल पेमेंट की सुविधा देने वालों के साथ मिलकर एक नई शुरुआत की गई है। बैंको और संस्थाओं के प्रतिनिधि रेहड़ी, ठेले पर आएंगे और क्यूआर कोड देंगे। इसका उपयोग कैसे करना है, ये भी बताएंगे। स्वनिधि योजना में 7 फीसद की ब्याज में छूट दी जा रही है और आपने डिजिटल ट्रांजैक्शन करने के साथ कुछ अन्य बातों का ध्यान रखा तो सरकार आपके खाते में प्रोत्साहन के रूप में कुछ रुपये और डालेगी। यह इतना होगा कि आपका पूरा ऋण ब्याजमुक्त हो जायेगा।

banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *